हरिद्वार में कुंभ की भव्यता और दिव्यता के लिए उनकी सरकार प्रतिबद्ध : मुख्यमंत्री तीरथ

निष्ठा पांडे| पुनः संशोधित शनिवार, 20 मार्च 2021 (18:01 IST)
हरिद्वार। उत्तराखंड के मुख्यमंत्री ने करीब 120 करोड़ रुपए की लागत की विभिन्न विकास योजनाओं का लोकार्पण करते हुए कहा कि की भव्यता और दिव्यता के लिए उनकी सरकार प्रतिबद्ध है। कुंभ पूरे विश्व की धरोहर है और यह 12 साल में एक बार आता है। ऐसे में कुंभ को लेकर लोगों में उत्साह तो जरूर था लेकिन कोरोनावायरस (Coronavirus) कोविड-19 को लेकर असमंजस की स्थितियां बनी हुई थी। इससे यहां का व्यापारी वर्ग से लेकर आमजन में चिंताएं थीं। इसी चिंता को देखते हुए हमारी सरकार ने कुंभ में आने-जाने की अनावश्यक रोकटोक को खत्म कर किया है। लेकिन भारत सरकार द्वारा जारी कोविड-19 की गाइडलाइन को हर हाल में पूरा करना होगा।
उन्होंने कहा कि कुंभ पर हमारा पूरा फोकस है। इसे भव्य और दिव्य बनाने के लिए पूरे प्रयास किए जा रहे हैं। यहां किसी तरह की कोई दिक्कत नहीं आएगी। अखाड़ा परिषदों से लेकर श्रद्धालुओं को कोविड-19 की गाइडलाइन के अनुपालन के बारे में बताया गया है। कुंभ मेले में आवागमन को बेहतर करने के लिए यहां यात्री वाहनों की संख्या में 4 गुना तक का इजाफा किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ग्रामीण क्षेत्रों में बने विकास प्राधिकरण के अस्तित्व को हमारी सरकार ने खत्म कर दिया है। हमारी सरकार ने कोविड-19 के दौरान काम करने वालों पर लगे मुकदमों को वापस ले लिया है। मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने पहाड़ में रेल का सपना पूरा कर दिखाया है। पहले लोग सड़क की मांग करते थे, लेकिन आज ट्रेन की बात हो रही है।
Haridwar Kumbh" width="700" />

उनके नेतृत्व में ही यह बदलाव संभव हो पाया है। आने वाले दिनों में यहां रोजगार की भी कोई कमी नहीं होगी। उन्‍होंने कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज देश का नेतृत्व कर रहे हैं लेकिन पूरे विश्व में उनकी नेतृत्व क्षमता का लोहा माना जाता है। पूरे विश्व में उनके नेतृत्व की तारीफ की जाती है।

इस मौके पर केंद्रीय शिक्षामंत्री डॉ. रमेश पोखरियाल निशंक, विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचंद्र अग्रवाल, भाजपा प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, राज्यमंत्री स्वामी यतीस्वरानंद, विधायक आदेश चौहान, सुरेश राठौर, आयुक्त गढ़वाल मंडल रविनाथ रमन समेत कई जनप्रतिनिधि व अधिकारी मौजूद रहे।

इससे पूर्व में हरकी पैड़ी पहुंचकर मां गंगा की पूजा-अर्चना की।
हरकी पैड़ी
पर उनका विधानसभा अध्यक्ष प्रेमचन्द्र अग्रवाल, राज्यमंत्री स्वामी यतीश्वरानंद, प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक, रानीपुर विधायक आदेश चौहान, ज्वालापुर विधायक सुरेश राठौर, भाजपा जिलाध्यक्ष जयपाल सिंह चौहान, जिला महामंत्री विकास तिवारी, मेला अधिष्ठान के अधिकारियों और श्रीगंगा सभा के सभापति कृष्ण कुमार शर्मा, अध्यक्ष प्रदीप झा, महामंत्री तन्मय वशिष्ठ, स्वागत मंत्री सिद्धार्थ चक्रपाणी, उज्ज्वल पंडित सहित अन्य लोगों ने स्वागत किया।

