0

Life in the times of corona: दहशत ऐसी क‍ि मां के शव को छोड़कर भागा बेटा!

गुरुवार,अप्रैल 9, 2020
corona
0
1
सोशल मीड‍िया प्‍लेटफॉर्म पर भी कुछ इसी तरह की डायलॉगबाजी देखने को म‍िल रही है।
1
2
ज्‍यादातर लोग मास्‍क और ग्‍लोव्‍ज पहनकर अपने आप को सुरक्षि‍त महसूस कर रहे हैं।
2
3
रामायण में जब हनुमानजी सीताजी का पता लगाने के लिए निकलने की तैयारी करते हैं, तब उन पर विश्वास कर राम भगवान एक मुद्रिका देते हैं जिस पर 'राम' नाम लिखा होता है। वो मुद्रिका सीताजी की है। जिससे सीताजी को हनुमानजी पर विश्वास हो जाएगा कि वे रामजी के दूत ...
3
4
चंडीगढ़ स्थित सीएसआईओ वैज्ञानिक तथा औद्योगिक अनुसंधान परिषद (सीएसआईआर) की एक प्रमुख वैज्ञानिक प्रयोगशाला है।
4
4
5
लंबे समय तक चल सकने वाले लॉकडाउन के दौरान हमें इस एक संभावित ख़तरे के प्रति भी सावधान हो जाना चाहिए कि अपने शरीरों को ज़िंदा रखने की चिंता में ही इतने नहीं खप जाएं कि हमारी व्यक्तिगत और सामूहिक आत्माएं और आस्थाएं ही मर जाएं और हमें आभास तक न हो। ऐसा ...
5
6
संयुक्त राष्ट्र का एक संस्थान 'सस्टेनेबल डेवलपमेंट सॉल्यूशन नेटवर्क’ (एसडीएसएन) हर साल अंतरराष्ट्रीय स्तर पर सर्वे करके वैश्विक प्रसन्नता सूचकांक यानी वर्ल्ड हैपीनेस इंडेक्स जारी करता है। कुछ निर्धारित मानकों के आधार पर तैयार किए जाने वाले इस ...
6
7
व्यक्तिवाद और व्यक्ति की प्रधानता के सिद्धांतों को सबसे ज्यादा चोट पहुंची है। इसकी तीन मुख्य वजहें हैं:
7
8
गोस्वामी तुलसीदासजी सुंदरकांड को लिपिबद्ध करते समय हनुमानजी के गुणों पर विचार कर रहे थे। वे जिस गुण का सोचते, वहीं हनुमानजी में भरपूर दिखाई देता। इसलिए उन्होंने हनुमानजी की स्तुति करते समय उन्हें 'सकल गुण निधानं' कहा है। यह सम्मान पूरे संस्कृत ...
8
8
9
उन्‍होंने बार्स‍िलोना से अपना सफर शुरू क‍िया और दुबई पहुंचे। दुबई से मुंबई। इस तरह 5 द‍िसंबर को वे भारत आए।
9
10
इतनी पीड़ा तो देश की जनता ने तब भी महसूस नहीं की थी, जब प्रिंस चार्ल्स के संक्रमित होने की ख़बरें आई थीं
10
11
नौ मिनट के सफलतापूर्वक किए गए देशव्यापी अंधेरे ने आगे आने वाले दिनों की सूरत पर अब काफ़ी रोशनी डाल दी है। जिस बात की इतने दिनों से हमें आशंका थी वह भी अब सच होती दिख रही है।
11
12
पुल‍िस के बल‍िदान की कहान‍ियां सुनकर हर कोई भावुक है, हर क‍िसी की आंख में पानी है।
12
13
कुलवंत को डायबिटीज, हाइपरटेंशन के साथ-साथ उन्‍हें पांच स्टेंट्स लगे हैं। ऐसी स्‍थि‍त‍ि में उन्‍हें कोरोना के संक्रमण हो गया।
13
14
क्या सत्ता में महिलाओं की सहभागिता की वही स्थिति हैं जो बीस साल पहले हुआ करती थी? इस प्रश्न पर अक्सर आंकड़ों के आकलन होने लगते है|
14
15
हम लोग, हमारा आचरण, हमारा अति उत्साह, हमारी बुद्धि, हमारी संवेदनशीलता, हमारा मनुष्यत्व सभी कुछ शोध का विषय होता जा रहा है। कल 5 अप्रैल 2020 के प्रकाशोत्सव की आड़ में कुछ लोगों की मूढ़ता ने फिर हमें इंसानियत के कटघरे में खड़ा किया है?
15
16
नौ मिनट का पूर्ण (या आंशिक भी) अंधकार अगर मांग कर लिया गया हो तो कितना ‘लम्बा’ या ‘छोटा’ लग सकता है रविवार की रात करोड़ों देशवासियों ने महसूस कर लिया। यह एक अघोषित प्रयोग भी हो सकता है कि बग़ैर रोशनी के हम कितनी देर तक बिना डरे या परेशान हुए रह सकते ...
16
17
रात का अंधेरा गहरा रहा था, लेक‍िन उम्‍मीदों का उजाला चमकने लगा था।
17
18
अगर ये लोग बीमार होते हैं, तो न तो कोई डॉक्‍टर है देखने वाला और न ही कोई अस्‍पताल उनलब्‍ध है इनके इलाज के ल‍िए।
18
19
ब्रिटेन में एक मां को अपने बेटे का अंतिम संस्कार ‘ऑनलाइन’ देखना पड़ा।
19