रिलायंस इंडस्ट्रीज का शुद्ध लाभ 15261 करोड़

नई दिल्ली (वार्ता)| वार्ता| पुनः संशोधित सोमवार, 21 अप्रैल 2008 (19:08 IST)
हमें फॉलो करें
निजी क्षेत्र की सबसे बड़ी कंपनी रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड का शुद्ध मुनाफा समाप्त वित्त वर्ष में 28 प्रतिशत बढ़कर 15261 करोड़ रुपए और कुल कारोबार 18 प्रतिशत वृद्धि से 139269 करोड़ रुपए पर पहुँच गया।


कंपनी के वित्त वर्ष 2007-08 के यहाँ जारी लेखा परीक्षा परिणामों के मुताबिक रिलायंस ने कुल 139269 करोड़ रुपए का कारोबार किया और उसकी अतिरिक्त आय को छोड़कर उसे 15261 करोड़ रुपए का शुद्ध मुनाफा हुआ है। कंपनी ने शेयरधारकों को 130 प्रतिशत लाभांश के रूप में 1860 करोड़ रुपए का भुगतान किया।

परिणामों के मुताबिक उसकी रिफाइनरी में प्रति बैरल कच्चे तेल पर 15 प्रतिशत का उच्च मार्जिन हासिल किया गया और उसकी अतिरिक्त आय को भी यदि शामिल कर लिया जाए तो कंपनी का शुद्ध मुनाफा 63 प्रतिशत की बढ़त के साथ 19458 करोड़ रुपए तक रहा।

रिलायंस इंडस्ट्रीज के अध्यक्ष मुकेश धीरूभाई अंबानी ने कंपनी परिणाम पर अपनी प्रतिक्रिया में कहा- उतार-चढ़ाव भरे बाजार में भी रिलायंस ने कारोबार के नए रिकॉर्ड बनाए हैं। इस लिहाज से यह साल कंपनी के लिए काफी महत्वपूर्ण रहा। अंबानी ने कहा कि तेल और गैस क्षेत्रों के विकास और रिफाइनिंग में रिलायंस के अहम निवेश इस साल तैयार हो जाएँगे। उन्होंने उम्मीद जताई कि नए निवेश से तैयार होने वाले प्रतिष्ठान रिलायंस को निकट भविष्य में और कमाई और उन्नति के रास्ते पर ले जाएँगे।

उनके मुताबिक तेल और गैस की खोज एवं उत्पादन कारोबार के मामले में बीता साल एक और सफल वर्ष रहा है। वर्ष के दौरान कंपनी ने उसे आवंटित अपतटीय ब्लॉक में 9 नई खोजें की हैं। इसके साथ साथ कंपनी ने अंतरराष्ट्रीय स्तर पर भी अपने कदम बढ़ाए हैं। कुर्दिस्तान में दो, ओमान में एक, यमन में दो ब्लॉक के लिए उत्पादन भागीदारी समझौते किए गए जबकि कोलंबिया में दो अपतटीय ब्लॉक के अनुबंध पर हस्ताक्षर किए गए।
कंपनी की यहाँ जारी विज्ञप्ति के मुताबिक रिलायंस इंडस्ट्रीज की सहयोगी इकाई रिलायंस पेट्रोलियम लिमिटेड द्वारा गुजरात के जामनगर में लगाई जा रही रिफाइनरी में निर्माण कार्य करीब 90 प्रतिशत पूरा कर लिया गया है और आगामी तिमाही में इसे और तेजी से बढ़ाने के लिए सभी जरूरी सुविधाएँ जुटा ली गई हैं। रिलायंस ने पूर्वी अफ्रीका की पेट्रोलियम उत्पादों की बिक्री करने वाली कंपनी गल्फ अफ्रीका पेट्रोलियम कार्पोरेशन में बहुमत भागीदारी हासिल कर उसका प्रबंधन अपने हाथों में ले लिया है।
वर्ष के दौरान रिलायंस और गेल ने देश से बाहर पेट्रोरसायन संयंत्र लगाने की संभावनाओं का पता लगाने के लिए आपसी सहमति के ज्ञापन पर भी हस्ताक्षण किए। इससे पहले गेल और रिलायंस के बीच प्राकृतिक गैस क्षेत्र के क्षेत्र, गैस पाइपलाइन परियोजना और शहरी गैस वितरण परियोजनाओं में सहयोग के लिए भी सहमति बन चुकी है। रिलायंस ने अपनी कपड़ा ब्रांड 'विमल' को नए रूप में फिर से बाजार में उतारा है।



और भी पढ़ें :