भाजपा के आरोप पत्र पर कमलनाथ की फोटो को लेकर बिफरी कांग्रेस, FIR दर्ज करने को लेकर शिकायत

विशेष प्रतिनिधि| पुनः संशोधित शनिवार, 4 मई 2019 (19:01 IST)
भोपाल। मध्यप्रदेश में लोकसभा चुनाव के दूसरे चरण की वोटिंग से ठीक पहले भाजपा और के बीच आरोप-प्रत्यारोप की सियासत तेज हो गई है। भाजपा ने शनिवार को सरकार के 4 महीने के कार्यकाल को लेकर आरोप पत्र जारी किया है। पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने आरोप पत्र जारी करते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार ने कर्जमाफी के नाम पर किसानों को धोखा दिया है।
कमलनाथ सरकार अपने 4 महीने के कार्यकाल में हर मोर्चे पर विफल रही। बेरोजगारों को रोजगार के नाम पर सुनहरे सपने दिखाए गए लेकिन आज की तारीख तक एक भी युवा को रोजगार और बेरोजगारी भत्ता नहीं मिला है। शिवराज ने कहा कि ये बेहद दुर्भाग्यपूर्ण है कि 4 महीने की कमलनाथ सरकार के खिलाफ आरोप पत्र जारी करना पड़ रहा है। शिवराज ने कमलनाथ सरकार को निशाने पर लेते हुए कहा कि कांग्रेस सरकार के 4 महीने के कार्यकाल में जनता त्राहि-त्राहि कर रही है।
congress saluja" width="740" />
पूर्व मुख्यमंत्री ने बिजली कटौती को लेकर कमलनाथ सरकार पर तंज कसते हुए कहा कि प्रदेश अब बंटाढार युग की ओर पहुंच रहा है। इसके साथ ही शिवराज ने कानून व्यवस्था को लेकर कमलनाथ सरकार को आड़े हाथों पर लेते हुए कहा कि राजधानी में घर में घुसकर डीएसपी की हत्या हो रही है और मासूम बेटियों के साथ रेप हो रहा है, कानून व्यवस्था पूरी तरह खत्म हो चुकी है। चित्रकूट के मासूम जुड़वां भाइयों श्रेयांश और प्रियांश का चेहरा रह-रहकर आज भी सामने आता है जिनकी अपहरण के बाद हत्या कर दी गई थी।
उन्होंने आरोप लगाते हुए कहा कि अपराधियों को राजनीतिक संरक्षण मिल रहा है जिसके कारण प्रदेश में लगातार आपराधिक घटनाओं का ग्राफ बढ़ रहा है। पुलिस प्रशासन दबाव में काम कर रहा है। ट्रांसफर को उद्योग बना दिया गया है। हर पद के 'रेट' तय कर दिए हैं।
कांग्रेस का पलटवार : वहीं भाजपा के इन आरोपों को कांग्रेस ने सिरे से खारिज कर दिया है। कांग्रेस ने आरोपों को बेहद शर्मनाक बताते हुए कहा कि जिन लोगों ने अपने 15 वर्ष की प्रदेश की सरकार व केंद्र की 5 वर्ष की सरकार का आज तक हिसाब-किताब नहीं दिया, वे कांग्रेस की 4 माह पुरानी प्रदेश सरकार पर झूठे आरोप लगा रहे हैं। कांग्रेस ने भाजपा के आरोपों को झूठ का पुलिंदा बताया है।
कांग्रेस ने कहा कि पूरे आरोप पत्र में एक भी आरोप सच नहीं है, सभी आरोप झूठ से परिपूर्ण हैं। कांग्रेस ने इसके साथ कमलनाथ सरकार के कामकाजों का पूरा लेखा-जोखा भी रखा है, साथ ही कांग्रेस ने से आरोप पत्र की करते हुए कहा कि भाजपा ने गलत आरोप लगाकर सरकार को बदनाम करने की कोशिश की है।
वहीं कांग्रेस ने भाजपा के आरोप पत्र में मुख्यमंत्री कमलनाथ के फोटो का गलत इस्तेमाल करने के लिए पूर्व मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान सहित कई भाजपा नेताओं के खिलाफ एफआईआर दर्ज करने की मांग की है।

 

और भी पढ़ें :