तेज गेंदबाजी पर फिर यह जोखिमभरा शॉट खेलना चाहते हैं पंत (वीडियो)

Last Updated: मंगलवार, 9 मार्च 2021 (00:22 IST)
अहमदाबाद:भारतीय को शनिवार को यहां के खिलाफ चौथे और अंतिम टेस्ट में मिली जीत के बाद उनके शानदार शतक के लिये ‘मैन ऑफ द मैच’ चुना गया।
पंत ने 118 गेंद की 101 रन की पारी के दौरान धैर्य और आक्रामकता का संतुलन बनाते हुए इंग्लैंड के गेंदबाजों को परेशान किया जिससे उनके कप्तान विराट कोहली से लेकर प्रतिद्वंद्वी टीम के कप्तान जो रूट ने उनकी काफी प्रशंसा की।

लेकिन 23 साल के इस खिलाड़ी ने ‘मैन ऑफ द मैच पुरस्कार’ लेने के बाद ज्यादा कुछ नहीं कहा और हमेशा की तरह मुस्कुराते रहे।

यह पूछने पर कि क्या चीज उनके लिये कारगर रही और खेलते समय उनकी खुशी का राज क्या है तो उन्होंने कहा, ‘‘मुझे लगता है कि ‘ड्रिल्स’ से मदद मिली और मेरे आत्मविश्वास ने मदद की जो मेरी बल्लेबाजी से लेकर विकेटकीपिंग में दिखी। ’’
लेकिन वह स्वीकार करते हैं कि यह पारी उनके लिये काफी अहमियत रखती है क्योंकि इससे टीम को अनिश्चित स्थिति से बाहर निकलने में मदद की।

उन्होंने कहा, ‘‘यह बहुत ही महत्वपूर्ण पारी है, विशेषकर जब तक टीम दबाव में थी। हम छह विकेट पर 146 रन पर मुश्किल स्थिति में थे और इससे बेहतर कुछ नहीं हो सकता कि आप तब शानदार प्रदर्शन करो जब टीम को आपकी सबसे ज्यादा जरूरत हो। ’’

की गेंद पर ‘रिवर्स फ्लिक’ शॉट खेलने के बारे में पूछने पर पंत ने कहा, ‘‘अगर मुझे फिर एक तेज गेंदबाज की गेंद पर करने का मौका मिलता है तो मैं निश्चित रूप से ऐसा करूंगा। ’’
और वह सिर्फ बल्ले से ही दर्शकों का मनोरंजन नहीं करते बल्कि अपनी स्टंप के पीछे अपनी हास्यास्पद तरीकों और टिप्पणियों से भी सभी को लुभाते रहते हैं। हर्षा भोगले ने तो यहां तक कह दिया कि पंत की टिप्पणियों ने उनके जैसे अनुभवी कमेंटटर को भी दर्शकों के सामने फीका कर दिया।
इसका जवाब देते हुए वह अपनी हंसी को नहीं छुपा सके, ‘‘यह मेरी तारीफ है लेकिन माफ कीजिये, यह आपके लिये समस्या बन गयी है। ’’

उन्होंने कहा, ‘‘मैं इसी चीज पर विश्वास करते हुए बड़ा हुआ हूं कि मैं खुश रहने और हर किसी को खुश रखने के लिये क्रिकेट खेलूंगा।

गौरतलब है कि ऋषभ पंत ने इस सीरीज के पहले टेस्ट की पहली पारी में 91 रन बनाए थे , लेकिन सीरीज जीत में निर्णायक पारी उन्होंने चौथे टेस्ट में खेली। भारत जब 146 पर 6 विकेट गंवा चुका था तब उन्होंने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की और शतक बनाया। सुंदर के साथ उनकी शतकीय साझेदारी ने ही भारत को जीत की दहलीज पर पहुंचाया। इस सीरीज में ऋषभ पंत ने 270 रन बनाए, वह सीरीज में सर्वाधिक रन बनाने वाले बल्लेबाजों में तीसरे स्थान पर है।(भाषा)




और भी पढ़ें :