इसके बाद श्रीगंगा सभा के आचार्य अमित शास्त्री ने मंत्रोउच्चारण के साथ मुख्यमंत्री रावत से मां गंगा की पूजा-अर्चना और आरती कराई। इस दौरान मुख्यमंत्री ने मां गंगा से कुंभ की सफलता और सभी के कल्याण की कामना की। इसके बाद श्रीगंगा सभा कार्यालय में पदाधिकारियों ने मुख्यमंत्री को गंगाजलि, प्रसाद भेंट किया।

केदारनाथ धाम पुनर्निर्माण एवं स्मार्ट टाउन के लिए मुख्यमंत्री ने की कवायद तेज : केदारनाथ धाम के पुनर्निर्माण एवं श्री बद्रीनाथ धाम को स्मार्ट टाउन के रूप में विकसित करने की कवायद नए मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत ने तेज कर दी है। रावत ने अधिकारियों को निर्देश दिए कि परियोजना का क्रियान्वयन प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी के दूरदर्शी विजन के अनुरूप किया जाए और इस प्रक्रिया में स्थानीय व्यक्तियों के हितों को सर्वोपरि रखा जाए। सचिव पर्यटन दिलीप जावलकर ने मुख्यमंत्री के समक्ष केदारनाथ धाम के पुनर्निर्माण एवं श्री बद्रीनाथ धाम को स्मार्ट टाउन के रूप में विकसित करने के प्रस्तावित मास्टर प्लान का प्रेजेंटेशन दिया।

उन्होंने अवगत कराया कि श्री बद्रीनाथ धाम को स्मार्ट टाउन प्लान के अन्तर्गत प्रस्तावित विभिन्न कार्यों यथा मंदिर परिसर विकास, प्लाजा विकास, रोड निर्माण, घाटों का निर्माण कमांड कंट्रोल सेंटर, स्ट्रीट फसाड, साइनेज की स्थापना, रास्ते पर चलने वाले संकेत आदि विकास कार्य किए जाएंगे। धाम के पुनर्निर्माण के अन्तर्गत मंदाकिनी नदी में आस्था पथ, कतार प्रबन्धन, तीर्थ यात्रियों को बैठने की व्यवस्था तथा रेन शेल्टर का निर्माण, आदि विकास कार्य किए जाने प्रस्तावित है।

पर्यटन सचिव ने मुख्यमंत्री को बताया कि
सीएसआर फंड से श्री केदारनाथ के विकास कार्यों के लिए एकत्रित राशि 128 करोड़ रुपए तथा श्री बद्रीनाथ धाम के विकास कार्यों के लिए एकत्रित राशि 245 करोड़ रुपए उपलब्ध है। जिसे प्रधानमंत्री के दिशा-निर्देशों के अनुरूप यथासमय उपयोग में लाकर काम पूर्ण करने के निर्देश अधिकारियों को दे दिए गए हैं।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को हिदायत दी है कि विकास कार्यों के अन्तर्गत पंडा समाज एवं स्थानीय हितधारकों के हितों को सर्वोच्च प्राथमिकता पर रखा जाए और विस्थापन की सम्भावनाओं को न्यूनतम किया जाए यदि ऐसा करना आवश्यक हो तो स्थानीय व्यक्तियों से वार्ता कर उनकी सहमति प्राप्त कर ली जाए तथा उनके पुनर्वास को सर्वप्रथम सुनिश्चित किया जाए।

उन्होंने कहा कि किसी भी दशा में जबरन अधिग्रहण नहीं किया जाएगा। केदारनाथ रोपवे को मूर्तरूप देने के लिए भी मुख्यमन्त्री ने अधिकारियों को सकारात्मक प्रयास करने के लिए आवश्यक दिशा-निर्देश दिए, जिससे कि यात्रा सीजन में श्रद्धालुओं को कम से कम परेशानी का सामना करना पड़े और उन पर अधिक आर्थिक बोझ भी न पड़े। उन्होंने 2013 की आपदा में विस्थापित लोगों के पुनर्वास पर भी अधिकारियों से विस्तृत रिपोर्ट ली।

