अगर भारत और पाकिस्तान के बीच हुआ परमाणु युद्ध तो मारे जाएंगे 12.5 करोड़ लोग

Last Updated: शुक्रवार, 4 अक्टूबर 2019 (10:40 IST)
हमें फॉलो करें
वॉशिंगटन। जम्मू कश्मीर से धारा 370 हटाने के फैसले के बाद कई बार को की धमकी दे चुका है। हालांकि अगर दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध होता है तो अंजाम कितना भयवाह होगा, इसकी कल्पना पाक पीएम इमरान खान ने भी नहीं की होगी।
जर्नल साइंस एडवांसेज में प्रकाशित एक अध्ययन के अनुसार, अगर दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध होता है, तो 12.5 करोड़ लोग अपनी जान गंवा बैठेंगे। यह आंकड़ा 6 साल तक चले द्वितीय विश्व युद्ध में मारे गए लोगों से भी कई ज्यादा है। इस भयावह युद्ध के बाद वैश्विक व्यापक भुखमरी फैल सकती है।

ALSO READ:

इमरान खान की उलटी गिनती शुरू, सेना कर सकती है तख्तापलट
2025 तक हो सकता परमाणु युद्ध : कश्मीर को लेकर दोनों पड़ोसियों में कई बार युद्ध हो चुका है। इस रिपोर्ट में कहा गया है कि 2025 में दोनों देशों के बीच परमाणु युद्ध भी हो सकता है। इस समय तक दोनों देशों के परमाणु हथियारों की संयुक्त तादाद 400 से 500 होगी।

पुरी दुनिया को होगा नुकसान : शोधकर्ताओं ने दावा किया कि परमाणु हथियार युद्ध के दौरान 16 से 36 मिलियन टन कालिख - छोटे काले कार्बन कणों को धुएं में छोड़ सकते हैं - जो ऊपरी वायुमंडल तक बढ़ सकते हैं और हफ्तों के भीतर दुनिया भर में फैल सकते हैं। यह कालिख, सौर विकिरण को अवशोषित करेगा, इससे हवा गर्म होगी और धुएं का तेजी से विकास होगा।
ठंडी हो जाएगी पृथ्वी की सतह : इस वजह से पृथ्वी तक पहुंचने वाली धूप 20 से 35 प्रतिशत तक घट जाएगी और पृथ्वी की सतह 2 से 5 डिग्री सेल्सियस तक ठंडी हो जाएगी। इतना ही नहीं दुनिया भर में बारिश में भी 15 से 30 फीसदी तक की कमी आ सकती है।
भारत ने पकिस्तान की परमाणु धमकी का दो बार जवाब दिया : इस बीच भारतीय सेना के पूर्व अधिकारी ने गुरुवार को कहा कि भारत को सीमा के नजदीक छिपे आतंकवादियों पर कार्रवाई से रोकने के लिए पाकिस्तान परमाणु हथियार को तुरुप के पत्ते की तरह से इस्तेमाल करता आ रहा था लेकिन सर्जिकल स्ट्राइक और बालाकोट हवाई हमले के बाद इसमें बदलाव आया है।
सेवानिवृत्त लेफ्टिनेंट जनरल अमित शर्मा एवं मेजर जनरल ध्रुव सी कटोच ने कहा कि 2016 में उरी स्थित भारतीय सेना के ठिकाने पर हुए हमले के बाद सर्जिकल स्ट्राइक और इस साल बालाकोट हवाई हमले एवं ‘भारतीय मानसिकता’ में बदलाव पाकिस्तान की परमाणु धमकी से मुकाबले का साधन बना।



और भी पढ़ें :