कमलनाथ और दिग्विजय पर भड़के ज्योतिरादित्य सिंधिया, कही यह बड़ी बात...

पुनः संशोधित शनिवार, 26 सितम्बर 2020 (22:37 IST)
इंदौर। भाजपा के राज्यसभा सांसद ज्योतिरादित्य सिंधिया ने शनिवार को दावा किया कि मध्यप्रदेश की 28 विधानसभा सीटों पर आगामी उपचुनावों में को जीत हासिल होने पर इस पार्टी के वरिष्ठ नेता एक बार फिर 'परदे के पीछे मुख्यमंत्री' बन जाएंगे। 6 महीने पहले पाला बदलने वाले सिंधिया ने पूर्व मुख्यमंत्री और मौजूदा प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष की नेतृत्व क्षमता पर निशाना साधते हुए यह भी कहा कि उनका रिमोट कंट्रोल अब भी दिग्विजय के हाथ में ही है।
सिंधिया इंदौर से 40 किलोमीटर दूर सांवेर विधानसभा क्षेत्र में कुल 2,664 करोड़ रुपए लागत के विकास कार्यों के लोकार्पण और भूमिपूजन समारोह को संबोधित कर रहे थे। सांवेर उन 28 विधानसभा सीटों में शामिल है जहां उपचुनाव होने हैं।

सिंधिया ने वर्तमान मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान की मौजूदगी में कहा कि आप (मतदाता) याद रखना कि आगामी उपचुनावों में हाथ के पंजे (कांग्रेस का चुनाव चिह्न) पर पड़ने वाला हरेक वोट दिग्विजय सिंह को परदे के पीछे दोबारा मुख्यमंत्री बनाने के काम आएगा।

उन्होंने दिग्विजय और कमलनाथ को 'बड़े भाई और छोटे भाई की कांग्रेसी जोड़ी' बताते हुए कहा कि राज्य में वर्ष 2018 के विधानसभा चुनावों की तरह अब भी परदे के पीछे दिग्विजय ही हैं। कमलनाथ का रिमोट कंट्रोल अब भी दिग्विजय के ही हाथ में है। आगामी विधानसभा उप चुनावों के तेज होते प्रचार के दौरान सिंधिया और 6 महीने पहले उनके साथ पाला बदलने वाले बागी विधायकों को कांग्रेस द्वारा 'गद्दार' बताया जा रहा है।

राज्यसभा सदस्य 49 वर्षीय सिंधिया ने पलटवार करते हुए कहा कि आज वे (दिग्विजय और कमलनाथ) मुझे गद्दार और मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान को नालायक कह रहे हैं, लेकिन सच यह है कि पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान अपने घोषणा पत्र को धर्मग्रंथ बताने वाली पार्टी (कांग्रेस) ने सत्ता में आने के बाद सूबे के साढ़े सात करोड़ लोगों से गद्दारी की।

सिंधिया ने कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान उन्होंने (राहुल गांधी) कहा था कि कांग्रेस की सरकार बनने पर 10 दिन के भीतर सूबे के हर किसान का कर्ज माफ हो जाएगा, लेकिन यह वादा भी निभाया नहीं गया। उन्होंने कहा कि मैं दिग्विजय और कमलनाथ को बताना चाहता हूं कि कांग्रेस ने किसानों के साथ वादाखिलाफी नहीं, बल्कि गद्दारी की है।सिंधिया ने यह आरोप भी लगाया कि पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार ने विकास की बजाय विश्वासघात और भ्रष्टाचार की बड़ी लकीर खींचते हुए सूबे को 'नीलाम' कर दिया।

कांग्रेस ने की गद्दारी : कांग्रेस आलाकमान पर सीधा वार करते हुए मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने शनिवार को कहा कि सूबे की जनता के साथ इस पार्टी की कथित ‘गद्दारी’ की शुरुआत तभी हो गई थी, जब उसने 2018 का पिछला विधानसभा चुनाव जीतने के बाद ज्योतिरादित्य सिंधिया की जगह कमलनाथ को मुख्यमंत्री की कुर्सी पर बैठा दिया था।

चौहान ने कार्यक्रम में कहा कि पिछले विधानसभा चुनावों के दौरान मतदाताओं ने सिंधिया का चेहरा देखकर कांग्रेस को वोट दिए थे, लेकिन चुनावी जीत मिलने पर कांग्रेस प्रमुख सोनिया गांधी और उनके बेटे राहुल गांधी ने सिंधिया की जगह कमलनाथ को मुख्यमंत्री बनाकर जनता से गद्दारी की शुरुआत कर दी।

उन्होंने कांग्रेस पर तंज किया कि बेटी का वैवाहिक संबंध किसी और व्यक्ति से तय किया गया, शहनाई किसी और व्यक्ति के नाम की बजाई गई, घोड़े पर किसी और व्यक्ति को बैठाया गया और मंगल गान किसी और व्यक्ति के नाम के गाए गए, लेकिन बारात जब दुल्हन के घर पहुंची, तो फेरे किसी और व्यक्ति के साथ लगवा दिए गए।

मुख्यमंत्री ने कांग्रेस पर पलटवार करते हुए आरोप लगाया कि पूर्ववर्ती कमलनाथ सरकार ने सूबे के लाखों किसानों को कर्ज माफी योजना और फसल बीमा योजना के लाभ से वंचित कर अन्नदाताओं के साथ 'गद्दारी' की। चौहान ने किसानों को लुभाते हुए कहा कि अगर केंद्र सरकार की मंजूरी मिलती है, तो अगले साल राज्य सरकार की फसल बीमा योजना पेश की जाएगी।
मुख्यमंत्री ने कमलनाथ द्वारा उनके लिए 'नालायक' शब्द के हालिया इस्तेमाल पर भी जवाबी हमला बोला। उन्होंने कहा कि कमलनाथ ने मुख्यमंत्री रहने के दौरान किसानों, गरीबों, विद्यार्थियों, प्रसूताओं आदि वर्गों के हित में अपनी पूर्ववर्ती भाजपा सरकार की शुरू की गईं योजनाएं बंद कर दीं, लेकिन अब 73 वर्षीय कांग्रेस नेता खुद को 'लायक' और उन्हें 'नालायक' बता रहे हैं।(एजेंसियां)



और भी पढ़ें :