गोडसे वाले बयान पर साध्वी प्रज्ञा का प्रायश्चित, चुनाव परिणाम आने तक करेंगी कठिन तपस्या

विकास सिंह| Last Updated: सोमवार, 20 मई 2019 (15:02 IST)
भोपाल। लोकसभा चुनाव के दौरान अपने बयानों के लिए चर्चा में रहीं से भाजपा उम्मीदवार अब करने के लिए 21 प्रहर (ढाई दिन) का मौन और कठोर तपस्या कर रही हैं।

साध्वी ने ट्वीट करते हुए लिखा कि 'चुनाव प्रक्रियाओं के उपरांत अब समय है चिंतन मनन का, इस दौरान मेरे शब्दों से समस्त देशभक्तों को यदि ठेस पहुंची है तो मैं क्षमा प्रार्थी हूं और आज सार्वजनिक जीवन की मार्यादा के अंतर्गत प्रायश्चित हेतु 21 प्रहर के मौन व कठोर तपस्यारत हो रही हूं।


साध्वी प्रज्ञा ने अपने ट्वीट में 21 प्रहर तक मौन और तप करने की बात कही है, जो दिन के हिसाब से ढाई दिन तक चलेगा। ऐसे में साध्वी प्रज्ञा का मौन और तपस्या 22 मई तक चलेगी और अब साध्वी प्रज्ञा 23 मई को मतगणना वाले दिन लोगों के सामने आएंगी।
गोडसे को बताया था देशभक्त : साध्वी प्रज्ञा ने अपने ट्वीट में अपने बयानों के लिए फिर क्षमा मांगी है। इससे पहले सातवें चरण के मतदान के ठीक पहले साध्वी ने राष्ट्रपिता महात्मा गांधी के हत्यारे को देशभक्त बताया था जिसके बाद उनकी खूब किरकिरी हुई थी।

यहां तक कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने भी उनको कभी माफ नहीं करने की बात कही थी, वहीं पार्टी की अनुशासन समिति ने 10 दिन के अंदर उनसे जवाब मांगा था।

ऐसे में जब साध्वी प्रज्ञा ठाकुर भोपाल से कांग्रेस उम्मीदवार दिग्विजयसिंह के खिलाफ चुनावी मैदान में हैं तब उनका नतीजों से पहले अपने बयान के लिए प्रायश्चित करने को लेकर मौन धारण कर तपस्या करना सियासी गलियारों में चर्चा का विषय बन गया है।

 

और भी पढ़ें :