0

बाल कविता : नन्हीं चींटी ड्रेस में

गुरुवार,सितम्बर 19, 2019
chinti
0
1
इस महान भारत की संस्कृति का यह गौरव गान है। न्याय-नीति का पालक अपना प्यारा हिन्दुस्तान है।। जहां सृष्टि निर्माण हुआ ...
1
2
सुबह आठ बजने तक, दूध नहीं आया है। चाय नहीं बिस्तर में,
2
3

हिन्दी कविता : एक सवाल

बुधवार,जुलाई 31, 2019
कक्षा सातवीं के उस अपरिपक्व मन को पढ़ाया गया आज इतिहास। यह बताया गया...भारत था 'सोने की चिड़िया'।
3
4
चंद्रशेखर आजाद पर हिन्दी कविता- तुम आजाद थे, आजाद हो, आजाद रहोगे, भारत की जवानियों के तुम खून में बहोगे।
4
4
5
गुरु के दोहे आज भी पथप्रदर्शक के रूप में प्रासंगिक है। गुरु द्वारा बताए रास्ते पर चलकर हम जीवन का कल्याण कर सकते हैं। ...
5
6
गुरु बिना ज्ञान कहां, उसके ज्ञान का आदि न अंत यहां। गुरु ने दी शिक्षा जहां, उठी शिष्टाचार की मूरत वहां।
6
7
मां बोलीं सूरज से बेटे, हुई सुबह तुम अब तक सोए। देख रही हूं कई दिनों से, रहते हो तुम खोए-खोए।
7
8
नहीं हुआ है ज्यादा अरसा, अभी खुला है नया मदरसा। हिन्दी, उर्दू, अंग्रेजी भी, केजी वन है, केजी टू भी। इसके आगे पहला ...
8
8
9
गेहूं सिंह ने चना चंद के, कान पकड़कर खींचे। धक्का खाकर चना चंदजी, गिरे धम्म से नीचे।
9
10
अरी जरीना, कह री मीना। देख हमारी क्यारी में यह, भीना-भीना, हरा पुदीना। देख-देख यह, कैसा छितरा।
10
11
बाघ आ गया बाघ आ गया, कहकर चरवाहा चिल्लाया। आए गांव के लोग वहां तो,
11
12
अच्छे लगते हैं पापा, जब मुस्काते हैं। अच्छे लगते हैं जब वे, गुन-गुन गाते हैं।
12
13
बाल वीर या पोगो ही, देखूंगी, गुड़िया रोई। चंदा मामा तुम्हें आजकल, नहीं पूछता कोई।
13
14
लगता है इस मुन्नी के तो, कसकर धौल जमा दूं। ले लेती है बिस्कुट सारे, लेती ब्रेड हाथ से छीन।
14
15
हाथी चाचा ने जंगल में, एक आदेश निकाला। बूढ़े और प्रौढ़ पशुओं को, खोलेंगे अब शाला।
15
16
सिर पर बस्ता लादे शाला, जाते राम कटोरे। मिले आम के पेड़ राह में, झट उस पर चढ़ जाते। गदरे- गदरे आम तोड़कर,
16
17
आई गलगला से है मौसी, चाची सदर बाजार से। मामा आए स्कूटर से, मामी आई कार से।
17
18
इ ट्टू बिट्टू किट्टू राम, तोड़ लाए चोरी से आम। पकड़े गए मगर तीनों, चुका दिए चुपके से आम।
18
19
सारे मित्रों और सखाओं, चलो बनाएं रेल। रेल बनाकर साथ चले तो, बढ़ जाएगा मेल।
19