शनिवार, 13 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. चुनाव 2024
  2. लोकसभा चुनाव 2024
  3. लोकसभा चुनाव का इतिहास
  4. history of lok sabha election 2009
Written By

15वीं लोकसभा 2009 : मनमोहन की दूसरी बार ताजपोशी

15वीं लोकसभा 2009 : मनमोहन की दूसरी बार ताजपोशी - history of lok sabha election 2009
नई दिल्ली। पांच वर्ष तक केंद्र में सफलतापूर्वक साझा सरकार चलाने वाली कांग्रेस ने 2009 के आम चुनाव में पिछली बार से बेहतर प्रदर्शन किया और सहयोगी दलों के साथ मिलकर फिर से सरकार बनाई जबकि वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी को प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित कर मैदान में उतरी भारतीय जनता पार्टी कोई करिश्मा नहीं कर सकी।

कांग्रेस ने इस चुनाव में मनमोहन सिंह को ही प्रधानमंत्री पद का उम्मीदवार घोषित किया था और वह लगातार दूसरी बार प्रधानमंत्री बने। इस चुनाव में भी यद्यपि किसी भी दल को स्पष्ट बहुमत नहीं मिला लेकिन कांग्रेस की सीटें बढ़कर 206 हो गईं और उसके नेतृत्व में संयुक्त प्रगतिशील गठबंधन की फिर से सरकार बनी। कांग्रेस ने इस चुनाव में उत्तर प्रदेश में अपनी स्थिति थोड़ी मजबूत कर ली लेकिन बिहार में वह केवल दो सीटों पर सिमटने को मजबूर हुई थी। भाजपा बिहार में बेहतर प्रदर्शन करने में सफल रही लेकिन राजस्थान में वह पिछले प्रदर्शन को दोहराने में विफल रही थी।

इस चुनाव की एक और खास बात यह रही कि पश्चिम बंगाल में राजनीतिक वर्चस्व वाली मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी को तगड़ा झटका लगा और वहां तृणमूल कांग्रेस ने जबरदस्त प्रदर्शन किया था। समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी को उत्तर प्रदेश में तथा जनता दल (यू) को बिहार में एवं बीजू जनता दल को ओडिशा में अच्छी सफलता मिली थी। राजद नेता लालू प्रसाद यादव ने दो क्षेत्रों सारण और पाटलीपुत्र से चुनाव लड़ा लेकिन पाटलीपुत्र सीट पर वे हार गए थे। लोक जनशक्ति पार्टी के नेता राम विलास पासवान हाजीपुर सीट पर हार गए थे।

लोकसभा की 543 सीटों के लिए हुए इस चुनाव में सात राष्ट्रीय, 34 राज्य स्तरीय, 322 निबंधित पार्टियों ने चुनाव लड़ा। राष्ट्रीय पार्टियों में कांग्रेस, भाजपा, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी, मार्क्सवादी कम्युनिस्ट पार्टी, बहुजन समाज पार्टी, राष्ट्रवादी कांग्रेस पार्टी और राष्ट्रीय जनता दल शामिल थे। कुल 8070 उम्मीदवारों ने अपनी राजनीतिक किस्मत को आजमाया था।

राष्ट्रीय पार्टियों ने कुल 1623 स्थानों पर उम्मीदवार खड़े किए थे जिनमें से 376 सीटों पर उन्हें सफलता मिली। इन पार्टियों को 63.58 प्रतिशत वोट मिले थे। राज्य स्तरीय पार्टियों ने 394 प्रत्याशी चुनाव मैदान में उतारे थे जिनमें से 146 निर्वाचित हुए थे। निबंधित पार्टियों ने 6053 उम्मीदवार लड़ाए थे जिनमें से 21 जीत गए थे।

कांग्रेस के 440 उम्मीदवारों में से 206, भाजपा के 433 में से 116 और बसपा के 500 उम्मीदवारों में से 21 ही जीत सके थे। भाकपा और माकपा को बड़ा झटका लगा था। भाकपा के 56 में से चार तथा माकपा के 82 में से 16 उम्मीदवार ही निर्वाचित हो पाए थे। राकपा के 68 में नौ और राजद के 44 में से चार प्रत्याशी विजयी हो पाए थे।

कांग्रेस को उत्तर प्रदेश में 21, आन्ध्र प्रदेश में 33, बिहार में दो, असम में सात, अरुणाचल प्रदेश में दो, गोवा में एक, गुजरात में 11, हरियाणा में नौ, कर्नाटक में छह, केरल में 13, मध्य प्रदेश में 12, महाराष्ट्र में 17, हिमाचल प्रदेश में एक, जम्मू कश्मीर में दो, मणिपुर में दो, मेघालय में एक, मिजोरम में एक, ओडिशा में छह, पंजाब में आठ, राजस्थान में 20, तमिलनाडु में आठ, पश्चिम बंगाल में छह, उत्तराखंड में पांच, दिल्ली में सात, झारखंड, छत्तीसगढ़, चंडीगढ़, लक्ष्यद्वीप और पुड्डुचेरी में एक-एक सीट मिली थी।

