मुझे सत्यजीत रे की फिल्में न्यूयॉर्क में देखने को मिलीं

ND|
सूनी तारापुरवाला की लिखी पहली पटकथा पर बनी फिल्म 'सलाम बॉम्बे' को अकादमी पुरस्कार मिला। यह कोई मामूली उपलब्धि नहीं थी और इसके बाद पटकथा लिखवाने वालों का उनके दरवाजे पर कतार लगाना कोई अनपेक्षित बात नहीं थी। बहरहाल अब तक वे करीब 15 पटकथाएँ लिख चुकी हैं जिनमें से पाँच पर फिल्में बनी हैं। सद्विचार, सद्वचन, सत्कर्म और अच्छी किताबों में यकीन करने वाली यह प्रतिभाशाली पारसी छायाकार और पटकथा लेखिका अपने भविष्य को लेकर काफी आशान्वित है।

मैं मुंबई शहर और इसकी बेतकल्लुफी से प्यार करती हूं। मैं यहीं जन्मी और यहीं पली-बढ़ी। मुंबई बहुजनीन महानगर है। यहां सभी संस्कृतियों के लोग खप जाते हैं। दूसरे बचपन से मैं जिन जगहों पर जाती रही हूं, वे जगहें मुझे बिल्कुल अपनी-सी लगती हैं और मुंबई का यही अपनापन मुझे बहुत अच्छा लगता है।

मुझे पिताजी के साथ फ्लोरा फाउंटेन जाना याद आता है।
पिताजी मुझे अक्सर फ्लोरा फाउंटेन घुमाने ले जाते थे जहां मुसलमान, हिन्दू, पारसी...सभी समुदायों के लोग मिला करते थे। मुझे वह जगह आज भी शहर की सबसे अच्छी जगह मालूम होती है।

मेरे स्कूल क्वीन मेरी में कॉन्वेंट स्कूलों से भी ज्यादा सख्त अनुशासन था।
मैं अपनी सारी जिंदगी ग्वालियर टैंक में रही और क्वीन मेरी स्कूल में पढ़ने जाती थी जो मेरे घर से महज दस मिनट की दूरी पर है। लेकिन मेरे स्कूल में सख्ती बहुत होती थी। अगर हम यूनिफॉर्म में पानी-पूरी खाते पकड़े जाते तब भी हमें डांंट पड़ जाती थी! जेके रावलिंग से पहले ही हम हैरी पॉर्टर के बारे में सोचने लगे थे।

मुझे याद है कि चुड़ैलों और यात्री पर आधारित यह नाटक मैंने अपने दोस्त के साथ खेला था। हमारे जिम में घोड़े की एक बड़ी-सी प्रतिमा थी और हम चुड़ैल और यात्री के रूप में उसके गिर्द चक्कर काटा करते थे। मैं जब भी हैरी पॉटर को पढ़ती हूंं, वह मुझे अपने ऊपर घटित होता नजर आता है।
हमें मजबूर करके स्कूल में स्क्रिप्ट लिखवाई जाती थी।
हमारे अंगरेजी के अध्यापक अक्सर कहा करते थे कि अगर हम नाटक करना चाहते हैं तो हमें अपनी स्क्रिप्ट लिखनी चाहिए। मैंने एक बार आधे घंटे के एक नाटक के लिए गन ऑफ आर्क के आधार पर एक पटकथा तैयार की थी। भगवान ही जानता है कि मैंने वह काम कैसे किया था। लेकिन वह नाटक खूब चला। मैंने प्रमुख भूमिका निभाई थी। आज मैं उसी अनुशासन की वजह से थिएटर में कामयाबी से काम कर रही हूं।
मैं उन लोगों में से हूं जो अपनी पसंद की चीजों के साथ बड़े तरीके से पेश आते हैं।

और जो चीजें मुझे नापसंद होती हैं, उनके प्रति मेरा बर्ताव बहुत ही बुरा होता है। यही वजह थी कि जहां मुझे भाषा, साहित्य और भूगोल में 95 फीसदी अंक मिलते थे, वहीं विज्ञान और गणित में मेरे अंक बहुत कम होते थे यानी यह स्पष्ट था कि क्या मैं कर सकती हूं और क्या नहीं। इससे मुझे अपना करियर तय करने में काफी मदद मिली।
हार्वर्ड मेरे घर से काफी दूर था और मुझे अपने घर से मोह था।

बारहवीं पास करने के बाद मुझे हार्वर्ड विश्वविद्यालय की छात्रवृत्ति मिली। मैं साहित्य पढ़ने वहां गई लेकिन जब बता चला कि वहां फिल्म और फोटोग्राफी के कोर्स भी उपलब्ध थे तो मैंने उनमें भी नाम लिखा लिया। साहित्य के बारे में मुझे लगा कि वहां साहित्य में जो काम हो सकता था, हो चुका है। अलबत्ता, फिल्म में मुझे गुंजाइश नजर आई। मुझे कतरनें जमा करने का बड़ा शौक है।मैं बहुत ही भावुक हूं। मैं चीजों को बेदर्दी से फेंक नहीं पाती। मैं अमेरिका गई थी तो अक्सा बीच से रेत उठा लाई थी। हम सागर तट पर ऐसे जाते हैं जैसे अपने परिवार के लोगों से मिलने जा रहे हों।



और भी पढ़ें :