0

Sharad Purnima : चंद्र कौन हैं? कैसे हुआ उनका जन्म, जानिए अपने चंदा मामा को

बुधवार,अक्टूबर 28, 2020
0
1
शरद पूर्णिमा के दिन माता लक्ष्मी जी का अवतरण हुआ था। आइए जानते हैं शरद पूर्णिमा व्रत का मुहूर्त विधि और महत्व।
1
2
आश्विन मास के शुक्ल पक्ष की पूर्णिमा तिथि को शरद पूर्णिमा या आश्विन पूर्णिमा कहते हैं। इस बार यह पूर्णिमा 30 अक्टूबर 2020 को है।
2
3
क्या आप जानते हैं कि शरद पूर्णिमा के दिन आपको कर्ज से मुक्ति मिल सकती है कैसे आइए जानते हैं...
3
4
शरद पूर्णिमा को कोजागरी पूर्णिमा भी कहते है। पश्‍चिम जगत में इसे ब्लू मून कहा जाता है। कहते हैं कि नीला चांद वर्ष में एक बार ही दिखाई देता है। एक शताब्दी में लगभग 41 बार ब्लू मून दिखता है। इस बार 30 अक्टूबर 2020 शुक्रवार को शरद पूर्णिमा है। आओ जानते ...
4
4
5
आज पापांकुशा एकादशी है। यह एकादशी आश्विन शुक्ल ग्यारस के दिन मनाई जाती है। यह एकादशी समस्त पापों से मुक्ति देकर स्वर्ग प्राप्ति दिलाती है। इस दिन श्रीहरि नारायण विष्णु का पूजन किया जाता है। जानिए
5
6
शरद पूर्णिमा को कोजागिरी पूर्णिमा व्रत और रास पूर्णिमा भी कहा जाता है तथा कुछ क्षेत्रों में इस व्रत को कौमुदी व्रत भी कहा जाता है। इस मौके पर आइए जानते हैं पौराणिक एवं प्रचलित कथा...
6
7
आज एकादशी है। ॐ जय जगदीश हरे, स्वामी! जय जगदीश हरे। यह आरती करने से श्रीहरि विष्णु प्रसन्न होकर खुशहाल जीवन का आशीर्वाद देते हैं। यहां पढ़ें आरती...
7
8
27 अक्टूबर 2020, मंगलवार को पापांकुशा एकादशी है। यह एकादशी पापों से मुक्ति देकर स्वर्ग प्राप्ति में सहायता कर‍ती है। प्रतिवर्ष शारदीय नवरात्रि की समाप्ति के बाद और विजयादशमी पर्व के अगले दिन आश्विन शुक्ल एकादशी को 'पापांकुशा एकादशी' मनाई जाती है।
8
8
9
आश्‍विन माह के शुक्ल पक्ष को पापांकुशा एकादशी का व्रत रखा जाता है। इस बार अश्विन माह में चार एकादशियां रही। पहली 13 सितंबर को इंदिरा एकादशी, दूसरी 27 सितंबर को कमला एकादशी, तीसरी 13 अक्टूबर को पुरुषोत्तमी एकादशी और चौथी 27 अक्टूबर को है पापांकुशा ...
9
10
शरद पूर्णिमा की रात ये 8 या इनमें से कोई एक काम अवश्य करें।
10
11
शरद पूर्णिमा के दिन खीर खाने या दूध पीने के प्रचलन हैं। आखिर इस दिन खीर क्यों खाते हैं? क्या है इसका वैज्ञानिक कारण और रहस्य जानिए 5 कारण।
11
12
विजयादशमी का पर्व 25 अक्टूबर 2020 को मनाया गया लेकिन कुछ लोग मत मतांतर होने से 26 अक्टूबर 2020 को मनाने जा रहे हैं पर्व, प्रस्तुत है उनके लिए शुभ मुहूर्त...
12
13
दूध में केसर घुली चांदनी जब बरसेगी हमारे आंगन में तब शरद की पूनम का दिन होगा...इस बार शरद पूर्णिमा 30 अक्टूबर को है। शरद पूर्णिमा से ही शरद ऋतु का आगमन होता है।
13
14
विजयदशमी का त्योहार या दशहरे का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है... इस दिन भूलकर भी व्यक्ति को कुछ काम नहीं करने चाहिए। आइए जानते हैं क्या हैं वे चीजें...
14
15
लंकाधिपति रावण शरद पूर्णिमा की रात चंद्र किरणों को दर्पण के माध्यम से अपनी नाभि पर ग्रहण करता था। इस प्रक्रिया से उसे पुनर्योवन शक्ति प्राप्त होती थी।
15
16
इस बार दशहरे पर अपनी राशि के अनुसार बोले श्रीराम का यह नाम, करें कुछ खास उपाय... आइए जानें 12 राशियों के अनुसार इस दशहरे पर कैसे करें पूजन...
16
17
विजयादशमी यानि दशहरे का पर्व देशभर में भाईचारे के साथ मनाया जाता है। इस दिन कुछ परंपराएं भी निभाई जाती है, जिनमें से एक है हनुमान जी को पान का बीड़ा चढ़ाना और उस पान को खाना...। खास तौर से तब, जब ये त्योहार मंगलवार या रविवार के दिन आता है।
17
18
विजयादशमी के दिन देश के कुछ हिस्सों में अश्वपूजन भी किया जाता है। सनातन धर्मानुसार विजयादशमी के दिन प्रदोषकाल में शमी वृक्ष का पूजन अवश्य किया जाना चाहिए। आइए जानते हैं कि शमी वृक्ष का पूजन किस प्रकार किया जाना श्रेयस्कर रहता है-
18
19
नीलकंठ पक्षी को भगवान का प्रतिनिधि माना गया है। दशहरा पर्व पर इस पक्षी के दर्शन को शुभ और भाग्य को जगाने वाला माना जाता है। जिसके चलते दशहरे के दिन हर व्यक्ति इसी आस में छत पर जाकर आकाश को निहारता है कि उन्हें नीलकंठ पक्षी के दर्शन हो जाएं। ताकि साल ...
19