ट्रंप ने की मोदी की तारीफ तो इमरान ने दी युद्ध की धमकी

पुनः संशोधित शुक्रवार, 27 सितम्बर 2019 (11:10 IST)
पाकिस्तानी प्रधानमंत्री ने मुद्दे को लेकर भारत के साथ की धमकी दी है। भारतीय प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के अमेरिकी दौरे में राष्ट्रपति ट्रंप से उनकी मुलाकातें और नजदीकियों से पाकिस्तान परेशान है।
राष्ट्रपति ट्रंप ने भारत और पाकिस्तान से आपसी मतभेदों को सुलझाने की अपील की है। लेकिन इसके साथ ही उन्होंने प्रधानमंत्री मोदी की जमकर तारीफ की। ट्रंप ने कहा कि मोदी अमेरिकी रॉक स्टार एल्विस प्रेस्ली जितने लोकप्रिय हैं।

लेकिन इमरान खान मोदी को बिल्कुल अलग तरीके से देखते हैं। उन्होंने संयुक्त राष्ट्र महासभा के दौरान पत्रकारों से बातचीत में मोदी को "नस्लवादी" बताया। भारत और पाकिस्तान ने कश्मीर को लेकर तीन युद्ध लड़े हैं। अगस्त में जब से प्रधानमंत्री मोदी की सरकार ने जम्मू कश्मीर का विशेष दर्जा खत्म करते हुए उसे दो हिस्सों में बांटा है, तब से कश्मीर पर रस्साकशी और तेज हो गई है।
जम्मू कश्मीर को स्वायत्तता देने वाली धारा 370 को खत्म करने के बाद वहां सैन्य कर्फ्यू लगाया गया जिससे मुस्लिम बहुल घाटी में लोगों के पास संचार के साधन नहीं रहे और वे दुनिया से लगभग कट गए।

इमरान खान ने कहा, "50 दिन से कश्मीर के लोगों को नौ लाख फौजियों ने बंधक बनाया हुआ है।" उन्होंने बड़े पैमाने पर होने वाली गिरफ्तारियों, अस्पताल ठप्प होने और मीडिया संस्थानों पर लगने वाली पाबंदियों की भी आलोचना की।
इमरान खान ने कहा, "अस्सी लाख लोग एक खुली जेल में बंद हैं जिसे आज के दौर में स्वीकार नहीं किया जा सकता। सबसे बड़ी चिंता यह है कि कर्फ्यू हटने के बाद क्या होगा। हमें डर है कि वहां नौ लाख फौजी है, वहां नरसंहार हो सकता है।" इमरान खान ने युद्ध की आशंका जताते हुए कहा, "इस बात की संभावना है कि कभी ना कभी ये दोनों परमाणु शक्ति संपन्न देश एक दूसरे के आमने सामने आ सकते हैं।"

दूसरी तरफ, मोदी ने कश्मीर में होने वाले बदलाव का बचाव किया है। उन्होंने कहा कि बदलाव के कदमों से वह इलाका अलगाववाद से मुक्त हुआ है और उनके समर्थकों ने भी इसका स्वागत किया है।
एक तरफ इमरान खान युद्ध की धमकियां दे रहे हैं, तो दूसरी तरफ ट्रंप मोदी के साथ गलबंहियां करते दिख रहे हैं। उन्होंने मोदी की तुलना अमेरिका से एक ऐसे गायक से की जिसे रॉक एंड रोल संगीत का बादशाह कहा जाता है। यह बात उन्होंने ह्यूस्टन में मोदी के जोरदार स्वागत के बाद कही। 50 हजार अमेरिकी भारतीय "हाउडी मोदी" कार्यक्रम में पहुंचे। ट्रंप भी इस मौके पर मोदी का साथ देने के लिए आए।
जब महासभा के दौरान ट्रंप मोदी से मिले तो उन्होंने हाउडी मोदी कार्यक्रम में आए लोगों के बारे में
कहा, "वे लोग तो पागल हो गए थे। यह एल्विस जैसा था।" जब ट्रंप से पूछा गया कि मोदी के साथ उनकी केमिस्ट्री कैसी है तो उन्होंने कहा, "जितनी अच्छी हो सकती है।" उन्होंने मोदी के बारे
में कहा, "मैं उनका बहुत सम्मान करता हूं, उनका प्रशंसक हूं और मैं उन्हें बहुत ही पसंद करता हूं।" वह मोदी की तारीफ में यहां तक निकल गए कि उन्हें "ग्रेट जेंटलमैंन", "ग्रेट लीडर" और "फादर ऑफ इंडिया" कह दिया।
प्रधानमंत्री मोदी ने भी कोई कसर बाकी नहीं रखी और उन्होंने ट्रंप को अपना दोस्त और भारत का दोस्त बताया। कश्मीर के मुद्दे पर ट्रंप ने मोदी से कोई समाधान तलाशने को कहा। सोमवार को ट्रंप इमरान खान से भी मिले थे। इमरान खान का कहना है कि उन्होंने विश्व नेताओं के सामने कश्मीर का मुद्दा उठाया है। प्रधानमंत्री मोदी से मिलने की उन्होंने कोई इच्छा नहीं दिखाई। इमरान खान ने कहा, "दुर्भाग्य से भारत में इस वक्त एक नस्लवादी और हिंदुओं को सर्वोच्च मानने वाले व्यक्ति का राज है। वे लोग तो मुसलमानों को बराबर का नागरिक भी नहीं समझते हैं।"
इमरान खान ने भारतीय सेना प्रमुख जनरल बिपिन रावत के इन दावों को बेबुनियाद बताया कि पाकिस्तान ने अपने नियंत्रण वाले कश्मीर में
आतंकवादी शिविरों को फिर से सक्रिय कर दिया है और 500 आतंकवादी भारत में घुसपैठ के लिए तैयार बैठे हैं। इमरान खान के मताबिक भारतीय सेना प्रमुख ने अपने दावों को साबित करने के लिए कोई सबूत नहीं दिए हैं।

एके/एनआर (एपी)



और भी पढ़ें :