RSS-BJP पर दिए बयान को लेकर राहुल गांधी पर FIR की तैयारी,नरोत्तम बोले, राहुल इच्छाधारी हिंदू

भाजपा ने राहुल गांधी पर लगाया हिंदू-देवी देवताओं के अपमान का आरोप

Author विकास सिंह| Last Updated: गुरुवार, 16 सितम्बर 2021 (16:35 IST)
हमें फॉलो करें
भोपाल। संघ और हिंदू देवी-देवताओं पर दिए बयान को लेकर राहुल गांधी पर अब कानूनी कार्रवाई की तलवार लटकने लगी है। मध्यप्रदेश के गृहमंत्री नरोत्तम मिश्रा ने राहुल के आरएसएस पर दिए बयान को लेकर नाराजगी जाहिर करते हुए कहा कि राहुल गांधी पर कराने को लेकर वह कानूनी विशेषज्ञों से राय ले रहे है। गृहमंत्री ने राहुल गांधी को इच्छाधारी हिन्दू बताते हुए कहा कि वह अपनी सुविधानुसार टोपी और टीका लगाकर धार्मिक पर्यटन करते है और फिर संघ को लेकर इस तरह के बयान देते है।


वहीं दूसरी ओर राहुल गांधी के हिंदू देवी देवताओं पर दिए बयान को लेकर भाजपा विधायक रामेश्वर शर्मा ने अरेरा हिल्स थाने में एफआईआर दर्ज के लिए शिकायती पत्र सौंपा है। उन्होंने कहा कि राहुल गांधी क द्धारा हिंदू देवी-देवताओं के अपमान को बर्दाश्त नहीं किया जाएगा और उन्हें अपने बयान के लिए देश से माफी मांगनी चाहिए।

दरअसल दिल्ली में महिला कांग्रेस की स्थापना दिवस कार्यक्रम में राहुल गांधी ने भाजपा-आरएसएस पर जमकर हमला बोला था। राहुल ने भाजपा-आरएसएस को झूठे हिंदू कहते हुए उन पर धर्म की दलाली करने का आरोप लगाया था। वहीं कार्यक्रम के दौरान राहुल ने सर संघ चालक मोहन भागवत को लेकर भी टिप्पणी की । राहुल ने कहा ‘’महात्मा गांधी की तस्वीर में आपको तीन से चार महिलाएं साथ दिखेंगी. कभी आपको मोहन भागवत जी के साथ किसी महिला की फोटो दिखाई पड़ी है? नहीं दिखाई पड़ी है न. जानते हैं क्यों? क्योंकि, इनका संगठन महिलाओं की शक्ति का दमन करता है और हमारा (कांग्रेस) संगठन महिला शक्ति को मंच देता है.''
इसके साथ ही राहुल गांधी ने भाजपा को हिंदू धर्म की देवी- देवताओं से जोड़कर कई टिप्पणी की थी। राहुल ने कहा
'लक्ष्मी- जो लक्ष्य को पूरा करे उस शक्ति को हम लक्ष्मी कहते हैं। दुर्गा- जो रक्षा करने का काम करे उस शक्ति को हम दुर्गा कहते हैं। यह एक राजनेता का काम होता है कि वो बिना किसी भेदभाव के इन शक्तियों को प्रत्येक व्यक्ति, प्रत्येक घर तक पहुंचाए। भाजपा अपने आप को एक हिंदू पार्टी कहती है और पूरे देश में दुर्गा जी और लक्ष्मी जी पर आक्रमण करते हैं। जहां भी यह जाते हैं तो कहीं दुर्गा को मारा जाता है तो कहीं लक्ष्मी को मारा जाता है।



और भी पढ़ें :