0

बाघों के अस्तित्व पर मंडराता संकट

सोमवार,जुलाई 29, 2019
tigers
0
1
भारतीय शोधकर्ताओं ने पश्चिमी घाट में मेंढक की एक नई प्रजाति का पता लगाया है। पीढ़ी-दर-पीढ़ी आनुवांशिक लक्षणों में होने वाले बदलावों और जैविक विकास के क्रम में मेंढक की यह प्र
1
2
वन्यजीव संरक्षण प्रबंधन में नवाचारी प्रयोगों और निरंतर नवीन अनुसंधानों की लगातार आवश्यकता है। वन्यप्राणी संरक्षण की योजनाओं और उनका क्रियान्वयन स्थानीय पारिस्थितिकी और सामाजिक परिवेश को केंद्र में रखकर करना होगा। इसे अदक्ष व्यक्तियों के हाथों में ...
2
3
नई दिल्ली। पश्चिम बंगाल के चाय बागान, कृषि भूमि तथा इनके बीच फैले वन क्षेत्रों के छोटे-छोटे टुकड़ों समेत मानवीय उपयोग वाले विभिन्न इलाकों में तेंदुओं का अनुकूलन बढ़ रहा है और तेंदुए बड़ी संख्या में पालतू पशुओं को अपना शिकार बना रहे हैं। भारतीय ...
3
4
नई दिल्ली। एशिया में लाल कान वाले हाथी विलुप्‍त प्रजाति में आते हैं। हाल ही में कुछ लाल कान वाले हाथियों को देखा गया था। बैंक में काम करने वाले जयदीप राजपूत ने कुछ लाल कान वाले हाथियों की फोटो ली है। ये फोटो कॉर्बेट नेशनल पार्क, उत्‍तराखंड की हैं।
4
4
5
मध्यप्रदेश के शाजापुर जिले के कालीसिंध के पास बांगली के जंगल में बाघ ने एक गाय को मार दिया था। इसके बाद से वन विभाग बाघ तलाश की तलाश में था।
5
6
श्रीनगर। सर्दियों की शुरुआत के साथ ही राज्य में आने वाले मेहमान प्रवासी पक्षियों की संख्या अगर कश्मीर घाटी में रिकार्ड तोड़ने लगी है तो भारत-पाकिस्तान सीमा पर स्थित घराना वेटलेंड में इस बार भी कुछ अलग ही नजारा है। झुंड के झुंड प्रवासी पक्षियों के जमा ...
6
7
भोपाल। विश्व की सबसे ज्यादा संकट में आईं वन्यप्राणी प्रजातियों में से एक हार्डग्राउंड बारहसिंघा का सफल पुनर्स्थापन कर कान्हा टाइगर रिजर्व ने वैश्विक वन्य प्राणी संरक्षण जगत में सफलता की नई इबारत लिख दी है।
7
8
चिड़ियाघर को शुद्ध हिन्दी में पशु वाटिका, प्राणी उद्यान और अंग्रेजी में जू (zoo) कहा जाता है, लेकिन भारत के अधिकतर चिड़ियाघर महज पशुओं की जेल बनकर रह गए हैं। कुछ खास जंगली पशुओं और पक्षियों से भरे पार्क को चिड़ियाघर कहा जाता है। भारत में हर बड़े ...
8
8
9
रहस्यों से भरे हैं भारत के जंगल। जंगल में रहना बहुत ही रोमांचक और खतरों से भरा है। भारत कई प्रकार के जंगली जीवों का, अनेक पेड़-पौधों और पशु-पक्षियों का घर है
9
10
उल्लू की लुप्तप्राय प्रजाति रानपिंगला को हाल में पश्चिमी घाट में देखा गया है जिसे अब तक सतपुड़ा पर्वतीय क्षेत्र का ही मूल निवासी माना जाता था। बॉम्बे नेचुरल हिस्ट्री सोसाइटी (बीएनएचएस) इंडिया के संचार प्रबंधक अतुल साठे ने कहा कि विलुप्तप्राय पक्षी ...
10
11
वो रहा, कहां, अरे वो सामने, कहां? अच्छा वो, काफी मशक्कत और चश्मा ऊपर-नीचे करने के बाद मेरी नजर पेड़ों के झुरमुट को चीर, नाले के उस पार, गुफा के आधे अंदर और आधे बाहर लेटे बाघ पर जाती है।
11
12
बब्बर शेर भारत में प्राकृतिक रूप से पश्चिमी गुजरात के गिर राष्ट्रीय पार्क व वन्यजीव विहार में पाया जाता है। कम संख्या के आधार पर आईयूसीएन ने इसे लुप्तप्राय श्रेणी में सूचीबद्ध किया है।
12
13
मणिपुर के बिशेनपुर जिले के कैबुल लामजाओ नेशनल पार्क में ताजा गणना में दुर्लभ प्रजाति के सींग वाले 204 हिरनों का पता चला है। राज्य के वन मंत्री टी. देवेंद्र ने कांग्रेस सांसद एस. बीरा के एक सवाल के जवाब में सदन में यह जानकारी दी।
13
14
अरुणाचल प्रदेश के पूर्वी सियांग जिले में 100 साल से भी अधिक पुराना रबर का एक विशाल पेड़ पर्यटकों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है क्योंकि वन विभाग ने इसे राज्य का सबसे बड़ा पेड़ घोषित किया है।
14
15
ब्रिटेन के वैज्ञानिकों ने चेताया है कि सुंदरबन के दलदली (मैंग्रोव) वन तेजी से गायब हो रहे हैं जिससे विलुप्त प्राय: बंगाल टाइगर सहित जीव-जंतुओं की अन्य प्रजातियों के भविष्य पर खतरा पैदा हो गया है।
15
16
ओडिशा भारत का एक प्रांत है जो भारत के पूर्वी तट पर बसा है। ओडिशा स्थित भीतरकर्णिका राष्ट्रीय उद्यान में हाल ही में हुए मगरमच्छों की गणना में इनकी संख्या 1649 पाई गई जबकि पिछले वर्ष यह संख्या महज 1469 थी।
16
17
विश्वभर में जलवायु परिवर्तन के गंभीर दुष्प्रभावों को लेकर मचे हाहाकार के बीच अक्सर यह तथ्य उपेक्षित रह जाता है कि चौतरफा संकटों का सामना कर रहे पर्यावरण को युद्ध एवं सशस्त्र संघर्ष भी नुकसान पहुंचा रहे हैं और शायद आने वाली नस्लों को इसकी कीमत भी ...
17
18
छत्तीसगढ़ की राजधानी से हट कर नए रायपुर में बनने वाले मानव निर्मित जंगल सफारी में पर्यटक बंद गाड़‍ियों में वन्यजीवों के स्वतंत्र रूप से विचरण करने का लुत्फ उठा सकेंगे। करीब 203 हेक्टैयर क्षेत्र में बनने वाले
18
19
केरल राज्‍य कई नदियों और पर्वत-पहाडि़यों से घिरा हुआ एक अनोखा पर्यटक स्थल है। जहां प्रतिवर्ष लाखों देशी-विदेशी पर्यटक यहां का सौंदर्य निहारने के लिए आते है। खास तौर पर यहां का विशिष्‍ट वन्‍य जीवन और जल प्रपात मन को मंत्रमुग्ध कर देते है।
19