0

शुक्र यदि है ग्यारहवें भाव में तो रखें ये 5 सावधानियां, करें ये 5 कार्य और जानिए भविष्य

शनिवार,मई 30, 2020
0
1
निर्माता और निर्देशक रामानंद सागर के श्रीकृष्णा धारावाहिक के 29 मई के 27वें एपिसोड ( Shree Krishna Episode 27 ) में कंस को जब यह पता चलता है कि श्रीकृष्ण ने गोवर्धन पर्वत को अपनी अंगुलियों पर उठा लिया तो वह इस पर विश्वास नहीं करता है।
1
2
स्थायी संपत्ति के कार्य बड़ा लाभ दे सकते हैं। बेरोजगारी दूर करने के प्रयास सफल रहेंगे। आय में वृद्धि तथा उन्नति मनोनुकूल रहेंगे।
2
3

30 मई 2020 : आपका जन्मदिन

शुक्रवार,मई 29, 2020
अंक ज्योतिष के अनुसार आपका मूलांक तीन आता है। यह बृहस्पति का प्रतिनिधि अंक है। ऐसे व्यक्ति निष्कपट, दयालु एवं उच्च तार्किक क्षमता वाले होते हैं।
3
4
शुभ विक्रम संवत्- 2077, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन् -2020 अयन- उत्तरायण मास- ज्येष्ठ पक्ष- शुक्ल संवत्सर नाम-प्रमादी ऋतु- ग्रीष्म वार-शनिवार तिथि (सूर्योदयकालीन)-अष्टमी नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-मघा योग (सूर्योदयकालीन)-हर्षण करण ...
4
4
5
धूमावती देवी की कृपा से साधक धर्म, अर्थ, काम और मोक्ष प्राप्त कर लेता है। देवी साधक के पास बड़ी से बड़ी बाधाओं से लड़ने और उनको जीत लेने की क्षमता आ जाती है।
5
6
महाभारत में ऐसी कई घटनाएं घटी हैं जो व्यक्ति को भावुक कर देती हैं। जैसे बहुत ही कम उम्र में अभिमन्यु का छल से वध करना, द्रोणाचार्य और कर्ण का भी छल से वध कर देना। लेकिन यह तो युद्ध की घटनाएं हैं। युद्ध से अलग भी ऐसी कई कहानियां हैं जो हमें द्रवित कर ...
6
7
30 मई 2020, को धूमावती जयंती मनाई जाएगी। हिन्दू धर्म के अनुसार ज्येष्ठ माह की शुक्ल पक्ष की अष्टमी को मां धूमावती जयंती मनाई जाती है।
7
8
दस महा विद्या 1.काली, 2.तारा, 3.त्रिपुरसुंदरी, 4.भुवनेश्वरी, 5.छिन्नमस्ता, 6.त्रिपुरभैरवी, 7.धूमावती, 8.बगलामुखी, 9.मातंगी और 10.कमला। इनमें से माता की सातवीं शक्ति हैं धूमावती।
8
8
9
ज्येष्ठ मास के शुक्ल पक्ष की एकादशी को निर्जला एकादशी का नाम दिया गया है। आइए जानते हैं इस दिन क्या उपाय करने से कामना पूरी होती है...
9
10
जो व्यक्ति सच्चे मन के साथ इस व्रत को करता है उसे समस्त एकादशी व्रत में मिलने वाला पुण्य प्राप्त होता है। आइए जानिए पूजन और पारण के लिए शुभ समय कौन सा है....
10
11
भगवान शिव माया के द्वारा मां पार्वती के शरीर से बाहर आते हैं और पार्वती के धूम से व्याप्त स्वरूप को देखकर कहते हैं कि अबसे आप इस वेश में भी पूजी जाएंगी। इसी कारण मां पार्वती का नाम 'देवी धूमावती' पड़ा।
11
12
शास्त्रों में निर्जला एकादशी को लेकर यह वर्णन मिलता है कि इस व्रत का महत्व महर्षि वेदव्यास जी ने भीम को बताया था। अतः इसे भीमसेनी एकादशी के नाम से भी जाना जाता है।
12
13
वृषभ और तुला राशि के स्वामी शुक्र ग्रह मीन में उच्च और कन्या में नीच का होता है। लाल किताब में सप्तम भाव शुक्र का पक्का घर है। सूर्य और चंद्र के साथ या इनकी राशियों में शुक्र बुरा फल देता है। लेकिन यहां दसवें घर में होने या मंदा होने पर क्या सावधानी ...
13
14
निर्माता और निर्देशक रामानंद सागर के श्रीकृष्णा धारावाहिक के 28 मई के 26वें एपिसोड ( Shree Krishna Episode 26 ) में जब भगवान श्रीकृष्ण इंद्रदेव की पूजा के स्थान पर गिरिराज गोवर्धन और गाय माता की पूजा प्रारंभ करवाते हैं तो स्वर्ग का राजा इंद्र इससे ...
14
15
तरक्की के अवसर प्राप्त होंगे। भूमि व भवन संबंधी बाधा दूर होगी। आय में वृद्धि होगी। मित्रों के साथ बाहर जाने की योजना बनेगी।
15
16
वेदव्यास ने भीम को निर्जला एकादशी व्रत का महत्व बताया था। इस एकादशी को भीमसेनी एकादशी भी कहा जाता है। यह व्रत हमें जल संरक्षण का संदेश देता है। इस दिन जल को ग्रहण नहीं किया जाता है, प्रतीकात्मक रूप से यह संदेश है कि जल को बचाया जाए, ग्रहण तब ही करें ...
16
17

29 मई 2020 : आपका जन्मदिन

गुरुवार,मई 28, 2020
दिनांक 29 को जन्मे व्यक्ति का मूलांक 2 होगा। 2 और 9 आपस में मिलकर 11 होते हैं। 11 की संख्या आपस में मिलकर 2 होती है इस तरह आपका मूलांक 2 होगा।
17
18
शुभ विक्रम संवत्- 2077, हिजरी सन्- 1440-41, ईस्वी सन् -2020 अयन- उत्तरायण मास-ज्येष्ठ पक्ष-आश्लेषा संवत्सर नाम- प्रमादी ऋतु- ग्रीष्म वार-शुक्रवार तिथि (सूर्योदयकालीन)- सप्तमी नक्षत्र (सूर्योदयकालीन)-आश्लेषा योग (सूर्योदयकालीन)- ...
18
19
व्रतों में प्रमुख व्रत होते हैं नवरात्रि के, पूर्णिमा के, अमावस्या के, प्रदोष के और एकादशी के। इसमें भी सबसे बड़ा जो व्रत है वह एकादशी का है। माह में दो एकादशी होती है। अर्थात आपको माह में बस दो बार और वर्ष के 365 दिन में मात्र 24 बार ही नियम पूर्वक ...
19