लखीमपुर खीरी LIVE : सरकार-किसानों में समझौता; मृतकों के परिवार को 45 लाख, 1 सदस्य को सरकारी नौकरी का वादा, 8 दिन में गिरफ्‍त में होंगे आरोपी

अवनीश कुमार| Last Updated: सोमवार, 4 अक्टूबर 2021 (13:29 IST)
लखीमपुर खीरी। उत्तरप्रदेश के उप मुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य के दौरे को लेकर किसानों के विरोध प्रदर्शन के दौरान रविवार को भड़की हिंसा में चार किसानों समेत 8 लोगों की मौत हो गई। इसके बाद पूरे उत्तरप्रदेश में सियासी बवाल मचा हुआ है। यह घटना तिकोनिया कोतवाली क्षेत्र के  तिकोनिया-बनबीरपुर मार्ग पर हुई। हमारे संवाददाता अवनीश कुमार पूरे मामले से जुड़ा हर ताजा अपडेट दे रहे हैं 
 

12:55PM, 4th Oct
सरकार और किसानों में बनी सहमति :  सूत्रों की मानें तो लखीमपुर -किसान और प्रशासन के बीच सहमति बन गई है। मृतक किसान के परिजनों को 45 लाख मुआवजा और एक़ सरकारी नौकरी देने के लिए भी तैयार हो गए हैं। घायलों को 10-10 लाख मुआवजा मिलेगा। साथ ही 8 दिन के अंदर आरोपी की गिरफ्तारी का भरोसा दिलाया। 
HC के रिटायर्ड जज की निगरानी में जांच होगी।
 
लखीमपुरी में लगाई पुलिस जीप को आग : लखनऊ में थाने के सामने जलाई गई पुलिस की जीप। अराजक तत्वों ने जलाई पुलिस की जीप, पुलिस का कहना हिंसा भड़काने के लिए किया गया ऐसा कार्य। समाजवादी पार्टी के कार्यकर्ताओं ने पुलिस पर ही लगाया जीप जलाने का आरोप।
 
मायावती ने साधा निशाना : बीएसपी सुप्रीमो मायावती ने योगी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि बीएसपी के राष्ट्रीय महासचिव व राज्यसभा सांसद एससी मिश्र को कल देर रात यहां लखनऊ में उनके निवास पर नजरबन्द कर दिया गया जो अभी भी जारी ताकि उनके नेतृत्व में पार्टी का प्रतिनिधिमण्डल लखीमपुर खीरी जाकर किसान हत्याकाण्ड की सही रिपोर्ट न प्राप्त कर सके। यह अति-दुःखद व निन्दनीय।
12:05PM, 4th Oct
धारा 144 के उल्लंघन के आरोप में अखिलेश यादव, शिवपाल यादव, रामगोपाल यादव को लखनऊ पुलिस ने पहले लिया था हिरासत में। अब लखनऊ पुलिस ने किया गिरफ्तार। लखनऊ पुलिस कमिश्नर डीके ठाकुर ने भी की गिरफ्तारी की पुष्टि की।
11:34AM, 4th Oct
संयुक्त किसान मोर्चा ने राष्ट्रपति को लिखा पत्र
लखीमपुर खीरी मामले में संयुक्त किसान मोर्चा ने राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद को पत्र लिखा है। इसमें गृह राज्यमंत्री अजय मिश्रा को हटाने, उनके बेटे आशीष मिश्रा पर 302 के तहत हत्या का केस दर्ज करने, जांच के लिए SIT के गठन की मांग की गई है। इसमें हरियाणा मुख्यमंत्री खट्टर पर हिंसा को भड़काने का आरोप लगाया गया है। उनको सीएम पद से हटाया जाना चाहिए।
11:24AM, 4th Oct
आप नेता संजय सिंह को लखीमपुर खीरी जाने से रोका गया। आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी को हिरासत में लिया गया। लखीमपुर जाते समय जयंत हिरासत में लिए गए। पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर जयंत चौधरी को रोका।
 
