1. समाचार
  2. मुख्य ख़बरें
  3. राष्ट्रीय
  4. cyclone mandus weaken into depression
Written By
Last Updated: शनिवार, 10 दिसंबर 2022 (07:40 IST)

कमजोर हुआ 'Mandus’, तमिलनाडु में भारी बारिश, 130 साल में 13वां चक्रवात

चेन्नई। चक्रवाती तूफान ‘मैंडूस’ ने शुक्रवार देर रात यहां मामल्लपुरम के निकट दस्तक दी, जिससे तटीय तमिलनाडु में मध्यम से भारी बारिश हुई। 3 घंटे में 65 से ज्यादा पेड़ गिरे। चेन्नई और पुडुचेरी के बीच, 1891 से 2021 तक पिछले 130 वर्षों में 13 चक्रवात आ चुके हैं।
 
भारत मौसम विज्ञान विभाग (आईएमडी) के क्षेत्रीय मौसम विज्ञान केंद्र के प्रमुख एस. बालाचंद्रन के मुताबिक, चक्रवात मैंडूस तट को पार कर गया है और गहरे अवसाद में है और इसकी ताकत कमजोर हो रही है। यह उत्तर-पश्चिम दिशा की ओर बढ़ रहा है, इसलिए उत्तर-पश्चिम क्षेत्रों में 55-65 किमी प्रति घंटे की तेज हवाएं चलेंगी, जो शाम तक 30-40 किमी प्रति घंटे तक कम हो जाएंगी।
 
चक्रवाती तूफान के प्रभाव से कई तटीय क्षेत्रों में मध्यम से भारी बारिश हुई। भारी बारिश की वजह निचले इलाकों में पानी भर गया। अगले तीन घंटों के दौरान तमिलनाडु के तिरुवल्लुर, चेन्नई, चेंगलपट्टू और कांचीपुरम जिलों में भी कुछ स्थानों पर गरज और बिजली गिरने के साथ तेज बारिश होने की संभावना है।
 
क्या है मैंडूस का मतलब : ‘मैंडूस’ अरबी भाषा का एक शब्द है और इसका अर्थ है खजाने की पेटी (बॉक्स) और यह नाम संयुक्त अरब अमीरात द्वारा चुना गया था।
 
अलर्ट पर सरकार : पुलिस के मुताबिक, सुरक्षा, राहत और बचाव कार्यों के लिए तमिलनाडु राज्य आपदा मोचन बल की 40 सदस्यीय टीम के अलावा 16,000 पुलिसकर्मियों और 1,500 होमगार्ड को तैनात किया गया है। इसके अलावा जिला आपदा मोचन बल की 12 टीम को तैयार रखा गया है।
 
राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (NDRF) और राज्य आपदा मोचन बल की टीम के लगभग 400 कर्मियों को पहले से ही कावेरी डेल्टा क्षेत्रों के पास सहित तटीय क्षेत्रों में तैनात किया गया है।
Edited by : Nrapendra Gupta (एजेंसियां)