चांद पर फतह की ISRO की दमदार तैयारी, पूरा किया चंद्रयान-2 का पूर्वाभ्यास, 22 जुलाई को होगा लांच

पुनः संशोधित रविवार, 21 जुलाई 2019 (09:24 IST)
इंडियन स्पेस रिसर्च ऑर्गनाइजेशन (ISRO) ने GSLV मार्क III-M1, चंद्रयान 2 के लॉन्च व्हीकल का पूर्वाभ्यास पूरा कर लिया है। इसका प्रदर्शन सामान्य है। यह जानकारी इसरो ने शनिवार-रविवार की रात एक ट्‍वीट से दी। इसरो ने कहा कि यह 22 जुलाई को लॉन्च किया जाएगा। ट्वीट में इसरो ने बताया कि "GSLV मार्क III-M1, चंद्रयान 2 मिशन पूरा होने का पूर्वाभ्यास लॉन्च, प्रदर्शन सामान्य है।' इससे पहले 15 जुलाई को चंद्रयान-2 तकनीकी खामी पाए जाने के बाद रॉकेट को लॉन्च से एक घंटा पहले रोक दिया गया था।
गौरतलब है कि 15 जुलाई को चंद्रमा पर दूसरे भारतीय मिशन को टेकऑफ करने से 1 घंटे पूर्व कुछ तकनीकी खामी के कारण इसे टालना पड़ा था। चंद्रयान 2 का प्रक्षेपण चांद दक्षिण ध्रुव पर एक रोवर को उतारने के उद्देश्य से किया जाएगा।

रॉकेट में एक तकनीकी परेशानी के कारण 15 जुलाई की सुबह लांच को रोक दिया गया था। यह परेशानी तब आई थी जब लिक्विड प्रोपेलेंट को रॉकेट के स्वदेशी क्रायोजेनिक अपर-स्टेज इंजन में लोड किया जा रहा था। वरिष्ठ वैज्ञानिकों ने जल्दबाजी करने की बजाय लॉन्चिंग रोकने के लिए इसरो की तारीफ की थी।
वैज्ञानिकों के अनुसार 31 जुलाई की विंडो नहीं मिलने से प्रक्षेपण कार्यक्रम पर असर पड़ा है। दरअसल, यह विंडो चूक जाने के कारण अंतरिक्ष यान को लक्ष्य तक पहुंचाने के लिए ज्यादा ईंधन खर्च होगा। इतना ही नहीं, इससे चंद्रमा पर ऑर्बिटर का जीवन भी 6 माह घट सकता है।



और भी पढ़ें :