ट्रेनें निरस्त : लखीमपुर जाने वाली तीन ट्रेनें निरस्त। तत्काल प्रभाव से ट्रेनों को निरस्त किया गया।  लखनऊ, सीतापुर, लखीमपुर बरेली तक जातीं है। सीतापुर में ही रोक दी गई हैं सभी ट्रेनें।
11:22AM, 4th Oct
आरएलडी के राष्ट्रीय अध्यक्ष जयंत चौधरी को हिरासत में लिया गया। लखीमपुर जाते समय जयंत गिरफ्तार किए गए। पुलिस ने बैरिकेडिंग लगाकर जयंत चौधरी को रोका। लखीमपुर जाते समय जयंत को हिरासत में लिया गया।
लखीमपुर जाने वाली तीन ट्रेनें निरस्त तत्काल प्रभाव से ट्रेनों को निरस्त किया गया। लखनऊ, सीतापुर, लखीमपुर बरेली तक जातीं है सीतापुर में ही रोक दी गई हैं सभी ट्रेनें।
11:04AM, 4th Oct
वरुण गांधी ने CM योगी को लिखा पत्र- बोले लखीमपुर मामले की CBI जांच हो
भाजपा के सांसद वरुण गांधी ने राज्य के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ को पत्र लिखकर मामले की जांच केंद्रीय अन्वेषण ब्यूरो (CBI) से कराने और पीड़ित परिवारों के लिए एक करोड़ रूपये मुआवजे की मांग की है। गांधी ने सोमवार को हिंसा में मारे गए किसानों को शहीद बताते हुए उन्हें श्रद्धांजलि दी।

गांधी ने योगी को लिखे पत्र को ट्वीट करते हुए कहा कि लखीमपुर खीरी की हृदयविदारक घटना में शहीद हुए किसानों को श्रद्धांजलि अर्पित करता हूं। इस प्रकरण में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री से सख्त कार्रवाई करने का निवेदन करता हूं। उन्होंने कहा कि लखीमपुर खीरी में प्रदर्शन कर रहे किसानों को कुचलने की घटना हृदयविदारक है। इस घटना से एक दिन पहले ही देश ने अहिंसा के पुजारी महात्मा गांधी की जयंती मनाई थी।

अन्नदाताओं की जिस घटनाक्रम में हत्या की गई वह अक्षम्य है। गांधी ने अपने पत्र में लिखा कि आंदोलनकारी किसान भाई हमारे अपने नागरिक है। अगर कुछ मुद्दों को लेकर किसान भाई पीड़ित हैं और अपने लोकतांत्रिक अधिकारों के तहत विरोध प्रदर्शन कर रहे हैं तो हमें उनके साथ संयम से बर्ताव करना चाहिए।

उन्होंने उत्तरप्रदेश के मुख्यमंत्री से अपील करते लिखा, “इस घटना में शामिल संदिग्धों को तत्काल चिह्नित कर धारा हत्या का मुकदमा कायम कर सख्त से सख्त कार्रवाई की जाए। इससे पहले भी गांधी बीते कई मौकों पर किसान मुद्दों को लेकर अपनी ही पार्टी की भाजपा सरकार की आलोचना करते आए हैं।
 
10:57AM, 4th Oct
लखीमपुर जा रहे हैं शिवपाल यादव को हिरासत में लिया गया। इंजीनियरिंग कॉलेज चौराहे पर हिरासत में लिया गया। पुलिस हिरासत में लेकर पुलिस लाइन के लिए निकली।
10:54AM, 4th Oct
अखिलेश यादव को थाने ले जा रही पुलिस। अखिलेश को गौतमपल्ली थाने ले जाया गया। रामगोपाल यादव को भी गिरफ्तार किया गया।
10:10AM, 4th Oct
लखीमपुर जा रहे समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने लिया हिरासत में। गाड़ी से उतरकर अखिलेश यादव सड़क पर ही बैठ गए धरने पर।

