कोरोनाकाल के दोहे काम के भी हैं और हंसा भी देंगे


रहीमदास

रहिमन घर से जब चलो, रखियो मास्क लगाए
ना जाने किस वेश में कोरोना मिल
जाए...








रहिमन वैक्सीन ढूंढिए,
बिन वैक्सीन सब सून,
वैक्सीन बिना ही बीत गए,

अप्रैल, नवंबर, जून
कबीरदास

कबीरा काढ़ा पीजिए, काली मिरिच मिलाय।
रात दूध हल्दी पियो, सुबह पीजिए चाय।।







कबीर वैक्सीन ढूंढ लिया




धीरज धरो तनिक तुम !
ट्रायल फायनल चल रहा ,





वैक्सीन कमिंग सून !!

तुलसीदास

छोटा सेनिटाइजर तुलसी, राखिए अपनी जेब,
न काहू सो मागिहो, न काहू को देब।।







सूरदास

सूरदास घर मे रहो, ये है सबसे बेस्ट।
जर, जुकाम, सर्दी लगे, तुरंत करालो टेस्ट ।।



और भी पढ़ें :