हाईप्रोफाइल सीट बनी नीमच-मंदसौर लोकसभा सीट, भाजपा और कांग्रेस में कांटे की टक्कर

मुस्तफा हुसैन| पुनः संशोधित गुरुवार, 9 मई 2019 (20:31 IST)
मालवा में नीमच, मंदसौर, जावरा संसदीय सीट हाईप्रोफाइल लोकसभा सीट है, क्योंकि यहां से कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी की करीबी चुनाव मैदान में हैं तो दूसरी तरफ भाजपा के लिए यह इसलिए प्रतिष्ठा की सीट है, क्योंकि यह क्षेत्र आरएसएस का गढ़ है और अब तक हुए 14 चुनाव में से 11 चुनाव भाजपा जीती है जबकि मात्र 3 चुनाव में कांग्रेस को विजय मिली है। मतदान आखिरी चरण में यानी 19 मई को यहां मतदान होना है इसलिए भाजपा और कांग्रेस ने अब अपनी समूची ताकत यहां झोंक दी है।
मंदसौर संसदीय सीट का चुनाव बेहद रोचक दौर में पहुंच गया है। 14 मई को कांग्रेस के राष्ट्रीय अध्यक्ष राहुल गांधी नीमच आ सकते हैं जबकि 2 मई को भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने नीमच के मनासा में आमसभा को संबोधित किया। इसमें उपस्थिति उम्मीद से कम रही लेकिन एक झंझट और हुआ कि उन्होंने यहां कह दिया कि हमें वोट सड़क के नाम पर नहीं चाहिए, हमें वोट विकास के नाम पर नहीं चाहिए, हमें वोट मोदीजी के नाम पर, देश की सुरक्षा और सर्जिकल स्ट्राइक के नाम पर दीजिए।
सांसद सुधीर गुप्ता के कामों को एक तरफ रख दीजिए, राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह के इस बयान से कांग्रेस गुस्से में है। उसके नेता और पूर्व जिला कांग्रेस अध्यक्ष नंदकिशोर पटेल का कहना है कि सेना किसी एक पार्टी की नहीं, सेना देश की है। भाजपा ने देश की सेना का राजनीतिकरण कर दिया, वह भावनाओं पर वोट मांग रही है जबकि हम मुद्दों पर बात करते हैं।

राष्ट्रीय अध्यक्ष शाह से एक बड़ी चूक यह भी हुई कि उन्होंने मंच से कह दिया कि नीमच जिले में पीएम आवास योजना में 40 हजार मकान बने हैं और इस मामले में उन्होंने जब भाजपा प्रत्याशी से हामी भरवाई तो उन्होंने भी हामी भर दी जबकि जिले में अब तक मात्र 13 हजार आवास ही बने हैं।
इस संसदीय सीट पर अमित शाह के जवाब में अब 10 मई को मुख्यमंत्री कमलनाथ भी तूफानी प्रचार के लिए आ रहे हैं। वे नीमच के सिंगोली और कुकड़ेश्वर तथा मंदसौर के शामगढ़ में आमसभाओं को संबोधित करेंगे।

इसके बाद फिर 11 मई को भाजपा के पक्ष में प्रचार के लिए पूर्व सीएम शिवराज सिंह चौहान नीमच के सिंगोली और मंदसौर के पिपलिया आ रहे हैं।

यदि दोनों दलों के प्रत्याशियों की बात करें तो कांग्रेस की लोकसभा प्रत्याशी मीनाक्षी नटराजन का कहना है कि मैंने तय किया है कि पूरे संसदीय क्षेत्र के तमाम पंचायत मुख्यालय पर जाऊंगी और मतदाताओं से सीधे संपर्क करूंगी। वे अब तक 200 से अधिक पंचायतों पर जा चुकी हैं और कर्जमाफी और न्याय के मुद्दे पर वोट मांग रही हैं।
8 मई को भाजपा प्रत्याशी सुधीर गुप्ता मंदसौर जिले के महुआ में जनसंपर्क के लिए गए थे, जहां गांव के युवाओं ने उन्हें घेर लिया और सवालों की झड़ी लगा दी, लेकिन वे उनका जवाब दिए बिना निकल लिए। उनके साथ ऐसा पहली बार नहीं हुआ है, उन्हें यह नाराज़गी कई गांवों में झेलनी पड़ी है, क्योंकि सांसद रहते हुए उनका जीवंत सम्पर्क नहीं रहा।

महुआ में हुई घटना पर आज जब पत्रकारों ने उनसे बात करना चाही तो वे मीडिया पर ही नाराज होकर बोले- ये आप लोगो का मिस इंटरपीटीशन है और जिस प्रकार आप रिकॉर्डिंग करते है वह गलत है। आप दुर्व्यवहार करते हैं। सांसद प्रत्याशी का यह जवाब सुनकर मीडिया वाले सकते में आ गए।
हमने जब संसदीय क्षेत्र के भाजपा के लोकसभा प्रभारी महेंद्र भटनागर से बात की तो उनका कहना था कि 70 साल में कांग्रेस ने देश का कोई विकास नहीं किया और 5 साल में मोदीजी ने देश को कहां से कहां पहुंचा दिया और देश का मान बढ़ाया। अब कांग्रेस को इन सबमें राजनीति सूझ रही है और वह लोगों को गुमराह कर रही है।

कुल मिलाकर नीमच-मंदसौर संसदीय सीट पर चुनावी घमासान अपने पूरे शबाब पर पहुंच गया है। इससे लगता है कि आने वाले दिनों में नेताओं में जमकर जुमलेबाजी होगी।

 

और भी पढ़ें :