मयंक अग्रवाल का दोहरा शतक, भारत ने तीसरी बार 1 दिन में बनाए 400 रन

Last Updated: शुक्रवार, 15 नवंबर 2019 (18:16 IST)
इंदौर। शानदार फॉर्म में चल रहे ओपनर (243) के बेहतरीन दोहरे शतक से विश्व की नंबर एक टीम भारत ने बांग्लादेश के खिलाफ पहले क्रिकेट टेस्ट मैच के दूसरे दिन 6 विकेट पर 493 रन बनाकर मेहमान टीम पर अपना शिकंजा कस दिया। भारत के पास अब 343 रन की विशाल बढ़त हो गई है और संभव है कि मैच तीसरे दिन ही खत्म हो जाए। यह तीसरा मौका है जब भारत ने 1 दिन में 400 रन बनाए हैं।
होलकर स्टेडियम पर 28 वर्षीय मयंक ने विस्फोटक बल्लेबाज वीरेंद्र सहवाग के अंदाज में छक्का लगाकर अपना पूरा किया और साथ ही अपना सर्वश्रेष्ठ स्कोर भी बना डाला।
मयंक ने इससे पहले दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ घरेलू सीरीज में 215 रन बनाए थे। मयंक का यह तीसरा शतक है, जिसमें 2 दोहरे शतक शामिल हैं। मयंक ने 330 गेंदों में 28 चौकों और 8 छक्कों की मदद से 243 रन बनाए।
मयंक का यह दोहरा शतक रिकॉर्डों के लिहाज से भी दिलचस्प रहा। उन्होंने न केवल सहवाग स्टाइल में छक्का मारकर दोहरा शतक पूरा किया बल्कि ओपनर के रूप में सर्वाधिक दोहरे शतक बनाने के मामले में वीनू मांकड़ और वसीम जाफर की भी बराबरी कर ली, जिनके नाम 2-2 दोहरे शतक हैं। लीजेंड ओपनर सुनील गावस्कर ने 3 और सहवाग ने 6 दोहरे शतक बनाए हैं।

सबसे कम पारियों में दो दोहरे शतक बनाने के मामले में मयंक दूसरे नंबर पर पहुंच गए हैं। विनोद कांबली ने पांच पारियों में 2 दोहरे शतक बनाए थे जबकि मयंक ने 12 पारियां ली हैं। महान डॉन ब्रैडमैन ने इसके लिए 13 पारियां ली थीं।
मयंक के दोहरे शतक के साथ भारत के लिए भी एक अनोखा रिकॉर्ड बन गया। भारत पहली ऐसी टीम है जिसके लगातार 4 टेस्टों में दोहरे शतक बने हैं।

मयंक ने विजाग (विशाखापट्‍टनम) में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 215, विराट कोहली ने पुणे में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ नाबाद 254, रोहित शर्मा ने रांची में दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ 212 और अब इंदौर में मयंक ने बांग्लादेश के खिलाफ 243 रन बना दिए हैं।

मेहदी हसन ने मयंक को अबू जाएद के हाथों कैच कराकर उनकी शानदार पारी का अंत किया। मयंक ने चेतेश्वर पुजारा (54) के साथ दूसरे विकेट के लिए 91 रन, उपकप्तान अजिंक्य रहाणे (86) के साथ चौथे विकेट के लिए 190 रन और रवींद्र जडेजा (नाबाद 60) के साथ पांचवें विकेट के लिए 123 रन की साझेदारी की।

पुजारा ने 72 गेंदों की अपनी पारी में नौ चौके लगाए जबकि शतक से चूक गए रहाणे ने 172 गेंदों की पारी में नौ चौके लगाए। कप्तान विराट कोहली आश्चर्यजनक रूप से खाता खोले बिना आउट हुए। विराट अपने करियर में 10वीं बार शून्य पर आउट हुए। जडेजा 76 गेंदों पर नाबाद 60 रन में 6 चौके और 2 छक्के लगा चुके हैं।

भारत ने सुबह 1 विकेट पर 86 रन से आगे खेलना शुरू किया था। मयंक ने 37 और पुजारा ने 43 रन से अपनी पारी को आगे बढ़ाया। भारत ने सुबह के सत्र में पुजारा और विराट के विकेट गंवाए।

लंच तक भारत का स्कोर तीन विकेट पर 188 रन था। भारत ने दूसरे सत्र में कोई विकेट नहीं गंवाया और अपना स्कोर 303 तक पहुंचाया। भारत ने अंतिम सत्र में रहाणे, मयंक और रिद्धिमान साहा के विकेट गंवाए।
सुबह के सत्र में तेज गेंदबाज अबू जाएद ने जब पुजारा और विराट के विकेट 14 रन के अंतराल में झटक लिए तो भारतीय पारी अचानक संकट में दिखाई देने लगी लेकिन मयंक ने लगभग दिन भर शानदार बल्लेबाजी करते हुए भारत को मजबूत स्थिति में पहुंचा दिया।

उपकप्तान रहाणे का थोड़ा दुर्भाग्य रहा कि वह अपने शतक से चूक गए। रहाणे को भी जाएद ने आउट किया। मयंक का विकेट मेहदी हसन ने लिया जबकि उनका कैच जाएद ने लपका। यानी इस विकेट में भी जाएद का हाथ रहा। विकेटकीपर रिद्धिमान साहा को इबादत हुसैन ने बोल्ड किया। साहा ने 11 गेंदों पर 12 रन की पारी में दो चौके लगाए।
साहा का विकेट गिराने के बाद मैदान में उतरे तेज गेंदबाज उमेश यादव ने ताबड़तोड़ बल्लेबाजी की और इबादत के ओवर में लगातार दो छक्के जड़े। इस बीच आलराउंडर रवींद्र जडेजा ने अपना 14वां अर्धशतक पूरा कर लिया।

भारत ने दिन भर के खेल में 400 रन भी पूरे किए। भारत के टेस्ट इतिहास में यह तीसरा मौका है जब उसने एक दिन में 400 रन बनाए हैं। भारत ने इससे पहले श्रीलंका के खिलाफ 2009-10 में मुंबई में एक दिन में 443 रन और कानपुर में 417 रन जोड़े थे।
स्टंप्स पर जडेजा के साथ उमेश मात्र 10 गेंदों में एक चौके और तीन छक्कों की मदद से 25 रन बनाकर क्रीज पर थे। बांग्लादेश की तरफ से जाएद ने 25 ओवर में 108 रन देकर 4 विकेट लिए हैं। पांचवें विकेट में भी उनका योगदान रहा क्योंकि मयंक का कैच भी जाएद ने ही लपका।

विज्ञापन
Traveling to UK? Check MOT of car before you buy or Lease with checkmot.com®
 

और भी पढ़ें :