0

Valmiki Jayanti 2019 : 13 अक्टूबर को मनेगी महर्षि वाल्मीकि की जयंती

शुक्रवार,अक्टूबर 11, 2019
Maharishi Valmiki
0
1
दधीचि एक ख्यातिप्राप्त महर्षि थे तथा वेद-शास्त्रों के ज्ञाता, परोपकारी और बहुत दयालु थे।
1
2
संत ज्ञानेश्वर का जन्म ई. सन् 1275 में भाद्रपद मास की कृष्ण पक्ष की अष्टमी तिथि को महाराष्ट्र के अहमदनगर जिले में पैठण के पास आपेगांव में हुआ था।
2
3
अल्लामा प्रभु 12वीं सदी के कन्नड़ संत और एक प्रसिद्ध कवि थे जो स्वयं (आत्मा) के महत्व को समझते थे और वे लोगों को उनकी आत्मा में आध्यात्मिक ऊर्जा भरने और उनकी आत्मा में भगवान के रहने का अनुभव करने के लिए जोर देते थे।
3
4

महान संत पम्बन स्वामिगल

शुक्रवार,अगस्त 16, 2019
पम्बन गुरुदास स्वामीगल, जिन्हें पम्बन स्वामीगल के नाम से भी जाना जाता है, एक महान संत और कवि थे। वे भगवान मुरुगा के अनन्य भक्त थे।
4
4
5
चंद्रशेखरेंद्र सरस्वती स्वामिगल (1894–1994), जिन्हें कांची या महापरियावा के ऋषि के रूप में भी जाना जाता है, कांची कामकोटि पीठम के 68वें जगद्गुरु थे।
5
6

आदि शंकराचार्य का परिचय

बुधवार,अगस्त 7, 2019
भारत में आदि शंकराचार्य भारतीय दर्शन अद्वैत वेदांत के प्रचारक थे। उन्होंने ब्रह्मसूत्र और भगवद् गीता पर भाष्य लिखे हैं। उन्होंने हिन्दू और बौद्ध धर्म के बीच के अंतर को समझाया जिसमें कहा गया कि हिन्दू धर्म बताता है कि 'आत्मान (आत्मा, स्वयं) का ...
6
7
हमारा देश धर्म और समाज जब-जब नाना प्रकार की परेशानियों में रहा तब-तब संत महापुरुषों ने अपने कर्तृत्व द्वारा उससे राहत दिलाई एवं नई दिशा दी।
7
8
महर्षि व्यास जीवन के सच्चे भविष्यकार हैं। कारण यह है कि उन्होंने जीवन को उसके समग्र स्वरूप में जाना है। जीवन न तो केवल प्रकाश है और न केवल अंधकार!
8
8
9
17 जून 2019 महान कवि एवं संत कबीर दास की जयंती है। कबीर भारतीय मनीषा के प्रथम विद्रोही संत हैं, उनका विद्रोह अंधविश्वास और अंधश्रद्धा के विरोध में सदैव मुखर रहा है।
9
10
महान चमत्कारिक और रहस्यमयी गुरु गोरखनाथ को गोरक्षनाथ भी कहा जाता है। इनके नाम पर एक नगर का नाम गोरखपुर और एक जाति का नाम गोरखा है।
10
11
महर्षि भृगु को भी सप्तर्षि मंडल में स्थान मिला है। भृगु ने ही भृगु संहिता की रचना की। उसी काल में उनके भाई स्वायंभुव मनु ने मनु स्मृति की रचना की थी।
11
12
श्री रामानुजाचार्य का जन्म 1017 ई. में दक्षिण भारत के तिरुकुदूर क्षेत्र में हुआ था। बचपन में उन्होंने कांची में यादव प्रकाश गुरु से वेदों की शिक्षा ली।
12
13
गुरुवार, 9 मई 2019 को जगतगुरु आदि शंकराचार्य की जयंती मनाई जाएगी। आदि शंकराचार्य अलौकिक प्रतिभा और प्रचंड कर्मशीलता के धनी थे। इस धराधाम में वैशाख शुक्ल पंचमी को उनका अवतरण हुआ था।
13
14
हिन्दी के अनन्यतम और ब्रजभाषा के आदि कवि सूरदास का जन्म सीही नामक ग्राम में माना जाता है।
14
15
विष्णु के छठे 'आवेश अवतार' भगवान परशुराम का जन्म भगवान श्रीराम के पूर्व हुआ था। श्रीराम सातवें अवतार थे।
15
16
आदि गुरु शंकराचार्य का जन्म कब हुआ था? इस संबंध में भ्रम फैला हुआ है। इतिहासकार मानते हैं कि उनका जन्म 7वीं सदी के उत्तरार्ध में हुआ था। आओ जानते हैं कि आखिर सचाई क्या है।
16
17
महाप्रभु वल्लभाचार्य की जयंती वैशाख कृष्ण एकादशी के दिन मनाई जाती है।
17
18
भारत के कुछ अत्याधिक प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरुओं में से एक सत्य साईं बाबा का जन्म 23 नवंबर 1926 को आंध्रप्रदेश के पुट्‍टपर्थी गांव में हुआ था।
18
19
महान संत तुकाराम का जन्म 17वीं सदी में पुणे के देहू कस्बे में हुआ था। उनके पिता छोटे-से काराबोरी थे। उन्होंने महाराष्ट्र में भक्ति आंदोलन की नींव डाली।
19