भाजपा को उत्तर प्रदेश में दस, बिहार में 12, असम में चार, गोवा में एक, गुजरात में 15, हिमाचल प्रदेश में तीन, कर्नाटक में 19, मध्य प्रदेश में 16, महाराष्ट्र में नौ, राजस्थान में चार, पंजाब में एक, पश्चिम बंगाल में एक, छत्तीसगढ में दस, झारखंड में आठ, अंडमान निकोबार, दादर नगर हवेली और दमनदीव में एक-एक सीट मिली थी। भाकपा को पश्चिम बंगाल में दो तथा ओडिशा और तमिलनाडु में एक-एक सीट मिली थी। माकपा को पश्चिम बंगाल में नौ, केरल में चार, त्रिपुरा में दो तथा तमिलनाडु में एक सीट मिली थी। बसपा को उत्तर प्रदेश में 20 और मध्य प्रदेश में एक तथा राकपा को महाराष्ट्र में आठ और मेघालय में एक सीट मिली थी।

राजद को बिहार में चार, तेलंगाना राष्ट्र समिति को आन्ध्र प्रदेश में दो, तेलुगुदेशम पार्टी को आन्ध्र प्रदेश में ही छह, जनता दल (यू) को बिहार में 20, शिवसेना को महाराष्ट्र में 11, बीजद को ओडिशा में 14, अकाली दल को पंजाब में चार, अन्ना द्रमुक और द्रमुक को तमिलनाडु में क्रमश: नौ और 18, समाजवादी पार्टी को उत्तर प्रदेश में 23 तथा तृणमूल कांग्रेस को पश्चिम बंगाल मं 19 सीटें मिली थीं। इसके अलावा कुछ सीटें अन्य पार्टियों को भी मिली थीं।

उत्तर प्रदेश की रायबरेली सीट पर कांग्रेस की सोनिया गांधी बसपा के आरएस कुशवाहा से भारी मतों से जीती थीं। श्रीमती गांधी को चार लाख 81 हजार से अधिक मत आए थे, जबकि कुशवाहा 109325 वोट ही ला सके। अमेठी में राहुल गांधी ने बसपा के ही आशीष शुक्ला को हराया था। गांधी को 464195 वोट और शुक्ला को 93997 वोट ही मिले थे। भाजपा के टिकट पर लालजी टंडन लखनऊ से, मेनका गांधी आंवला से और वरुण गांधी पीलीभीत से निर्वाचित हुए थे। समाजवादी पार्टी के नेता मुलायम सिंह यादव मैनपुरी सीट से विजयी हुए थे। गोरखपुर से भाजपा के टिकट पर आदित्यनाथ, राष्ट्रीय लोकदल के अजीत सिंह बागपत से तथा सपा के टिकट पर रामपुर से अभिनेत्री जयाप्रदा निर्वाचित हुई थीं।

बिहार में राजद नेता लालू प्रसाद यादव सारण में भाजपा के राजीव प्रताप रुडी से चुनाव जीत गए थे जबकि यादव पाटलीपुत्र सीट पर जनता दल (यू) के रंजन प्रसाद यादव से चुनाव हार गए थे। मधेपुरा में जनता दल (यू) नेता शरद यादव ने राजद नेता रवींद्र चरण यादव को पराजित किया था। हाजीपुर में जद (यू) नेता रामसुन्दर दास ने लोजपा नेता रामविलास पासवान को हराया था। भाजपा के वरिष्ठ नेता लालकृष्ण आडवाणी ने कांग्रेस उम्मीदवार सुरेश पटेल को एक लाख से अधिक मतों से हराया था। हरियाणा के अंबाला में कांग्रेस की कुमारी शैलजा तथा कर्नाटक की हासन सीट पर जनता दल (एस) के एचडी देवगौड़ा चुने गए थे। बेंगलुरु दक्षिण सीट पर भाजपा नेता अनंत कुमार ने कांग्रेस उम्मीदवार को हराया था।

मध्य प्रदेश के ग्वालियर में भाजपा की यशोधरा राजे, गुना में कांग्रेस के ज्‍योतिरादित्‍य सिंधिया तथा छिंदवाड़ा में इसी पार्टी के कमलनाथ विजयी हुए थे। विदिशा में भाजपा नेता सुषमा स्वराज और इंदौर में इसी पार्टी की सुमित्रा महाजन निर्वाचित हुई थीं।

पंजाब के भटिंडा में शिरोमणि अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल और लुधियाना में कांग्रेस के मनीष तिवारी तथा अमृतसर में भाजपा के टिकट पर नवजोत सिंह सिद्धू ने जीत का परचम फहराया था। महाराष्ट्र में मुंबई उत्तर मध्य सीट पर कांग्रेस के टिकट पर प्रिया दत्त निर्वाचित हुई थीं।
ये भी पढ़ें
16वीं लोकसभा : पहली बार पूर्ण बहुमत की गैर कांग्रेसी सरकार