कार्यकर्ताओं से शांति बनाए रखने की अखिलेश यादव कर रहे हैं अपील।

09:27AM, 4th Oct
लखीमपुर खीरी के लिए निकले अखिलेश यादव। अखिलेश यादव के घर पास बड़ी संख्या में पुलिस बल तैनात। शिवपाल यादव के आवास के बाहर फोर्स लगी। शिवपाल के आवास के पास पुलिस ने लगाई बैरिकेडिंग। घर से बाहर जाने वाले रास्तों को किया ब्लॉक। शिवपाल यादव को आज लखीमपुर जाना था।
08:27AM, 4th Oct
कांग्रेसी कार्यकर्ता जमकर कर रहे हैं सरकारों के खिलाफ नारेबाजी। कार्यकर्ता प्रियंका गांधी को रिहा करने की कर रहे हैं मांग। पुलिस और कांग्रेसी कार्यकर्ताओं के बीच जमकर हो रही है नोकझोंक। आज सुबह प्रियंका गांधी को पुलिस ने ले लिया था हिरासत में।
08:23AM, 4th Oct
पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव को पुलिस ने घर में किया नजरबंद। अखिलेश यादव के घर के बाहर पुलिस फोर्स तैनात। गाड़ियों के काफिले को लेकर न निकल सकें। सड़क पर खड़ा किए तिरछे ट्रक। पुलिस ने ट्रक के सहारे की रोड जाम। अखिलेश यादव को आज जाना था लखीमपुर। 
08:22AM, 4th Oct
पूर्व मुख्यमंत्री युवा समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव को पुलिस ने घर में किया नजरबंद। अखिलेश यादव के घर के बाहर पुलिस फोर्स तैनात। गाड़ियों के काफिले को लेकर न निकल सके सड़क पर खड़ा किए तिरछे ट्रक। पुलिस ने ट्रक के सहारे की रोड जाम, अखिलेश यादव को आज जाना था लखीमपुर।
08:20AM, 4th Oct
लखीमपुर जा रहे ही प्रियंका गांधी व दीपेंद्र हुडा के के साथ यूपी पुलिस ने की अभद्रता। बिना किसी आदेश के धक्का-मुक्की व मारपीट पर आमादा हुई यूपी पुलिस। कांग्रेस कार्यकर्ताओं में पुलिस के खिलाफ जमकर रोष। 
प्रियंका गांधी से मिलने की जिद पर अड़े कांग्रेसी कार्यकर्ता कर रहे हैं जमकर बवाल। कांग्रेस कार्यकर्ताओं और पुलिस में हो रही है झड़प। PAC में घुसने की कोशिश कर रहे कांग्रेसी कार्यकर्ता।द्वितीय वाहिनी पीएसी में प्रियंका गांधी मौजूद। प्रियंका से मिलने की जिद पर अड़े कार्यकर्ता। सड़कों पर पुलिस में योगी सरकार के खिलाफ जमकर हो रही नारेबाजी।
08:13AM, 4th Oct
केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष सहित 15 के खिलाफ दर्ज हुई FIR
लखीमपुर खीरी के तिकुनिया कांड में पुलिस ने केस दर्ज किया। मंत्री अजय मिश्रा टेनी के बेटे आशीष पर केस दर्ज। 
हत्या की धाराओं में पुलिस ने केस दर्ज किया।  मंत्री पुत्र समेत 15 अज्ञात के खिलाफ केस दर्ज।  लखीमपुर की तिकुनिया पुलिस ने केस दर्ज किया।
07:27AM, 4th Oct
लखीमपुर खीरी में निषेधाज्ञा लागू
लखनऊ पुलिस आयुक्तालय में संयुक्त पुलिस आयुक्त (कानून व्यवस्था) पीयूष मोर्डिया के हस्ताक्षर से रविवार देर रात जारी आदेश में कहा गया कि आज लखीमपुर खीरी जिले में हुई घटना के मद्देनजर वहां शांति व्यवस्था बनाए रखने के लिए धारा 144 (निषेधाज्ञा) लागू कर दी गई है। मोर्डिया ने अपने आदेश में कहा है कि उक्त घटना को लेकर जनपद में राजनीतिक दलों/संगठनों के एकत्र होने से कानून व्यवस्था प्रतिकूल रूप से प्रभावित हो सकती है, इसलिए जनपद खीरी में स्थिति सामान्य होने तक जनपद की सीमा में किसी भी राजनीतिक दल अथवा संगठन के नेताओं/कार्यकर्ताओं के एकत्र होने अथवा प्रदर्शन करने पर रोक लगाई जाती है।
07:16AM, 4th Oct
सुबह 5.30 बजे हिरासत में लिया गया। प्रियंका गांधी को सीतापुर के हरगांव से हिरासत में लिया गया।
07:15AM, 4th Oct
लखनऊ से लखीमपुर पहुंचने के लिए कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी को कार्यकर्ताओं के साथ सड़क पर कड़ा संघर्ष करना पड़ा है और कड़े संघर्ष के बाद उनका काफिला आखिरकार लखीमपुर के लिए रवाना हो गया है। निजी गाड़ी से लखीमपुर के लिए निकली राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने एक वीडियो जारी करते हुए योगी सरकार पर निशाना साधा है और उन्होंने कहा है कि जिस तरह से इस देश में किसान को कुचला जा रहा है,उसके लिए लफ्ज़ ही नहीं हैं।
 
