वर्ष 2023 तक ब्याज दर बढ़ा सकता है फेडरल रिजर्व, बयान से लुढ़के शेयर बाजार व सोना-चांदी के दाम

Last Updated: गुरुवार, 17 जून 2021 (10:03 IST)
वॉशिंगटन। अमेरिका के केंद्रीय बैंक ने कहा है कि उसे अगले 2 साल में मुद्रास्फीति बढ़ने तथा श्रम बाजार में मजबूती की उम्मीद है और इसके बाद नीतिगत ब्याज दरों में वृद्धि की जाएगी। फेडरल रिजर्व के अध्यक्ष जेरोम पॉवेल ने फेड की मुक्त बाजार समिति की बैठक के बाद संबोधित करते हुए कहा कि हमें इस गर्मी के मौसम में रोजगार में अच्छी बढ़ोतरी देखने को मिल सकती है। यह स्पष्ट है कि हम काफी मजबूत श्रम बाजार की ओर बढ़ रहे हैं। 1 साल में श्रम बाजार बेहद मजबूत हो जाएगा।
ALSO READ:
देश के 3 शहरों में पेट्रोल 107 के पार, श्रीगंगानगर के बाद इस शहर में भी डीजल 100 के करीब

फेड ने अपने बयान में वर्ष 2023 तक ब्याज दरों में 0.6 प्रतिशत की वृद्धि की संभावना व्यक्त की है, लेकिन साथ ही यह भी कहा है कि दरें तभी बढ़ाई जाएंगी, जब बेरोजगारी कम होगी और मुद्रास्फीति बढ़कर 2 प्रतिशत से ऊपर पहुंच जाएगी। फिलहाल उसने नीतिगत ब्याज दरों को शून्य से 0.25 प्रतिशत के दायरे में अपरिवर्तित रखने का फैसला किया है।


फेड के बयान के बाद शेयर बाजारों में गिरावट देखी गई। सोने और चांदी के दाम भी लुढ़क गए। बयान में कहा गया है कि टीकाकरण के कारण कोविड-19 के संक्रमण में कमी आई है। इन सबके बीच केंद्रीय बैंक अर्थव्यवस्था को समर्थन देना जारी रखेगा। वह सरकारी प्रतिभूतियों के माध्यम से 80 अरब डॉलर और रेहन समर्थित प्रतिभूतियों के माध्यम से 40 अरब डॉलर की तरलता हर महीने बढ़ता रहेगा।(वार्ता)



और भी पढ़ें :