0

26 अक्टूबर को मना रहे हैं दशहरा तो जानिए शुभ मुहूर्त

रविवार,अक्टूबर 25, 2020
0
1
विजयदशमी का त्योहार या दशहरे का पर्व बुराई पर अच्छाई की जीत के रूप में मनाया जाता है... इस दिन भूलकर भी व्यक्ति को कुछ काम नहीं करने चाहिए। आइए जानते हैं क्या हैं वे चीजें...
1
2
इस बार दशहरे पर अपनी राशि के अनुसार बोले श्रीराम का यह नाम, करें कुछ खास उपाय... आइए जानें 12 राशियों के अनुसार इस दशहरे पर कैसे करें पूजन...
2
3
विजयादशमी यानि दशहरे का पर्व देशभर में भाईचारे के साथ मनाया जाता है। इस दिन कुछ परंपराएं भी निभाई जाती है, जिनमें से एक है हनुमान जी को पान का बीड़ा चढ़ाना और उस पान को खाना...। खास तौर से तब, जब ये त्योहार मंगलवार या रविवार के दिन आता है।
3
4
विजयादशमी के दिन देश के कुछ हिस्सों में अश्वपूजन भी किया जाता है। सनातन धर्मानुसार विजयादशमी के दिन प्रदोषकाल में शमी वृक्ष का पूजन अवश्य किया जाना चाहिए। आइए जानते हैं कि शमी वृक्ष का पूजन किस प्रकार किया जाना श्रेयस्कर रहता है-
4
4
5
नीलकंठ पक्षी को भगवान का प्रतिनिधि माना गया है। दशहरा पर्व पर इस पक्षी के दर्शन को शुभ और भाग्य को जगाने वाला माना जाता है। जिसके चलते दशहरे के दिन हर व्यक्ति इसी आस में छत पर जाकर आकाश को निहारता है कि उन्हें नीलकंठ पक्षी के दर्शन हो जाएं। ताकि साल ...
5
6
अपराजिता पूजा को विजयादशमी का महत्वपूर्ण भाग माना जाता है। यह पूजा अपराह्न काल में की जाती है।
6
7
शस्त्र पूजन की परंपरा आदिकाल से चली आ रही है। प्राचीन समय में राजा-महाराजा विशाल शस्त्र पूजन करते रहे हैं। आज भी इ‍स दिन क्षत्रिय शस्त्र पूजा करते हैं। सेना में भी इस दिन शस्त्र पूजन किया जाता है।
7
8
रावण दहन के दूसरे दिन कई परिवार और कुटुंब के लोग एक जगह एकत्रित होकर दशहरा मिलते हैं। कुछ समाज के लोग भी दशहरा मिलन कार्यक्रम का आयोजन करते हैं। कई जगहों पर दशहरे के अगले दिन 'बासी दशहरा मिलन' की परंपरा भी है, परंतु कोविड-19 के खतरे के चलते कहीं ...
8
8
9
प्राचीनकाल में रथ-पूजन, अश्व-पूजन, शस्त्र-पूजन कर इस परंपरा निर्वाह किया जाता था, वर्तमान में इस परंपरा का स्वरूप परिवर्तित होकर वाहन-पूजन के रूप में हमें दिखाई देता है, इसमें कोई बुराई नहीं किंतु हमें अपनी मूल परंपराओं का ज्ञान अवश्य होना चाहिए।
9
10
इस उपाय को करने के पश्चात् आपको अपने जीवन में इसके लाभ मिलने आरंभ हो जाएंगे। अगले दशहरे पर इस पत्ते को किसी बहते जल में प्रवाहित कर पुन: इसी विधि से नवीन पत्ता अपने घर लें आएं। कुछ वर्षों पश्चात् आप पाएंगे कि आपके जीवन से परेशानियां शनै: शनै: विदा ...
10
11
दशहरा या विजयादशमी सर्वसिद्धिदायक तिथि मानी जाती है। इसलिए इस दिन सभी शुभ कार्य फलकारी माने जाते हैं।
11
12
इस वर्ष दशहरा का त्योहार 25 अक्टूबर 2020 को मनाया जाएगा और मतांतर से 26 को भी मनाया जा रहा है।
12
13
दशहरे के दिन पर शाम के समय को खास तौर पर शुभ माना जाता है। इसे विजय काल के नाम से जाना जाता है। दशहरा रावण दहन के शुभ मुहूर्त
13
14
त्योहारी सीजन में हमें पूरी सावधानी के साथ कोरोनावायरस के खतरे को देखते हुए आगे बढ़ना होगा। नवरात्र के बाद दशहरा, दीपावली क्रिसमस जैसे मुख्य त्योहार एक के बाद एक हैं। ऐसे में त्योहार घर-परिवार और रिश्तेदारों व अपने दोस्तों के साथ लोग त्योहार को ...
14
15
विजयादशमी के दिन नारियल के निम्न उपाय करने से जहां घर की नकारात्मकता दूर होती है, वहीं ये उपाय आपको करोड़पति भी बना सकते हैं। यहां आपके लिए प्रस्तुत है नारियल के 12 चमत्कारिक उपाय-
15
16
दशहरा मनाने के प्रचलन तो प्राचीन या पौराणिक काल से ही चला आ रहा है। आओ जानते हैं कि विजयादशमी की 10 खास पौराणिक काम की बातें।
16
17
अदरक और हरी मिर्च का पेस्ट बना लें। बेसन और मैदे में आधा-आधा चम्मच सोडा, कसूरी मैथी, नमक, अजवाइन और 1 बड़ा चम्मच तेल का मोयन (मुठिया वाला) डालकर पूड़ी जैसा अलग-अलग गूंथ लें।
17
18
दशहरे के दिन अपनी-अपनी राशि अनुसार देवता का पूजन करने से जीवन के प्रत्येक क्षेत्र में सफलता मिलती है। आइए जानें 12 राशियों के अनुसार इस दशहरे पर कैसे करें पूजन...
18
19
दशहरा पर्व विजय का प्रतीक है। इन दिनों मौसम खुश हो जाता है। पौधों पर बहार आ जाती है। गेंदे के फूल चारों तरफ मुस्कुराने लगते हैं। सवाल यह कि इस पर्व पर गेंदे के फूल क्यों सजाते हैं? वास्तव में ऐसा इसलिए है कि गेंदे इस मौसम में सहजता से उपलब्ध होते ...
19