राष्ट्रपति चुनाव में ‘ऑपरेशन लोट्स’! क्रॉस वोटिंग के लिए कांग्रेस विधायकों को BJP दे रही 1 करोड़ का ऑफर, कमलनाथ का आरोप, यशवंत सिन्हा ने की जांच की मांग

Author विकास सिंह| पुनः संशोधित गुरुवार, 14 जुलाई 2022 (17:48 IST)
हमें फॉलो करें

भोपाल। मध्यप्रदेश में में का मुद्दा गर्मा गया है। प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष ने भाजपा पर बड़ा आरोप लगाते हुए कहा कि भाजपा ने कांग्रेस विधायकों को NDA उम्मीदवार द्रौपदी मूर्मु के पक्ष में मतदान करने के लिए एक करोड़ का ऑफर दिया है। वहीं कांग्रेस आदिवासी विधायक उमंग सिंघार ने आरोप लगाया कि एनडीए कैंडिडेट के पक्ष में मतदान करने के लिए भाजपा ने 50 लाख का ऑफर का दिया है। इसके साथ उन्होंने आरोप लगाया कि कांग्रेस के आदिवासी विधायकों को एक करोड़ का ऑफर मिल रहा है।


राष्ट्रपति चुनाव में ‘ऑपेशन कमल’-वहीं राष्ट्रपति पद के विपक्ष के साझा उम्मीदवार यशवंत सिन्हा ने कहा कि राष्ट्रपति चुनाव में गैर भाजपा विधायकों को क्रॉस वोटिंग करने के लिए बड़ी मात्रा में धन का ऑफर दिया जा रहा है। इसका मतलब है कि गणतंत्र के सर्वोच्च पद के लिए हो रहे निर्वाचन में भी ऑपरेशन कमल का इस्तेमाल किया जा रहा है। इसका सीधा अर्थ है कि भाजपा को स्वतंत्र और निष्पक्ष राष्ट्रपति चुनाव से डर लग रहा है।

यशवंत सिन्हा ने कहा कि वह निर्वाचन आयोग से और राष्ट्रपति चुनाव के लिए रिटर्निंग आफिसर की भूमिका निभा रहे राज्यसभा के महासचिव से आग्रह करते है कि वे सत्ताधारी दल पर लग रहे भ्रष्टाचार के आरोपों की जांच करें।
'ऑपरेशन कमल' लोकतंत्र के लिए खतरा-यशवंत सिन्हा ने ऑपरेशन कमल पर निशाना साधते हुए कहा कि ‘ऑपरेशन कमल’ का सही नाम होना चाहिए ‘ऑपरेशन मल’ क्योंकि यह सत्ताधारी दल की गंदी राजनीति का पर्यायवाची बन गया है। इसका इस्तेमाल विपक्षी दलों को तोड़ने फोड़ने में किया जा रहा है और विपक्षी दलों की सरकार को गिराने में किया जा रहा है। मध्य प्रदेश के अलावा भाजपा ने गंदे तरीके से कर्नाटक, गोवा, अरुणाचल और हाल ही में महाराष्ट्र में सरकारें गिराईं। इस सब को देख कर मुझे लोकतंत्र के लिए खतरे की घंटी महसूस हो रही है।

यशवंत सिन्हा ने कहा कि भाजपा ने लोकतंत्र के ऊपर जो सबसे ताजा हमला किया है, उसमें भ्रष्ट, जुमलाजीवी, धोखा जैसे शब्दों को असंसदीय घोषित कर दिया जाना शामिल है। निंदा करता हूं, अगर संसद में ईमानदार बहस पर रोक लगा दी जाएगी तो फिर संसद को ही क्यों नहीं बंद कर देते?

द्रौपदी मुर्मू पर कसा तंज-राष्ट्रपति चुनाव में आदिवासी प्रत्याशी को भाजपा की ओर से मुद्दा बनाए जाने पर यशंवत सिन्हा ने तंज कसते हुए कहा कि अगर भारतीय जनता पार्टी वाकई आदिवासियों का सम्मान करना चाहती है तो द्रौपदी मुर्मू को राष्ट्रपति का नहीं प्रधानमंत्री पद का प्रत्याशी बनाना चाहिए।

यशवंत सिन्हा ने द्रौपदी मुर्मू के लिए निजी तौर पर मेरे मन में बहुत सम्मान है, लेकिन फिर भी उन्होंने अब तक आदिवासी समुदाय से जुड़े मुद्दों तक पर कोई बयान नहीं दिया है। इसलिए मैं राष्ट्रपति चुनाव में वोट डालने वाले लोगों और देश की जनता से पूछना चाहता हूं कि क्या वह एक खामोश राष्ट्रपति चाहते हैं, क्या रबर स्टांप राष्ट्रपति चाहते हैं।



और भी पढ़ें :