BJP किसान मोर्चा अध्यक्ष का Rakesh Tikait पर पलटवार, 'किसान के कंधे पर रखकर बंदूक चलाई जा रही है'

पुनः संशोधित रविवार, 5 सितम्बर 2021 (19:37 IST)
नई दिल्ली। भारतीय जनता पार्टी ने में हुई 'किसान महापंचायत' को रविवार को 'चुनाव रैली' करार दिया और इसके आयोजकों पर उत्तर प्रदेश सहित कई राज्यों में आगामी विधानसभा चुनाव के मद्देनजर राजनीति करने का आरोप लगाया।
केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों के विरोध में संयुक्त किसान मोर्चा द्वारा रविवार को आयोजित ‘किसान महापंचायत’ में उत्तर प्रदेश और पड़ोसी राज्यों से हजारों किसानों ने भाग लिया। भाजपा के किसान मोर्चा प्रमुख एवं ने एक बयान में दावा किया कि ‘महापंचायत’ के पीछे का एजेंडा राजनीति से जुड़ा है, न कि किसानों की चिंताओं से।

उन्होंने कहा कि यह नहीं, बल्कि राजनीतिक एवं चुनावी बैठक थी तथा विपक्ष और संबंधित राजनीति करने के लिए किसानों का इस्तेमाल कर रहे हैं।
ALSO READ:
'महापंचायत' में किसान नेताओं ने दी चेतावनी, बातचीत शुरू करे सरकार, 2024 तक आंदोलन के लिए हैं तैयार...
चाहर ने दावा किया कि किसी अन्य सरकार ने किसानों के लिए इतना काम नहीं किया है, जितना प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व वाली सरकार ने पिछले सात साल में किया है। केंद्र के नए कृषि कानूनों के खिलाफ किसान पिछले नौ महीने से दिल्ली की सीमाओं पर बैठे हुए हैं।(भाषा)



और भी पढ़ें :