कहां से निकलती हैं भारत की प्रमुख नदियां

ganga
Last Updated: सोमवार, 19 अगस्त 2019 (12:27 IST)
भारत की नदियां देश की प्राचीन सभ्यताओं का एक महत्वपूर्ण अंग है। यहां नदियों की पूजा की जाती है। भारत की कई पुरानी सभ्यताओं का विकास इन नदियों के किनारे ही हुआ है। एक नजर भारत में बहने वाली प्रमुख नदियों पर।

गंगा
गंगा भारत की सबसे प्रमुख नदियों में से एक है। यह उत्तराखंड राज्य में हिमालय के गंगोत्री ग्लेशियर से निकलती है। करीब 2525 किलोमीटर लंबी यह नदी उत्तर प्रदेश, बिहार होते हुए बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। इस नदी का इतिहास उतना ही पुराना माना जाता है, जितनी भारतीय सभ्यता। हिंदू इस नदी को 'मां' कहते हैं और इसी पूजा करते हैं।

ब्रह्मपुत्र
ब्रह्मपुत्र नदी तिब्बत में हिमालय के अंगशी ग्लेशियर से निकलती है और यह भारत में अरुणाचल प्रदेश में प्रवेश करती है। यहां इसे दिहांग के नाम से जाना जाता है जबकि असम में इसे ब्रह्मपुत्र कहा जाता है। इसके बाद यह नदी बांग्लादेश पहुंचती है। यहां इसे जमुना कहा जाता है। गंगा नदी के साथ मिलकर यह एक डेल्टा 'सुंदरबन' का निर्माण करती है और बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। इसकी कुल लंबाई करीब 2900 किलोमीटर है।
यमुना
यमुना नदी भारत के उत्तराखंड स्थित बंदरपूंछ के दक्षिणी ढाल पर स्थित यमुनोत्री ग्लेशियर से निकलती है। इसकी लंबाई करीब 1,370 किलोमीटर है। मथुरा वृंदावन होते हुए यह नदी इलाहाबाद में गंगा नदी से मिल जाती है। हिंदू धर्म में ऐसी मान्यता है कि जो लोग इसके पानी में स्नान कर लेते हैं, उन्हें मृत्यु का भय समाप्त हो जाता है। लेकिन अब भारत की सबसे दूषित नदियों में से एक है।

गोदावरी
गोदावरी नदी महाराष्ट्र के नासिक जिले में त्र्यंबक के पास से निकलती है। इस नदी की कुल लंबाई करीब 1,465 किलोमीटर है। यह नदी पूर्व दिशा की ओर बहती हुई आंध्र प्रदेश के समीप बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। गंगा की तरह ही इसे भी काफी पवित्र माना गया है। लोग इसे दक्षिण की गंगा भी कहते हैं।

कावेरी
कावेरी नदी का उद्गम कर्नाटक के पश्चिमी घाट में तलकावेरी से हुआ है। इसकी शुरुआत एक छोटे तालाब से होती है, जिसे कुंडीके तालाब के नाम से भी जाना जाता है। कर्नाटक और तमिलनाडु में करीब 760 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद यह नदी बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है।

कृष्णा
कृष्णा नदी महाराष्ट्र के महाबालेश्वर के समीप पश्चिमी घाट से निकलती है। महाराष्ट्र, कर्नाटक, तेलंगाना और आंध्र प्रदेश होते हुए करीब 1,290 किलोमीटर की यात्रा के बाद यह बंगाल की खाड़ी में मिल जाती है। हिंदू धर्म में इस नदी का काफी महत्व है। इस नदी पर दो बड़े बांध श्रीसैलम और नागार्जुन सागर बांध बने हैं।

नर्मदा
नर्मदा नदी मध्य प्रदेश के जिले अमरकंटक से निकलती है। पूर्व से पश्चिम की ओर बहने वाली यह नदी मध्य प्रदेश, महाराष्ट्र और गुजरात होते हुए करीब 1289 किलोमीटर की दूरी तय करने के बाद अरब सागर में मिल जाती है। दुनिया का दूसरा सबसे ऊंचा सरदार सरोवर बांध नर्मदा नदी पर ही बना है।

ताप्ती
ताप्ती नदी का उद्गम मध्य प्रदेश स्थित सतपुड़ा पर्वतमाला से हुआ है। इसकी कुल लंबाई करीब 724 किलोमीटर है। यह नदी पश्चिम दिशा की ओर बहते हुए महाराष्ट्र और गुजरात होकर अरब सागर में मिल जाती है। सूरत बन्दरगाह इसी नदी के मुहाने पर स्थित है।

रिपोर्ट रवि रंजन


 

और भी पढ़ें :