केजरीवाल बोले, शुरुआती परिणाम अच्छे होने के कारण प्लाज्मा थैरेपी का क्लिनिकल ट्रॉयल नहीं रुकेगा

Last Updated: शुक्रवार, 1 मई 2020 (15:34 IST)
नई दिल्ली। मुख्यमंत्री ने शुक्रवार को कहा कि गंभीर रूप से बीमार कोविड-19 मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थैरेपी के को नहीं रोकेगी, क्योंकि उसके शुरुआती नतीजे अच्छे हैं।
ALSO READ:
covid 19 : महाराष्ट्र में सफल हुआ प्लाज्मा थेरेपी का पहला प्रयोग
इस घोषणा से कुछ दिनों पहले केंद्र ने कहा था कि कोरोना वायरस मरीजों के इलाज के लिए प्लाज्मा थैरेपी प्रायोगिक चरण में है और इससे जीवन के लिए घातक जटिलताएं पैदा होने की आशंका है।

ऑनलाइन प्रेस वार्ता में केजरीवाल ने कहा कि एक मरीज जिसकी हालत गंभीर थी, उसे प्लाज्मा थैरेपी देने के बाद अस्पताल से छुट्टी दे दी गई। उन्होंने कहा कि हम प्लाज्मा थैरेपी के क्लिनिकल ट्रॉयल को नहीं रोकने वाले हैं। हमें थैरेपी के अच्छे परिणाम मिल रहे हैं, हालांकि यह प्रायोगिक स्तर पर हैं।
उन्होंने कहा कि हम कोविड-19 से ठीक हुए 1,100 लोगों से संपर्क कर रहे हैं कि वे जिंदगियां बचाने के लिए अपना प्लाज्मा दान करें। केजरीवाल ने कहा कि हम दिल्ली में प्रत्येक 10 लाख लोगों पर 2,300 कोविड-19 जांच कर रहे हैं। मुख्यमंत्री ने कहा कि राजस्थान के कोटा में फंसे दिल्ली के छात्रों को वापस लाने के लिए दिल्ली सरकार शुक्रवार को 40 बस भेजेगी।
उन्होंने कहा कि दिल्ली लौटने पर छात्रों को 14 दिन के लिए पृथकवास (क्वारंटाइन) में रहना होगा। केजरीवाल ने कहा कि दिल्ली में जरूरतमंदों को उपलब्ध कराए जा रहे मुफ्त राशन को दोगुना कर 10 किलोग्राम किया जाएगा। (भाषा)



और भी पढ़ें :