आज जो हुआ,वो दिखाता है कि ये सरकार किसानों को कुचलने और खत्म करने की राजनीति कर रही है। ये देश किसानों का देश है,बीजेपी विचारधारा की जागीर नहीं है। उन्होंने कहा कि जिस तरह से देश में किसानों को कुचला जा रहा है उसके लिए तो शब्द ही नहीं है।
 
कई महीनों से किसान आवाज उठा रहे हैं कि उनके साथ गलत हो रहा है। आज जो कुछ हुआ है तो साफ कर देता है कि सरकार किसानों को कुचलने की राजनीति कर रही है और किसानों को खत्म करने की राजनीति कर रही है।लेकिन यह देश किसानों का देश है। यह बीजेपी की विचारधारा की जागीर का देश नहीं है। यह देश किसानों ने बनाया है। किसानों ने सींचा है और किसानों का देश है। 
 
अधिकार और सरकार खो चुकी हैं पुलिस : कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव प्रियंका गांधी ने कहा कि लखनऊ से जब मैं लखीमपुर के लिए निकली तो मुझे एक बात समझ में आ गई जब बल प्रयोग करना पड़ता है तो आप मान लीजिए पुलिस और सरकार नैतिक अधिकार खो चुकी है।
 
मैं अपने घर से निकल कर कोई अपराध करने नहीं जा रही हूं। मैं सिर्फ उन पीड़ित परिवारों से मिलने जा रही हूं और उनके आंसू पूछने जा रहे हू। अब आप ही बताइए इसमें कौन-सी बुराई है। और क्या गलत कर रही हो और अगर गलत कर रही हूं तो आपके पास आदेश होना चाहिए। नहीं तो आपके पास वॉरंट है फिर भी आप मुझे रोक रहे हैं मेरी गाड़ी को रोक रहे हैं और जब मैं सीओ को बुला रहे हैं, लेकिन वे सामने नहीं आ रहे हैं अगर वे सही काम कर रहे हैं तो फिर वे मुझसे छुप क्यों रहे हैं।
01:05AM, 4th Oct
लखीमपुर खीरी में केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा टेनी के दौरे के विरोध में किसानों द्वारा हो रहे प्रदर्शन के दौरान मचे बवाल से उत्तर प्रदेश की राजनीति गर्मा गई है और सभी दल के नेता लखीमपुर खीरी की तरफ बढ़ रहे हैं जिन्हें रोकने के लिए प्रदेशभर का पुलिस प्रशासन सड़कों पर नजर आ रहा है।

इसी के चलते लखनऊ में भी सड़कों पर पुलिस और राजनेताओं के बीच संघर्ष साफतौर पर देखा जा सकता है जहां कुछ देर पहले लखीमपुर खीरी जा रहे बसपा राष्ट्रीय महासचिव सतीश चंद्र मिश्रा को भी पुलिस ने लखीमपुर जाने से रोक दिया है और उन्हें भी घर में नजरबंद किया गया है तो वहीं कांग्रेस की महासचिव और उत्तरप्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी को पुलिस ने लखनऊ में लखीमपुर जाने से रोकने का प्रयास कर रहे हैं।

पुलिस ने प्रियंका गांधी को पहले लखनऊ के कौल हाउस में नजर बंद कर दिया था, लेकिन वहीं कार्यकर्ताओं के साथ बाहर निकल कर पैदल ही लखीमपुर खीरी के लिए प्रियंका गांधी चल दी है। इन्हें रोकने में पुलिस नाकाम या नजर आ रही है। कई बार कांग्रेसी कार्यकर्ताओं अप पुलिस के बीच तगड़ी नोकझोंक भी देखने को मिली है।

