मर्केल की पार्टी का प्रमुख चुनने के लिए बैठक शुरू

Angela Merkel
DW| Last Updated: शनिवार, 16 जनवरी 2021 (12:19 IST)
जर्मन की रूढ़िवादी पार्टी सीडीयू की पार्टी कांफ्रेस बर्लिन में शुरू हो गई है। शनिवार को पार्टी प्रमुख का नाम तय करने के लिए मतदान होगा, जो मर्केल का वारिस ढूंढने की दिशा में पहला कदम है।
सीडीयू यानी क्रिश्चियन डेमोक्रेटिक यूनियन में नेतृत्व पद के लिए मुकाबला काफी व्यापक हो गया है। पार्टी के बैलेट पेपर पर 3 उम्मीदवारों के नाम हैं। पहला नाम आर्मीन लाशेट का है, जो जर्मनी के सबसे ज्यादा आबादी वाले राज्य नॉर्थ राइन वेस्टफेलिया के मुख्यमंत्री हैं। उनके अलावा कॉर्पोरेट लॉयर फ्रीडरीष मैर्त्स और विदेश नीति के जानकार नॉर्बर्ट रोएटगन भी इस दौड़ में हैं।

पार्टी में मतदान जर्मन राजनीति के लिहाज से अहम साल की बिलकुल शुरुआत में हो रहा है। इसी साल सितंबर में चुनाव होने वाले हैं। चांसलर एंजेला मर्केल इस चौथे कार्यकाल के खत्म होने के बाद अपनी रिटायरमेंट का ऐलान कर चुकी हैं।
चांसलर की उम्मीदवारी पर ऊहापोह

पारंपरिक रूप से सीडीयू का नेता अपनी पार्टी के साथ ही बवेरियाई सहयोगी पार्टी सीएसयू के चुनावी अभियान का नेतृत्व करने के साथ ही चांसलर का उम्मीदवार भी होता है। हालांकि इस बार चुनावी साल में सीडीयू/सीएसयू का नेतृत्व करने के लिए दूसरे उम्मीदवार भी सामने आए हैं। इनमें खासतौर से सीएसयू के नेता मार्कुस जोएडर का नाम लिया जा रहा है, जो बवेरिया के मुख्यमंत्री हैं और जर्मनी के सबसे लोकप्रिय राजनेताओं में एक हैं।
जर्मनी के जेडडीएफ चैनल के कराए एक ओपिनियनल पोल के शुक्रवार को जारी नतीजे बताते हैं कि सितंबर के चुनाव में इस बार रूढ़िवादी पार्टियों की तरफ से कौन उम्मीदवार होगा, इसे लेकर अनिश्चितता बनी हुई है।

जर्मनी के अगले चांसलर के लिए जोएडर सबसे ज्यादा 54 फीसदी लोगों की पसंद हैं। स्वास्थ्य मंत्री येंस श्पान ने भी इन तीनों लोगों की तुलना में बेहतर प्रदर्शन किया है, जो पार्टी के शीर्ष पद के लिए मैदान में हैं। उन्हें सर्वे में शामिल 32 फीसदी लोगों का समर्थन मिला है। मैर्त्स और रोएटगन को 29-29 फीसदी जबकि लाशेट उनसे बस थोड़े से ही पीछे यानी 28 फीसदी लोगों की पसंद हैं। चांसलर पद के लिए सीडीयू/सीएसयू के संयुक्त उम्मीदवार का फैसला मार्च में होने की उम्मीद की जा रही है।
ऑनलाइन मीटिंग और डिजिटल वोटिंग

बर्लिन में शुरू हुआ 2 दिन का अधिवेशन 2 बार पहले ही टाला जा चुका है। पार्टी कॉन्फ्रेंस में कुल 1,001 प्रतिनिधि ऑनलाइन रूप से हिस्सा ले रहे हैं और यह पहली बार है, जब डिजिटल वोट के जरिए नए नेता का चुनाव होगा। जर्मनी की राजनीति के लिए यह बिलकुल नया अनुभव है। पार्टी प्रमुख पद के लिए विजेता के नाम की आधिकारिक पुष्टि 22 जनवरी को पोस्टल वोटों के रूप में नतीजों की पुष्टि के बाद होगी।
मैर्त्स, लाशेट और रोएटगन तीनों ने ऑनलाइन वोटों के नतीजे स्वीकार करने का ऐलान किया है। इसका मतलब है कि चुनाव में हारने वाला शनिवार के बाद पोस्टल वोटों में जीत के लिए अभियान नहीं चलाएगा। नया नेता आनेग्रेट क्रांप कारेनबावर की जगह पार्टी के प्रमुख का पद हासिल करेगा। कारेनबावर को मर्केल के रिटायरमेंट के बाद उनका उत्तराधिकारी बनाने की घोषणा की गई थी लेकिन वे पार्टी के भीतर इस मसले पर आम सहमति बनाने में नाकाम रहीं और खुद को इस दौड़ से अलग करने का फैसला कर लिया। शुक्रवार को पार्टी के अधिवेशन में आनेग्रेट क्रांप कारेनबावर, मर्केल और जोएडर का भाषण होना है।
एनआर/आईबी (डीपीए)



और भी पढ़ें :