शनिवार, 13 अप्रैल 2024
  • Webdunia Deals
  1. चुनाव 2024
  2. लोकसभा चुनाव 2024
  3. लोकसभा चुनाव का इतिहास
  4. history of lok sabha election 1984
Written By
Last Updated : शनिवार, 10 फ़रवरी 2024 (14:11 IST)

8वीं लोकसभा 1984 : कांग्रेस को एकतरफा बहुमत, राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने

8वीं लोकसभा 1984 :  कांग्रेस को एकतरफा बहुमत, राजीव गांधी प्रधानमंत्री बने - history of lok sabha election 1984
31 अक्टूबर 1984 को प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी की हत्या ने कांग्रेस के लिए ऑक्सीजन का काम किया तथा उसके लिए सहानुभूति मत बनाए। इंदिरा गांधी की मृत्यु के बाद लोकसभा को भंग कर दिया गया और राजीव गांधी ने अंतरिम प्रधानमंत्री के रूप में शपथ ली।
 
 
नवंबर 1984 के लिए चुनाव की घोषणा कर दी गई। चुनाव प्रचार के दौरान राजीव गांधी ने लोगों को अपने परिवार के योगदान की याद दिलाई और खुद को एक सुधारक के रूप में प्रस्तुत किया।
 
 
इस चुनाव में कांग्रेस ने भारी बहुमत से जीत हासिल की। इसने 409 लोकसभा सीटें और लोकप्रिय मतों का 50 फीसदी अपने नाम किया। यह पार्टी का सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन था।
 
 
तेलुगुदेशम पार्टी 30 सीटों के साथ संसद में दूसरी सबसे बड़ी पार्टी बन गई। यह भारतीय संसद के इतिहास के उन दुर्लभ रिकॉर्डों में एक है जिसमें कोई क्षेत्रीय पार्टी मुख्य विपक्षी दल के रूप में उभरी।
 
ये भी पढ़ें
9वीं लोकसभा 1989 : सबसे बड़े दल के बावजूद कांग्रेस सत्ता से दूर रही