0

9 अप्रैल 2021 को है महापंडित राहुल सांकृत्यायन की जयंती, जानिए 10 खास बातें

गुरुवार,अप्रैल 8, 2021
0
1
भारतीय ऋषियों और मुनियों ने ही इस धरती पर धर्म, समाज, नगर, ज्ञान, विज्ञान, खगोल, ज्योतिष, वास्तु, योग आदि ज्ञान का प्रचार-प्रसार किया था। दुनिया के सभी धर्म और विज्ञान के हर क्षेत्र को भारतीय ऋषियों का ऋणी होना चाहिए। उनके योगदान को याद किया जाना ...
1
2
इस वर्ष एकनाथ षष्‍ठी 3 अप्रैल 2021, शनिवार को मनाई जाएगी।एकनाथ अपूर्व संत थे। वे श्रद्धावान तथा बुद्धिमान थे। उन्होंने अपने गुरु से ज्ञानेश्वरी,
2
3
ऐसे महान संत तुकाराम का जन्म 17वीं सदी में पुणे के देहू कस्बे में हुआ था। उनके पिता छोटे-से काराबोरी थे। उन्होंने महाराष्ट्र में भक्ति आंदोलन की नींव डाली।
3
4
चैतन्य महाप्रभु का आविर्भाव पूर्वबंग के अपूर्व धाम नवद्वीप में फाल्गुन पूर्णिमा, होली के दिन हुआ था। उनके पिता का नाम पंडित जगन्नाथ मिश्र और माता का नाम शचीदेवी था।
4
4
5
ओशो रजनीश का जन्म 11 दिसम्बर, 1931 को कुचवाड़ा गांव, बरेली तहसील, जिला रायसेन, राज्य मध्यप्रदेश में हुआ था। उन्हें जबलपुर में 21 वर्ष की आयु में 21 मार्च 1953 मौलश्री वृक्ष के नीचे संबोधि की प्राप्ति हुई। 19 जनवरी 1990 को पूना स्थित अपने आश्रम में ...
5
6
मध्यकाल में कई बड़े संत हुए हैं जिनमें संत कवि दादू दयाल का नाम भी प्रमुखता से लिया जाता है। दादू दयाल का जन्म हिन्दू कैलेंडर के अनुसार फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को हुआ था। इस बार यह जयंती 21 मार्च 2021 को मनाई जाएगी। आओ जानते हैं संत दादू ...
6
7
फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भारत के महान संत एवं विचारक रामकृष्ण परमहंस का जन्म हुआ था। इस वर्ष यह तिथि 15 मार्च को है।
7
8
स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म काठियावाड़ क्षेत्र जिला राजकोट, गुजरात में सन् 1824 में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ।
8
8
9
समाज-सुधारक स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म मोरबी के पास काठियावाड़ क्षेत्र जिला राजकोट, गुजरात में 12 फरवरी सन् 1824 में हुआ। तिथि के अनुसार फल्गुन मास की कृष्ण दशमी के दिन उनका जन्म हुआ था। मूल नक्षत्र में जन्म होने के कारण उनका नाम मूलशंकर रखा गया ...
9
10
श्रृंगी ऋषि नाम से पूर्व में दो ऋषि हुए हैं पहले रामायण के काल में हुए थे और दूसरे महाभारत के काल में हुए थे। दोनों ही एक महान और सिद्धि ऋषि थे।
10
11
फाल्गुन मास की कृष्ण नवमी गुरु रामदास स्वामी के भक्तों के लिए बहुत महत्व रखती हैं, क्योंकि इसी दिन रामदास स्वामी ने समाधि ली थी। इस वर्ष दास नवमी 7 मार्च 2021 को मनाई जा रही है।
11
12
गजानन महाराज का प्रकटोत्सव 4 से 6 मार्च 2021 तक मनाया जा रहा है। गजानन महाराज का जन्म कब हुआ, उनके माता-पिता कौन थे, इस बारे में किसी को कुछ भी पता नहीं।
12
13
रविदाजी को पंजाब में रविदास कहा। उत्तर प्रदेश, मध्यप्रदेश और राजस्थान में उन्हें रैदास के नाम से ही जाना जाता है। गुजरात और महाराष्ट्र के लोग 'रोहिदास' और बंगाल के लोग उन्हें ‘रुइदास’ कहते हैं। कई पुरानी पांडुलिपियों में उन्हें रायादास, रेदास, ...
13
14
आचार्य रामचरण महाराज की 302वीं जयंती मनाई जाएगी। रामचरण जी का जन्म माघ माह के शुक्ल पक्ष की चतुर्दशी को आता है। उनका जन्म संवत् 1776 (1719 ई.) को राजस्थान के जयपुर जिले के मालपुरा नामक नगर के पास सोडा नामक ग्राम में हुआ था। जो उनका ननिहाल था। वे ...
14
15

भारत के महान ऋषि वामदेव

गुरुवार,फ़रवरी 25, 2021
वैदिक काल के ऋषि वामदेव गौतम ऋषि के पुत्र थे इसीलिए उन्हें गौतम भी कहा जाता था। वामदेव जब मां के गर्भ में थे तभी से उन्हें अपने पूर्वजन्म आदि का ज्ञान हो गया था। वामदेव जब मां के गर्भ में थे तभी से उन्हें अपने पूर्वजन्म आदि का ज्ञान हो गया था। ...
15
16
महाराष्ट्र के अमरावती जिले के शेणगांव अंजनगांव में संत गाडगे बाबा का जन्म 23 फरवरी 1876 को हुआ था। उनका बचपन का नाम डेबूजी था।
16
17
22 फरवरी को स्वामी श्रद्धानन्द सरस्वती की जयंती है। उनका जन्म 22 फरवरी 1856 को पंजाब के जालंधर जिले के तलवान ग्राम में एक कायस्थ परिवार में हुआ था और उनका निर्वाण 23 दिसंबर 1926 को दिल्ली के चांदनी चौक में हुआ था। स्वामी श्रद्धानंद का मूल नाम ...
17
18
स्वामी रामकृष्ण परमहंस का जन्म तारीख के अनुसार 18 फरवरी 1836 को बंगाल के एक प्रांत कामारपुकुर गांव में हुआ था और तिथि के अनुसार फाल्गुन शुक्ल द्वितीया को हुआ था।
18
19
चैतन्य महाप्रभु ऐसे संत हुए हैं जिन्होंने भक्ति मार्ग का अद्भुत उदाहरण प्रस्तुत किया। जब भारत वर्ष में चारों ओर विदेशी शासकों के भय से जनता स्वधर्म का परित्याग कर रही थी।
19