IPL 2021: नंबर 1 चेन्नई के सामने होगी सबसे फिसड्डी टीम हैदराबाद की चुनौती

Last Updated: मंगलवार, 27 अप्रैल 2021 (18:04 IST)
नई दिल्ली। आईपीएल के मौजूदा 2021 सत्र की सबसे यहां बुधवार को अरुण जेटली स्टेडियम में आईपीएल 14 के 22वें मुकाबले में अब तक की नंबर 1 टीम और 3 बार की आईपीएल विजेता (सीएसके) से भिड़ेगी। हैदराबाद के सामने चेन्नई के विजई क्रम को रोकने की चुनौती होगी और इसे पूरा करके उसका आत्मविश्वास भी बढ़ेगा। फिलहाल हैदराबाद 5 मैचों में 4 हार और एक जीत के साथ 2 अंक लेकर 8वें और अंतिम स्थान पर है, जबकि चेन्नई 5 मैचों में एक हार और 4 जीत के साथ नंबर 1 पर है।
ALSO READ:
दिल्ली कैपिटल्स आईपीएल 2021 के पहले सुपर ओवर एलिमिनिटेर में जीती

हैदराबाद के लिए अच्छी बात चेन्नई जैसी सुस्त पिच से बाहर निकलना है। उसने अपने पिछले पांचों मुकाबले चेन्नई में खेले हैं जिसमें से वह केवल एक ही जीती है। बल्लेबाजी के लिए अनुकूल मानी जाने वाली दिल्ली की पिच पर कहीं न कहीं हैदराबाद के बेहतर प्रदर्शन की उम्मीद है, हालांकि दोनों टीमों के अब तक के प्रदर्शन से यह कहना गलत नहीं होगा कि मैच में काफी हद तक सीएसके का पलड़ा भारी रहेगा।


हैदराबाद अपना पिछला मुकाबला हार कर आ रही है, जबकि चेन्नई ने उससे पहले नंबर 1 पर रही रॉयल चैलेंजर्स बेंगलुरु (आरसीबी) को बुरी तरह से हराया था। बल्लेबाजी, खासकर रवीन्द्र जडेजा के पारी के अंतिम ओवर में 37 रन ठोकने और गेंदबाजी में 3 विकेट लेने की बदौलत चेन्नई ने बेंगलुरु के खिलाफ 69 रन से बड़ी जीत दर्ज की थी। वहीं हैदराबाद को सुपर ओवर में दिल्ली से पराजय मिली थी। रवीन्द्र जडेजा सहित चेन्नई के लगभग सभी खिलाड़ी फॉर्म में हैं, चाहे बल्लेबाजी की बात करें, गेंदबाजी की या फील्डिंग की। यही वजह है कि वह लगातार मुकाबले जीत रही है।
युवा बल्लेबाज रुतुराज गायकवाड़ और अनुभवी बल्लेबाज फाफ डू प्लेसिस टीम को अच्छी शुरुआत देकर अच्छा आधार दे रहे हैं जिससे टीम अच्छा स्कोर खड़ा करने में कामयाब हो रही है। चेन्नई ने 5 में से 4 मुकाबले में पहले बल्लेबाजी की है और हर मुकाबले में 180 से ऊपर का स्कोर बनाकर 3 मैचों में जीत हासिल की है। इन चारों मुकाबले में चेन्नई ने क्रमश: 188, 188, 220 और 191 का विशाल स्कोर बनाया है।

बात केवल बड़ा स्कोर बनाने की ही नहीं, बल्कि इसे बखूबी डिफेंड करने की भी है जिसमें गेंदबाजों ने शानदार प्रदर्शन किया है। खासतौर पर तेज गेंदबाज दीपक चाहर की भूमिका अहम रही है। दीपक ने 2 डिफेंडिंग मुकाबलों में 8 विकेट लिए हैं। उनके अलावा सैम करेन, शार्दुल ठाकुर और मोईन अली ने भी अच्छी गेंदबाजी की है।
दूसरी ओर हैदराबाद की टीम बल्लेबाजी और गेंदबाजी में अभी तक वो लय प्राप्त नहीं कर पाई जिसके लिए वो जानी जाती है।

टॉप ऑर्डर को छोड़ दें तो हैदराबाद की बल्लेबाजी में वो दम नहीं दिख रहा है, जो उसे मैच जीता पाए। ऐसे में टीम को जीत दिलाने के लिए सारी जिम्मेदारी शीर्ष क्रम के बल्लेबाजों डेविड वॉर्नर, जॉनी बेयरस्टो और केन विलियमसन पर आती दिख रही है। गेंदबाजी में भी वो धार नहीं दिखी है, जो विपक्षी खेमे के बल्लेबाजों को तंग कर पाए। विपक्षी बल्लेबाजों को कम स्कोर पर रोकने की बात हो या स्कोर को डिफेंड करने की हैदराबाद की गेंदबाजी अब तक विफल नजर आई है। ऐसे में अब उसके सामने चेन्नई सुपर किंग्स की चुनौती है। अगर वह यह मैच जीतती है और 2 बहुमूल्य अंक प्राप्त करती है तो बेशक उसका काफी आत्मविश्वास बढ़ेगा।(वार्ता)



और भी पढ़ें :