टीके पर टिप्पणी, हाईकोर्ट ने कहा- दूसरों को बेच रहे हो, अपनों को नहीं दे रहे Vaccine

Last Updated: गुरुवार, 4 मार्च 2021 (18:39 IST)
नई दिल्ली। ने के टीके (Vaccine) को लेकर तल्ख टिप्पणी की है। कोर्ट ने गुरुवार को कहा कि दूसरे देशों को टीके बेचे जा रहे हैं, लेकिन अपने ही देश के लोगों के लिए टीके उपलब्ध नहीं है।
ALSO READ:
कहीं नकली तो नहीं है आपका Aadhaar card, Online घर बैठे कर सकते हैं पता
इतना ही नहीं अदालत ने सीरम इंस्टीट्यूट ऑफ इंडिया और भारत बायोटेक को कोरोना टीके को बनाने की क्षमता की जानकारी उपलब्ध कराने का निर्देश दिया है। कोर्ट ने केन्द्र सरकार से भी कहा है कि वह कोरोना टीका पाने के लिए जो वर्गीकरण किया जा रहा है, उसकी भी वजह बताए।
उल्लेखनीय है कि सीरम इंस्टीट्यूट टीके को बना रहा है, जबकि भारत बायोटेक कोवैक्सीन बना रहा है। बुधवार को ही जानकारी सामने आई थी कि कोवैक्सीन 81 प्रतिशत तक सुरक्षित है। इस बीच, कोवैक्सीन का तीसरे चरण का ट्रायल भी पूर्ण हो चुका है।

न्यायमूर्ति विपिन सांघी और न्यायमूर्ति रेखा पल्ली की पीठ ने यह भी कहा कि सीरम और भारत बायोटेक के पास ज्यादा मात्रा में टीका बनाने और उपलब्ध कराने की क्षमता है, लेकिन ऐसा लगता है कि वे इसका पूरा फायदा नहीं उठा रहे हैं। अदालत ने कहा कि हम टीके को या तो बेच रहे हैं या फिर दान कर रहे हैं। दूसरी ओर, अपने ही लोगों को टीका नहीं दे रहे हैं।
उल्लेखनीय है कि टीकाकरण के तीसरे चरण में 60 साल से ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को टीका लगाया जा रहा है, जबकि 45 से ऊपर के उन लोगों को टीका लगाया जा रहा है, जो किसी बीमारी से ग्रस्त हैं।



और भी पढ़ें :