श्री बद्रीनाथ एवं श्री हनुमान की पवित्र धर्म ध्वजा स्थापना समारोह का आयोजन : कुंभ मेले के दौरान शुक्रवार को श्री बद्रीनाथ एवं श्री हनुमान की पवित्र धर्म ध्वजा की स्थापना समारोह देवभूमि लोक संस्कृति विरासतीय शोभायात्रा समिति की ओर से प्रेम नगर आश्रम में किया गया। आयोजन के मुख्य यजमान कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज और पूर्व कैबिनेट मंत्री अमृता रावत थे।

कार्यक्रम में ध्वजा स्थापना के लिए वैदिक रीति-रिवाज से कलश पूजन-अर्चन किया गया। विष्णु सहस्रनाम व हनुमान चालीसा का पाठ कर यजमानों ने धर्म ध्वजा स्थापित की। आयोजन में शामिल महिलाओं ने मंगल गीत व देव स्तुति कर वातावरण को धार्मिक आस्था के रंग में रंग दिया। आयोजन के मुख्य यजमान कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने इस मौके पर कहा कि कुंभ में सभी देवता 25 अप्रैल को गंगा स्नान के लिए आएंगे।

उन्होंने कहा कि आयोजन के लिए बजट की घोषणा कैबिनेट से कराने का उनका प्रयास रहेगा। गंगा स्नान को आने वाली देव डोलियों का स्वागत और भव्य अभिनंदन किया जाएगा। उन्होंने कहा कि गंगा स्नान से सभी बैक्टीरिया, वायरस समाप्त हो जाते हैं, यह विज्ञान ने भी सिद्ध कर दिया है। कैबिनेट मंत्री सतपाल महाराज ने कहा कि कुंभ में देव डोलियों के स्नान से अमृत की बूंदों से पूरे मानव मात्र का कल्याण होगा।

कार्यक्रम में महामंडलेश्वर स्वामी हरिचेतनानंद महाराज ने कहा कि प्रेम नगर आश्रम में धर्म ध्वजा स्थापना आयोजन में लगता है सभी देवी-देवता स्वयं उपस्थित होकर हम सभी को आशीर्वाद दे रहे हैं। कुंभ में देवभूमि की देव डोलियां भी स्नान करतीं हैं। देवी देवताओं के आशीर्वाद से हरिद्वार में दिव्य व भव्य कुंभ का सफलतापूर्वक आयोजन होगा।

उन्होंने मुख्यमंत्री तीरथ सिंह रावत के कुंभ आयोजन के लिए लिए गए ऐतिहासिक निर्णय की सराहना की।जूना अखाड़े के महामंडलेश्वर स्वामी वीरेंद्रानंद गिरि ने कहा कि 25 अप्रैल को देव डोलियों के स्नान के समय प्रदेश के सभी जिलों से आई देव डोलियां भी स्नान करेंगी।

कुंभ मेले में भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर ने लगाए वॉटर एटीएम : भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर, परमाणु ऊर्जा विभाग, भारत सरकार की ओर से कुंभ मेले के लिए मेला नियंत्रण भवन के निकट वॉटर एटीएम का उद्घाटन मेलाधिकारी दीपक रावत ने शुक्रवार को किया।इस मौके पर दीपक रावत ने कहा कि ये वॉटर प्यूरीफायर हमें भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर से प्राप्त हुए हैं।

इस वॉटर एटीएम में पानी बिलकुल भी बर्बाद नहीं होता है तथा यह बिना बिजली के चलता है। इसका पानी मिनरल्स युक्त स्वच्छ एवं शुद्ध है। इसमें पानी के सभी गुण बरकरार रहते हैं। यह वॉटर एटीएम एक घंटे में 500 लीटर पानी देता है।

मेलाधिकारी ने बताया कि ऐसे ही 11 वॉटर एटीएम मेला क्षेत्र में स्थापित किए गए हैं, जिनसे श्रद्धालुओं को काफी सुविधा होगी। उन्होंने यह भी बताया कि ये सौगात हरिद्वार को हमेशा के लिए मिल रही है, जो बाद में नगर निगम हरिद्वार को सौंप दिए जाएंगे। इसके अलावा भाभा एटॉमिक रिसर्च सेंटर हमें सोलर ड्रायर, सीवेज ट्रीटमेंट प्लांट आदि भी उपलब्ध कराएगा।



और भी पढ़ें :