प्रियंका गांधी पुलिस पर आरोप लगाते हुए कह रही हैं कि आप किसके आदेश पर हमें लखीमपुर खीरी जाने से रोक रहे हैं और प्रियंका गांधी पुलिस से लिखित आदेश की मांग कर रही हैं, लेकिन पुलिस किसी भी प्रकार के लिखित आदेश को देने में असमर्थ नजर आ रही है तो वहीं प्रियंका गांधी पैदल ही कार्यकर्ताओं के साथ लखीमपुर के लिए आगे बढ़ चुकी हैं। प्रियंका गांधी के काफिले को आगे बढ़ता देख पुलिस ने लखनऊ के उच्च अधिकारियों को भी सूचित कर दिया है। इसके चलते उनके काफिले को रोकने के लिए लखनऊ छावनी में तब्दील हो गया है। खबर लिखे जाने तक पुलिस व प्रियंका गांधी के बीच तगड़ी नोकझोंक लखीमपुर जाने को लेकर चल रही है।
12:58AM, 4th Oct
हमारे लखनऊ संवाददाता अवनीश कुमार के अनुसार बीएसपी महासचिव सतीश मिश्रा को पुलिस ने रोका। सतीश मिश्रा ने कहा कि मुझे लखनऊ पुलिस किस वजह से लखीमपुर जाने से रोक रही है यह मुझे अभी पता नहीं है लेकिन मुझे कानून का पूरा ज्ञान है इसलिए मैं उनसे बार-बार पूछ रहा हूं कि मुझे किस के निर्देश पर रोका गया है लेकिन पुलिस न तो कोई सीधा जवाब दे रही है और ना ही लिखित आदेश दिखा रही है। बस मुझे लखीमपुर जाने से क्यों रोका जा रहा। जबकि मैंने पूरा भरोसा दिलाया है कि शांति पूर्वक लखीमपुर जाना चाहता हूं।
12:50AM, 4th Oct
किसान आज करेंगे देशभर में प्रदर्शन
संयुक्त किसान मोर्चा (एसकेएम) ने उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी घटना के खिलाफ सोमवार को देशभर में जिलाधिकारियों और आयुक्तों के कार्यालय के बाहर प्रदर्शन करने का आह्वान किया है।  इसके साथ ही उन्होंने इस घटना की जांच उत्तर प्रदेश प्रशासन के बजाय उच्चतम न्यायालय के एक सेवारत न्यायाधीश से कराने की मांग की है। सिंह ने कहा कि रविवार की घटना पर विरोध जताने के लिए संयुक्त किसान मोर्चा ने सोमवार को देशभर में पूर्वाह्न 10 बजे से अपराह्न एक बजे तक सभी जिलाधिकारियों और आयुक्तों के कार्यालयों के बाहर प्रदर्शन करने का आह्वान किया है। 
12:48AM, 4th Oct
केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा बोले- मेरा बेटा घटना में शामिल नहीं
 
