क्‍या है Sleep Apnea, समय पर लक्षण जानकर इलाज से टल सकता है ‘खतरा’

स्लीप एपनिया एक ऐसी अवस्‍था है, जिसमें सोते समय सांस कुछ देर के लिए रुक जाती है। इस दौरान शरीर को पूरी ऑक्सीजन नहीं मिल पाता। सांस टूटने से आंख खुल जाती है, नींद खुल जाती है और उठते ही आप तेजी हांफने लगते हैं।

इस बीमारी का इलाज करना बेहद जरूरी है, अगर समय रहते इसे ठीक नहीं किया गया तो यह आगे चलकर खतरनाक भी हो सकती है। ज्‍यादातर लोग इसे नजरअंदाज करते हैं। ऐसे में जानना जरूरी है कि इसके रिस्‍क फैक्‍टर क्‍या है और कैसे इसका इलाज करना चाहिए।

रिस्क फैक्टर- पुरुष होना, ज्यादा वजनी होना, 40 वर्ष पार का होना, पुरुषों में 17 इंच या ज्यादा और महिलाओं में 16 इंच या ज्यादा गर्दन की आकार का होना, लंबी जुबान, जबड़े की छोटी हड्डी, परिवार में किसी का स्लीप एपनिया की हिस्ट्री या साइनस इसके प्रमुख रिस्क फैक्टर हैं।

अगर आप इसका इलाज करवा रहे हैं और इलाज बीच में ही छोड़ दिया है तो ये स्ट्रोक, हाइपरटेंशन, हार्ट फेल्योर, डायबिटीज, डिप्रेशन, सिर दर्द के जोखिम को बढ़ा सकता है।

स्लीप एपनिया का इलाज ज्‍यादा वजन को देखते हुए किया जाता है। पीड़ित लोगों को डॉक्टर अक्सर लगातार व्यायाम का हेल्दी डाइट का साथ सुझाव देते हैं। जैसे ही वजन कम होता है, स्लीप एपनिया के लक्षण दूर होने लगते हैं या कम होते हैं। मोटापा वायुमार्ग में रुकावट और नाक की तंग नली का जोखिम बढ़ा सकता है।

ये बाधा सोते समय अचानक आपकी सांस को रोक सकती है। हेल्दी वजन को बनाए रखकर आप वायुमार्ग को साफ रख सकते हैं और स्लीप एपनिया के लक्षणों को कम कर सकते हैं।

सोने के तरीके में मामूली बदलाव स्लीप एपनिया के लक्षणों को कम करने में मदद कर सकता है और आपकी रात की नींद को सुधारता है। स्लीप एपनिया ज्यादा आम उन लोगों में है जो अपनी पीठ के बल सोते हैं। नींद के दौरान आपके सभी मसल आराम करते हैं।

योग- नियमित योग या व्यायाम आपके एनर्जी लेवल को बढ़ा सकता है, दिल को मजबूत कर सकता है और स्लीप एपनिया को सुधार सकता है। योग के कई अभ्यास सूजन को कम करने में मददगार और वायुमार्ग को खोलते हैं।

प्राणायाम यानि सांस की एक्‍सरसाइज से जुडे योगा मदद कर सकते हैं। स्लीप एपनिया की दिक्कतों को कम करने के लिए स्मोकिंग और अल्कोहल का सेवन भी छोड़ देना चाहिए।



और भी पढ़ें :