0

दशहरा 2019 : अपनी आकर्षण शक्ति कैसे बढ़ाएं, जानिए रावण संहिता के 4 उपाय

सोमवार,अक्टूबर 7, 2019
Vijayadashami 2019
0
1
रावण एक प्रकांड विद्वान था। वेद-शास्त्रों पर उसकी अच्छी पकड़ थी और वह भगवान भोलेशंकर का अनन्य भक्त था। उसे तंत्र, मंत्र, सिद्धियों तथा कई गूढ़ विद्याओं का ज्ञान था। ज्योतिष विद्या में भी उसे महारथ हासिल थी।
1
2
इस बार दशहरे पर अपनी राशि के अनुसार बोले श्रीराम का यह नाम, करें कुछ खास उपाय
2
3
शिरडी के साईं बाबा एक चमत्कारिक संत हैं। उनकी समाधि पर जो भी गया झोली भरकर ही लौटा है। सांई बाबा का दशहरे या विजयादशमी से क्या कनेक्शन है आओ जानते हैं इस संबंध में 5 खास बातें।
3
4
नारियल को 'श्रीफल' भी कहा जाता है। यहां प्रस्तुत है दशहरे पर नारियल के 10 चमत्कारिक उपाय..
4
4
5
वर्ष 2019 में दशहरा या विजयादशमी का पर्व 08 अक्टूबर को मनाया जाएगा।
5
6
छठवां प्रश्न : ओशो, कहा जाता है कि रावण भी ब्रह्मज्ञानी था। क्या रावण भी रावण उसकी मर्जी से नहीं था? क्या रामलीला सच में ही राम की लीला थी?
6
7
हिन्दू परंपरा में इस वृक्ष का खास महत्व है। इसे शनीदेव का साक्षात्त रूप माना जाता है और आयुर्वेद के अनुसार यह कृषि विपदा में लाभदायक है।
7
8
दशहरे का दिन खास तौर पर साईं के मंत्रों का जाप करना बहुत ही लाभकारी होता है। उनके इन चमत्कारी मंत्रों का जाप करने से सभी मनोकामनाएं चाहे नौकरी की हो या शादी की, व्यापार वृद्धि, प्रमोशन या फिर अच्छे वेतन,
8
8
9
त्रिलोक विजेता रावण इंद्रजाल, तंत्र, सम्मोहन और तरह-तरह के जादू और सभी शास्त्रों का ज्ञाता था। एक बार उसने कैलाश पर्वत को उठाने के प्रयास किया था। इससे ही पता चलता है कि वह कितना बलशाली था। लेकिन वह इन तीन लोगों से हार किया था।
9
10
शस्त्र पूजन की परंपरा आदिकाल से चली आ रही है। प्राचीन समय में राजा-महाराजा विशाल शस्त्र पूजन करते रहे हैं। आज भी इ‍स दिन क्षत्रिय शस्त्र पूजा करते हैं। सेना में भी इस दिन शस्त्र पूजन किया जाता है।
10
11
आटे में शकर डालकर उसका गाढ़ा घोल करके आधे घंटे के लिए रख दें। तत्पश्चात उसमें इलायची पावडर, खसखस के दाने डालकर मिश्रण को एकसार कर लें।
11
12
दाल को कचोरी बनाने के 3-4 घंटे पूर्व भिगो दें। कुछ दाल छोड़ कर बाकी को दरदरा पीस लें। अब कड़ाही में थोड़ा-सा तेल लेकर सौंफ का बघार व हींग डालें, दाल दरदरी एवं खड़ी दोनों को भूनें व सभी मसाले मिलाकर ठंडा कर लें।
12
13
नवरात्रि के नौ दिन के उपवास के बाद एकदम भरपेट खाना खाने से बचना चाहिए। इसीलिए दशहरे पर जीरो ऑइल ढोकला बनाएं और अपनी सेहत को रखें तंदुरुस्त...। पढ़ें एकदम सरल विधि
13
14
राक्षसराज रावण महापंडित था। उसकी विशाल सेना थी और उसने कई युद्ध लड़े थे। भगवान राम ने उसका वध कर दिया था। आओ जानते हैं उसके परिवार के बारे में।
14
15
रावण बहुत ही ज्ञानी महापंडित होने के साथ ही ज्योतिष, वास्तु और विज्ञान का ज्ञान भी रखता था। वह दिव्य और मायावी शक्तियों का ज्ञाता था। आओ जानते हैं उसके 10 ऐसे कायों के बारे में जिसे जानकर आप आश्चर्य करेंगे।
15
16
अपराजिता पूजा को विजयादशमी का महत्वपूर्ण भाग माना जाता है। यह पूजा अपराह्न काल में की जाती है। आइए, जानते हैं इस पूजा की प्राचीन और शास्त्रोक्त प्रामाणिक विधि-
16
17
दशहरे का दिन साल के सबसे पवित्र दिनों में से एक माना जाता है। यह साढ़े तीन मुहूर्तों में से एक है। आइए जानें शस्त्र पूजन का शुभ समय
17
18
रामायण के अनुसार भगवान श्रीराम ने रावण को हराने के लिए युद्ध का प्रारंभ एक विशेष मुहुर्त में किया था। महाभारत में भी विजय मुहुर्त का उल्लेख है।
18
19
दशहरा मनाने का हर प्रांत में अलग-अलग प्रचलन हैं लेकिन सभी जगह कुछ कॉमन कार्य भी किए जाते हैं। ऐसी 10 कार्यों पर एक नजर।
19