स्टोक्स की राह पर चले पेन, मानसिक स्वास्थ्य के कारण ऐशेज के पहले टेस्ट से हटे

Last Updated: शुक्रवार, 26 नवंबर 2021 (15:54 IST)
मेलबर्न:इंग्लैंड के ऑलराउंडर बेन स्टोक्स की राह पर ऑस्ट्रेलिया के पूर्व कप्तान और विकेटकीपर टिम पेन चल पड़े हैं। स्टोक्स की तरह उन्होंने भी क्रिकेट से अनिश्चित कालीन ब्रेक लिया है। हालांकि दिलचस्प बात यह है कि स्टोक्स से वापसी कर रहे हैं वहीं पेन एशेज का पहला टेस्ट तो नहीं खेलेंगे आगे भी ऑस्ट्रेलियाई टीम से उनके जुड़ने की संभावना कम ही है।

ऑस्ट्रेलिया की टेस्ट कप्तानी छोड़ने वाले टिम पेन ने अब मानसिक स्‍वास्‍थ्‍य का हवाला देते हुए क्रिकेट से अनिश्चितकालीन समय के लिए ब्रेक ले लिया है। इसका मतलब है कि वह एशेज़ सीरीज़ का हिस्सा नहीं होंगे और इससे इस संभावना को भी बल मिला है कि उन्होंने अपना आख़िरी टेस्ट खेल लिया है।


ब्रिस्बेन में ऑस्ट्रेलिया टीम के साथ जुड़ने से पहले पेन शुक्रवार को तस्मानिया के मार्श कप मैच में खेलने वाले थे, लेकिन शुक्रवार की सुबह वह मैच से हट गए। पेन के मैनेजर जेम्स हेंडरसन ने ट्वीट किया, "इस बात की पुष्टि करते हुए कि टिम पेन अनिश्चितकालीन ब्रेक के लिए क्रिकेट से दूर जा रहे हैं। हम उनकी और बोनी की भलाई के लिए बेहद चिंतित हैं और इस समय कोई और टिप्पणी नहीं करेंगे।"

क्रिकेट तस्मानिया ने एक बयान में कहा, "पिछले 24 घंटों में चर्चा के बाद टिम पेन ने क्रिकेट तस्मानिया को सलाह दी है कि वह निकट भविष्य के लिए क्रिकेट के सभी प्रारूपों से अवकाश ले रहे हैं। क्रिकेट तास्मेनिया पेशेवर और व्यक्तिगत रूप से टिम और उनके परिवार का समर्थन करना जारी रखेगा।"

क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया के मुख्य कार्यकारी निक हॉकले ने कहा कि संगठन पेन का समर्थन करेगा। उन्होंने कहा, "हम मानते हैं कि यह टिम और उनके परिवार के लिए एक अविश्वसनीय रूप से कठिन समय है और उनका समर्थन करने के लिए हम तैयार हैं। हम टिम के फ़ैसले को समझते हैं और उसका समर्थन करते हैं, क्योंकि उन्होंने अपने और अपने परिवार पर ध्यान लेने के लिए यह ब्रेक लिया है।"

पेन के हटने का मतलब है कि गाबा में एलेक्स कैरी के टेस्ट पदार्पण की संभावना है, हालांकि उन्हें जोश इंग्लिस से प्रतिस्पर्धा का सामना करना पड़ सकता है। हॉकले ने कहा, "राष्ट्रीय चयन पैनल आने वाले दिनों में पहले एशेज़ टेस्ट से पहले अंतिम टीम पर चर्चा करने के लिए बैठक करेगा।"

जब एक हफ्ते पहले पेन ने कप्तानी से इस्तीफ़ा दे दिया था, तो क्रिकेट ऑस्ट्रेलिया बोर्ड ने कहा कि वह एक खिलाड़ी के रूप में चयन के लिए उपलब्ध हैं और पेन ने ख़ुद ही इंग्लैंड का सामना करने की इच्छा को दोहराया था।
उन्होंने हेराल्ड सन को बताया था, "मैं रिटायर नहीं होने वाला था, मैं बहुत स्पष्ट था कि मैं खेलना ज़ारी रखना चाहता हूं और संभावित रूप से इस एशेज़ सीरीज़ के बाद समाप्त करना चाहता हूं। मैं ऑस्ट्रेलिया में एशेज़ सीरीज़ जीतने के बाद अपने टेस्ट करियर को समाप्त करने के बारे में सोचता हूं। अपने देश का प्रतिनिधित्व करने और एशेज़ जीतने में मदद करना चाहता हूं।"

एसीए, जिन्होंने अपने शुरुआती बयान में कहा था कि उन्हें नहीं लगता कि उन्हें इस्तीफ़ा देना चाहिए था, उन्होंने जोर देकर कहा कि उन्हें खेलना जारी रखने की अनुमति दी जानी चाहिए। इस सप्ताह की शुरुआत में क्रिकेट तस्मानिया ने सीए को निशाने पर लिया, जिसके वर्तमान अध्यक्ष रिचर्ड फ्रायडेनस्टीन ने कहा कि इस बोर्ड ने तीन साल पहले पेन को कप्तान के रूप में समर्थन नहीं दिया। 50 वर्षों में किसी भी ऑस्ट्रेलियाई कप्तान के साथ हुआ यह सबसे ख़राब व्यवहार हुआ है।

गुरुवार को नाथन लायन ने उन्हें दुनिया के सर्वश्रेष्ठ विकेटकीपर के रूप में समर्थन दिया था। उन्होंने कहा, "चयनकर्ताओं ने कहा है कि वो सर्वश्रेष्ठ उपलब्ध एकादश को चुनने जा रहे हैं और मेरी नजर में टिम पेन दुनिया के सर्वश्रेष्ठ कीपर हैं। मुझे पता है कि मैं उन्हें टीम में चाहता हूं। यह एक गेंदबाज़ के दृष्टिकोण से बहुत स्वार्थी है। मुझे स्टंप के पीछे और मेरी नज़र में सबसे अच्छा ग्लव्समैन चाहिए, वह टिम पेन हैं।"


पेन ने 35 टेस्ट खेले हैं। जब उन्हें दक्षिण अफ़्रीका में गेंद से छेड़छाड़ मामले के बाद टीम का कप्तान बनाया तो उन्होंने भारत के ख़िलाफ़ घर में दो सीरीज़ हारी, जबकि 2019 में इंग्लैंड में एशेज़ जीतने में कामयाब रहे थे। पेन की जगह तेज़ गेंदबाज़ पैट कमिंस को टेस्ट टीम का कप्तान बनाया गया है।

गौरतलब है कि बेन स्टोक्स छह महीने के ब्रेक के बाद

नवंबर महीने में ही क्वीन्सलैंड के गोल्ड कोस्ट के मेट्रिको स्टेडियम में पहली बार ट्रेनिंग सत्र के लिए इंग्लैंड की टीम के साथ जुड़ गए थे। स्टोक्स ने मानसिक स्वास्थ्य समस्यों और अंगुली की चोट से उबरने के लिए ब्रेक लिया था जिसके बाद इस आलराउंडर को इंग्लैंड टीम में शामिल किया था।



और भी पढ़ें :