0

कोरोना खात्मे की भूल से सामने आया महामारी का खौफनाक मंजर!

रविवार,अप्रैल 18, 2021
0
1
मेरी दोस्त का परिवार क्वारंटाइन में है, साथ ही उसका ब्लॉक सील कर दिया गया है। कोई बाहर आ-जा नहीं सकता। लेकिन बेटी के जन्मदिन पर मैंने अपनी सहेली के बेटे को बहुत मिस किया और अपने आपको केक देने से रोक नहीं पाई।' यह कहना है मनिता बंसल का, जो मुंबई के ...
1
2
बात कोरोना महामारी को लेकर है। शुरुआत गुजरात से की जानी चाहिए। गुजरात के कथित 'विकास मॉडल' को ही अपने मीडिया प्रचार की सीढ़ी बनाकर नरेन्द्र मोदी 7 साल पहले एक मुख्यमंत्री से देश के प्रधानमंत्री बने थे। गुजरात उच्च न्यायालय ने हाल में कोरोना के इलाज ...
2
3
मुख्यमंत्री और सत्तारूढ़ पार्टी अगर चुनाव की सुरक्षा ड्यूटी में लगे सुरक्षा बल को ही अपराधी घोषित करने लगे तो फिर कानून के राज की बात कौन करेगा। चुनाव आयोग के पर्यवेक्षकों की रिपोर्ट बताती है कि केंद्रीय औद्योगिक सुरक्षा बल या सीआईएसएफ को मजबूरी में ...
3
4
इन दिनों (नवरात्रि के दिनों में) गली मोहल्लों में पूरे नौ दिन लांगुरिया गाई जाती है। लांगुरिया और भेंटे रोज ही गाए जाते हैं, ये देवी की महिमा, शक्ति और चरित्र के गायन होते हैं। ढोलक की थाप, कर्रे गले से लांगुरिया का गायन, साथ में लय-ताल-गति से ...
4
4
5
रेणु का मानना है कि इस कठिन समय में उनका सहारा बना उनका प्रकृति प्रेमी होना।हर तरह के पेड़-पौधों को आप उसके घर में पाएंगे, जिसे बड़े जतन से वो संभालती है। परिवार के पसंद के नामकरण के साथ वो पिल्ले भी समय समय पर अपना मेडिकल ले रहे हैं। उनके नखरे भी ...
5
6
नस्‍य का अर्थ है नासिका या नाक। उन्‍होंने बताया कि कोरोना से बचने के लिए रोजाना अपनी नाक में सुबह-शाम तीन-तीन बूंद अणु तेल डालना चाहिए। यह तेल हमारे नेजल न्‍यूकोजा यानी झ‍िल्‍ली के बीच सुरक्षा कवच के तौर पर काम करेगा और वायरस को शरीर के अंदर नहीं ...
6
7
अंकल! मेरे डैडी ठीक तो हो जाएंगे ना... किसी मासूम के मुंह से निकले इस तरह शब्द आपको भीतर तक छलनी कर देंगे, हो सकता है आप अपने आंसू भी न रोक पाएं, लेकिन कोरोनावायरस (Coronavirus) काल में ऐसे दृश्य आम हैं। किसी मासूम को अपने डैडी या मम्मा की चिंता है ...
7
8
आपकी इच्छा शक्ति मजबूत होने के साथ ही परिवार का पूर्ण सहयोग, प्रेम होना चाहिए। अगर परिवार , मित्र , पड़ोसी डटकर आपके साथ खड़े हैं तो दुनिया की कोई ताकत आपको नहीं हरा सकती। ये एक वायरस है जिसे सिर्फ सकारात्मकता के साथ ही मारा जा सकता है।
8
8
9
गणगौर माता के दरबार में पल्लू के कोने को कलश के पानी में डुबो कर माता जी के मुख को छुआ उखाणे / उखाने बोले जाते हैं। आइए जानें आज के दौर के 21 उखाणे
9
10
देश में बंगाल के बाहर बड़ी संख्या में ऐसे लोग भी हैं, जो इस सच्चाई के बावजूद ममता बनर्जी को जीतता हुआ देखना चाहते हैं कि उनके मन में तृणमूल कांग्रेस की नेत्री के प्रति कई वाजिब कारणों से ज़्यादा सहानुभूति नहीं है। वे ममता की हार केवल इसलिए नहीं ...
