0

श्री रामानुजाचार्य जयंती 2021 : जानिए जीवन के प्रेरक प्रसंग

सोमवार,मई 17, 2021
0
1
आदि शंकराचार्य का जन्म केरल के मालाबार क्षेत्र के कालड़ी नामक स्थान पर हुआ था। आदि शंकराचार्य ने ही दसनामी सम्प्रदाय और चार मठों की स्थापना की थी। चार मठ है- 1.श्रृंगेरी ज्ञानमठ (तमिलनाडु रामेश्वरम), 2.गोवर्धन मठ (उड़ीसा, जगन्नाथपुरी), 2.शारदा मठ ...
1
2
संत सूरदासजी का जन्म मथुरा के रुनकता नाम के गांव में हुआ। सुरदासजी जन्म से ही अंधे थे या नहीं इसमें मतभेद है। हालांकि वे श्रीकृष्‍ण के अनन्न भक्त थे। 17 May 2021 को सूरदासजी की जयंती मनाई जाएगी। इसी संदर्भ में आओ जानते हैं उनकी कथा और रोचक प्रसंग।
2
3
संत सूरदासजी का जन्म मथुरा के रुनकता नाम के गांव में हुआ। सुरदासजी जन्म से ही अंधे थे और वे श्रीकृष्‍ण के अनन्न भक्त थे। 17 May 2021 को सूरदासजी की जयंती मनाई जाएगी। इसी संदर्भ में आओ जानते हैं उनके संबंध में अनसुनी रोचक बातें।
3
4
14 मई 2021 को लिंगायत समाज के दार्शनिक और समाज सुधारक बसवेश्वर भगवान की जयंती है। संत बसवेश्वर का जन्म 1131 ईसवी में कर्नाटक के संयुक्त बीजापुर जिले में स्थित बागेवाडी में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ था। उस दौर में ऊंच-नीच और भेदभाव बहुत था। संत ने ...
4
4
5
संत सेनजी महाराज की वैशाख कृष्ण-12 (द्वादशी) को आती है। इस बार अंग्रेजी माह के अनुसार यह जयंती 8 मई 2021 को है। आओ जानते हैं संत सेनजी महाराज के बारे में संक्षिप्त परिचय।
5
6
वल्लाभाचार्य की जयंती वैशाख कृष्ण एकादशी के दिन मनाई जाती है। वैशाख कृष्ण एकादशी को वरूथिनी एकादशी भी कहा जाता है
6
7
रबीन्द्रनाथ ठाकुर या रवींद्रनाथ टैगोर का जन्‍म 7 मई सन् 1861 को कोलकाता में हुआ था। रवींद्रनाथ टैगोर एक कवि, उपन्‍यासकार, नाटककार, चित्रकार, और दार्शनिक थे। र
7
8
प्रभावशाली आध्यात्मिक गुरु श्री सत्य साईं बाबा का जन्म 23 नवंबर 1926 को आंध्रप्रदेश के पुट्‍टपर्थी गांव में हुआ था। वे पेदू वेंकप्पाराजू एवं मां ईश्वराम्मा की 8वीं संतान थे।
8
8
9
हर व्यक्ति का कर्तव्य यह सुनिश्चित कराना है कि सभी लोगों को आजीविका के लिए मूल रूप से जरूरी चीजों तक पहुंच मिले। उनके विचार बहुत प्रभावशाली हैं।
9
10
भारतीय लोग ऋषि, मुनियों, राजर्षियों की संताने हैं। वैदिक ऋषियों में कौशिव ऋषि और उनके वंशज की बातें भी कही जाती है। आओ जानते हैं कि कौशिक ऋषि कौन थे और कौन है उनके वंशज।
10
11
आधुनिक हिंदी साहित्य के महापंडित, इतिहासविद, पुरातत्ववेत्ता, त्रिपिटकाचार्य, एशियाई नवजागरण के प्रवर्तक-नायक राहुल सांकृत्यायन का जन्म उत्तर प्रदेश के आजमगढ़ जिले के पंदहा ग्राम में 9 अप्रैल, 1893 को हुआ था। वे प्रारंभ में साम्यवादि विचारधारा से ...
11
12
भारतीय ऋषियों और मुनियों ने ही इस धरती पर धर्म, समाज, नगर, ज्ञान, विज्ञान, खगोल, ज्योतिष, वास्तु, योग आदि ज्ञान का प्रचार-प्रसार किया था। दुनिया के सभी धर्म और विज्ञान के हर क्षेत्र को भारतीय ऋषियों का ऋणी होना चाहिए। उनके योगदान को याद किया जाना ...
12
13
इस वर्ष एकनाथ षष्‍ठी 3 अप्रैल 2021, शनिवार को मनाई जाएगी।एकनाथ अपूर्व संत थे। वे श्रद्धावान तथा बुद्धिमान थे। उन्होंने अपने गुरु से ज्ञानेश्वरी,
13
14
ऐसे महान संत तुकाराम का जन्म 17वीं सदी में पुणे के देहू कस्बे में हुआ था। उनके पिता छोटे-से काराबोरी थे। उन्होंने महाराष्ट्र में भक्ति आंदोलन की नींव डाली।
14
15
चैतन्य महाप्रभु का आविर्भाव पूर्वबंग के अपूर्व धाम नवद्वीप में फाल्गुन पूर्णिमा, होली के दिन हुआ था। उनके पिता का नाम पंडित जगन्नाथ मिश्र और माता का नाम शचीदेवी था।
15
16
ओशो रजनीश का जन्म 11 दिसम्बर, 1931 को कुचवाड़ा गांव, बरेली तहसील, जिला रायसेन, राज्य मध्यप्रदेश में हुआ था। उन्हें जबलपुर में 21 वर्ष की आयु में 21 मार्च 1953 मौलश्री वृक्ष के नीचे संबोधि की प्राप्ति हुई। 19 जनवरी 1990 को पूना स्थित अपने आश्रम में ...
16
17
मध्यकाल में कई बड़े संत हुए हैं जिनमें संत कवि दादू दयाल का नाम भी प्रमुखता से लिया जाता है। दादू दयाल का जन्म हिन्दू कैलेंडर के अनुसार फाल्गुन माह के शुक्ल पक्ष की अष्टमी को हुआ था। इस बार यह जयंती 21 मार्च 2021 को मनाई जाएगी। आओ जानते हैं संत दादू ...
17
18
फाल्गुन मास के शुक्ल पक्ष की द्वितीया तिथि को भारत के महान संत एवं विचारक रामकृष्ण परमहंस का जन्म हुआ था। इस वर्ष यह तिथि 15 मार्च को है।
18
19
स्वामी दयानंद सरस्वती का जन्म काठियावाड़ क्षेत्र जिला राजकोट, गुजरात में सन् 1824 में एक ब्राह्मण परिवार में हुआ।
19