First Woman Combat Aviator: कैप्टन अभिलाषा बराक बनीं काम्बैट एविएटर, Indian Army में ऐसा करने वाली पहली महिला

abhilasha barak
Last Updated: गुरुवार, 26 मई 2022 (13:16 IST)
हमें फॉलो करें
भारतीय सेना (Indian Army) को बुधवार को आर्मी कॉर्प्स के रूप में अपनी पहली महिला अधिकारी मिली है। कैप्टन अभिलाषा बराक (Captain Abhilasha Barak) ये उपलब्धि हासिल करने वाली पहली महिला बनी है। भारतीय सेना के मुताबिक कैप्टन अभिलाषा बराक ने ट्रैनिंग को सफलतापूर्वक पूरा कर लिया है। जिसके बाद कैप्टन अभिलाषा को कॉम्बैट एविएटर के रूप में आर्मी एविएशन कॉर्प्स में शामिल किया गया है।

भारतीय सेना के अनुसार, कैप्टन अभिलाषा को 36 सेना पायलट के साथ इस प्रतिष्ठित विंग से सम्मानित किया गया है। सेना के मुताबिक 15 महिला अधिकारियों ने आर्मी एविएशन में शामिल होने की इच्छा जताई थी। लेकिन सिर्फ दो अधिकारियों का ही पायलट एप्टीट्यूड बैटरी टेस्ट और मेडिकलल के बाद चयन हो पाया है।

कौन हैं

Abhilasha Barak?

अभिलाषा बराक हरियाणा की रहने वालीं हैं और रिटायर्ड कर्नल की बेटी हैं। बराक को सितंबर 2018 में आर्मी एयर डिफेंस कोर में कमीशन किया गया था। सेना ने कहा कि नासिक स्थित ट्रेनिंग स्कूल में एक विदाई समारोह के दौरान सेना के विमानन महानिदेशक लेफ्टिनेंट जनरल अजय कुमार सूरी की ओर से उन्हें 36 पायलटों के साथ प्रतीक चिन्ह 'विंग्स' से सम्मानित किया गया।

भारतीय वायु सेना और भारतीय नौसेना में काफी लंबे समय से महिला अधिकारी हेलीकॉप्टर उड़ा रही हैं, सेना ने 2021 में इसकी शुरुआत की। आर्मी एविएशन में महिला अधिकारियों को अब तक केवल जमीनी कार्य ही सौंपा जाता था।

अवनि चतुर्वेदी थीं लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला
पिछले साल जून में पहली बार दो महिला अधिकारियों का चयन हेलिकॉप्टर पायलट ट्रेनिंग (Helocopter Pilot Training) के लिए किया गया था। दोनों को नासिक के कॉम्बैट आर्मी एविएशन ट्रैनिंग स्कूल में ट्रेनिंग दी गई थी।
फिलहाल एविएशन डिपार्टमेंट में महिलाओं को एयर ट्रैफिक कंट्रोल और ग्राउंड ड्यूटी की जिम्मेदारी दी जाती है। लेकिन अब ये महिला अधिकारी बतौर पायलट अपनी जिम्मेदारी संभालेंगी। आपको बता दें कि सबसे पहले साल 2018 में वायु सेना की फ्लाइंग ऑफिसर अवनि चतुर्वेदी लड़ाकू विमान उड़ाने वाली पहली भारतीय महिला बनी थीं।

क्या है आर्मी एविएशन कोर?
आर्मी एविएशन कोर को 1986 में 1 नवंबर को एक ग्रुप के तौर पर स्‍थापित किया गया था। एएसी (AAC ) अब अपने अधिकारियों और सैनिकों को सेना के सभी हथियारों से आकर्षित करता है। आर्मी एविएशन कोर के उम्मीदवारों को नासिक में कॉम्बैट आर्मी एविएशन ट्रेनिंग स्कूल (CATS) में प्रशिक्षित किया जाता है। इसका नेतृत्व, नई दिल्ली से महानिदेशक पद के लेफ्टिनेंट जनरल के द्वारा किया जाता है। यह कोर भारतीय सेना में युद्धभूमि सहायता, सैन्य सर्वेक्षण की प्रमुख भूमिकाओं में काम करता है। एविएशन कोर के पास चेतक, रूद्र और ध्रुव जैसे शानदार हेलिकॉप्टर है जिसके जरिये ये कोर अपने मिशन को अंजाम देता है।




और भी पढ़ें :