10
11
मध्‍यप्रदेश के सबसे बड़े शहर इंदौर की बात करें तो यहां मौतों का आंकड़ा डरावना है। कहा जा रहा है कि एक शमशान घाट में रोजाना 12 से 14 शव अंतिम संस्‍कार के लिए आ रहे हैं। इस तरह शहर में शमशानों की संख्‍या के मुताबि‍क मौत के इन आंकड़ों का अंदाजा लगाकर ...
11
12
हिन्दू नव वर्ष का आरंभ चैत्र मास की शुक्ल प्रतिपदा को शक्ति-भक्ति की उपासना, चैत्र नवरात्रि से होता है। पंचाग रचना का भी यही दिन माना जाता है। महान गणितज्ञ भाष्कराचार्य ने इसी दिन सूर्योदय से सूर्यास्त तक दिन, महीना और वर्ष की गणना कर पंचाग की रचना ...
12
13
पिछले साल की तरह इस वर्ष का यह प्रतिपदा पर्व चिरस्मरणीय होगा।जीवन की इस अनिश्चितता में, जबकि मृत्यु के भय और अभय का सूक्ष्म अंतर समाप्त होने की कगार पर विश्व जूझ रहा है, हमें विनयावनत होना चाहिए, अपनी जगतधात्री प्रकृति, सभी धर्म, गोचर-अगोचर व ...
13
14
आधुनिक युग में मशीनों की संगत में लिंक का जबरदस्त महत्त्व है। पसंद की चीज ढूंढनी हो तो फलानी लिंक, किसी से जुड़ना हो तो ढीकानी लिंक। वैसे ही इस कोरोना नैराश्य को भगाना हो तो सकारात्मकता की लिंक। हताशा से जीतना हो तो परिवार के जीवन प्रेम व आत्मीयता की ...
14
15
तीन साल पहले ही रजनी इस शहर में आई थी। उसके पति मॉल में सिक्यूरिटी आफिसर थे। उसने अपनी बेटी को शहर के बेहतर अंग्रेजी माध्यम के स्कूल में डाला। अब वह थर्ड में पढ़ रही थी। परीक्षा होते ही लॉकडाउन लग गया और नये सत्र की पुस्तकें रखी ही रह गई। कुछ दिन ...
15
16
पूना में एक मल्टीनेशनल कंपनी में काम करनेवाली स्नेहा का शुरू से सपना था, कि शादी के बाद वो सिर्फ पति के साथ रहे। दोनों कमाएं, खाएं,घूमें, मौज करें। परिवार में अन्य सदस्यों का बस मेहमानों की तरह हस्तक्षेप हो।
16
17
कोरोना काल हम सब पर भारी है,पर ऐसा जरुरी तो नहीं कि आज उनकी तो कल हमारी बारी है। वैसे भी जिंदगी तो बेवफा है एक दिन ठुकराएगी, मौत महबूबा है अपने साथ ले कर जाएगी। पर मर के जीने की अदा यदि हमें आ जाए, तो जिंदगी से इश्क का मजा दुगुना हो जाए। दुर्घटना से ...
17
18
कोरोनाग्रस्त इंसान बदहाल हो जाता है….पता है, फेफड़े धीरे-धीरे काम करना बन्द कर देते हैं… यह भी पता है, कोरोना पीड़ित को सांस ले पाने में तकलीफ होती है… पता है। हर बार कोरोना नए-नए रूप में हमारे शरीर पर अटैक करता है… पता है..., कहीं कोई मर गया तो ...
18
19
लोगों की यह जानने की भारी उत्सुकता है कि बंगाल चुनावों के नतीजे क्या होंगे? ममता बनर्जी हारेंगी या जीत जाएंगी? सवाल वास्तव में उलटा होना चाहिए। वह यह कि बंगाल में नरेंद्र मोदी चुनाव जीत पाएंगे या नहीं? बंगाल में चुनाव ममता और मोदी के बीच हो रहा है। ...
19