आँचल इसका खुशियों की फुलवारी

माँ की महिमा

NDND
रिश्तों की रवानगी इसमें
ममता की हर बानगी इसमें

चरणों में इसके सुख स्वर्ग का
नसीब से मिलता है साथ इसका

ईश्वर भी, जिसके आगे नतमस्तक
इसके आगे फीकी कुदरत की हर नैमत

इसका खुशियों की फुलवारी
आनंद भरता इसकी गोद में किलकारी

अपनों की फिक्र में बीतता इसका जीवन
नहीं करती कभी खुद के लिए कोई जतन

चाहते हो बनाना जिंदगी को अपनी चमन
WD|
महेन्द्र तिवारी
तो हर लम्हा करते रहो इसे विनम्र नमन।



और भी पढ़ें :