केंद्रीय मंत्री अजय मिश्रा ने रविवार को इस आरोप का खंडन किया कि उनके बेटे आशीष मिश्रा उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई घटना में शामिल थे, जिसमें किसानों की मौत हुई है। उन्होंने कहा कि भारतीय जनता पार्टी के तीन कार्यकर्ताओं और एक चालक को वहां विरोध प्रदर्शन कर रहे किसानों में मौजूद ‘‘कुछ तत्वों’’ द्वारा पीट-पीट कर मार डाला गया। मंत्री ने कहा कि प्रदर्शनकारियों ने पहले भाजपा कार्यकर्ताओं के वाहनों पर पथराव किया, जिससे वाहन चालक ने वाहन पर अपना नियंत्रण खो दिया, जिसके चलते यह दुर्घटना हुई। कुछ विपक्षी नेताओं और किसान यूनियनों ने आरोप लगाया है कि मिश्रा के बेटे ने प्रदर्शन कर रहे किसानों को वाहन से कुचल दिया। मिश्रा ने कहा कि उनका बेटा मौके पर मौजूद नहीं था और इसे साबित करने के लिए उनके पास तस्वीर और वीडियो सबूत हैं। केंद्रीय मंत्री ने कहा, ‘‘मेरा बेटा (उपमुख्यमंत्री के) कार्यक्रम स्थल पर मौजूद था और वहां हजारों लोग, प्रशासन और पुलिस के अधिकारी भी मौजूद थे।’ उन्होंने कहा कि यह घटना उस समय हुई जब भाजपा के कुछ कार्यकर्ता उत्तर प्रदेश के उपमुख्यमंत्री केशव प्रसाद मौर्य की अगवानी करने जा रहे थे, जो लखीमपुर खीरी में एक कार्यक्रम में शामिल होने आए थे। उन्होंने कहा, ‘‘प्रदर्शन कर रहे किसानों में शामिल कुछ तत्वों ने काले झंडे दिखाये और कार पर पथराव किया, जो पलट गई। दो किसान कार के नीचे दब गए और उनकी मौत हो गई।’’ उन्होंने कहा, ‘‘वहां मौजूद कुछ लोगों ने भाजपा के तीन कार्यकर्ताओं और कार चालक को पीट-पीटकर मार डाला।’ मंत्री ने कहा कि अगर वह (आशीष) उस कार में होता, तो वह आज जीवित नहीं होता।’’ मंत्री ने कहा कि दो वाहनों को आग लगा दी गई और उनके चालक को भीड़ ने मार डाला। यह पूछे जाने पर कि क्या घटना के बारे में कोई खुफिया जानकारी थी, उन्होंने कहा कि शांतिपूर्ण विरोध प्रदर्शन की सूचना थी, उन्होंने इस घटना को "विश्वासघात" करार दिया। उन्होंने कहा कि किसान आंदोलन में असामाजिक तत्व थे, जिन्होंने आंदोलन को हिंसक रूप देने का प्रयास किया। उन्होंने कहा ‍कि किसान संगठन को इस घटना को बहुत गंभीरता से लेना चाहिए, क्योंकि अराजक तत्व देश में अस्थिरता उत्पन्न करने की कोशिश कर रहे हैं। हमें सतर्क रहना होगा और उनकी पहचान करनी होगी। उन्होंने यह भी दावा किया कि बब्बर खालसा जैसे चरमपंथी संगठनों ने किसानों के प्रदर्शन में घुसपैठ की है। उन्होंने कहा कि दस से अधिक पार्टी कार्यकर्ता गंभीर रूप से घायल हैं और उन्हें अस्पताल में भर्ती कराया गया है। मंत्री के बेटे आशीष मिश्रा ने भी कहा कि वह मौके पर मौजूद नहीं थे। उन्होंने मीडियाकर्मियों से कहा, ‘‘हमारी कारों में आग लगा दी गई और कार्यकर्ताओं पर हमला किया गया। हमारे कई कार्यकर्ता अभी भी लापता हैं। अगर मैं उन कारों में किसी में होता तो क्या मैं यहां खड़ा होता?’’ 
12:45AM, 4th Oct
आप ने लखीमपुर खीरी हिंसा की सीबीआई जांच की मांग की
आम आदमी पार्टी (आप) ने रविवार को उत्तर प्रदेश के लखीमपुर खीरी में हुई हिंसा की घटना की सीबीआई से जांच कराने की मांग की। वहां किसानों के एक समूह को दो स्पोर्टस यूटिलिटी व्हीकल (एसयूवी) ने कथित तौर पर कुचल दिया और जिसके चलते हुई हिंसा में आठ लोगों की जान चली गई। दिल्ली के मुख्यमंत्री एवं आप संयोजक अरविंद केजरीवाल ने मांग की कि ‘‘इस तरह के जघन्य अपराध’’ के अपराधियों को ‘‘कड़ी सजा’’ दी जाए। आप सांसद संजय सिंह ने भी मांग की कि ‘‘हत्यारों’’ को ‘‘कड़ी सजा’’ दी जाए। उन्होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से ‘‘तीन नये कृषि कानूनों’’ को वापस लेने का आग्रह किया, जिसके खिलाफ किसान पिछले 10 महीनों से प्रदर्शन कर रहे हैं।



और भी पढ़ें :