भोपाल में कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड की आशंका, 5 दिन में लगभग 1 हजार केस आने के बाद सीरो सर्वे की तैयारी

केंद्र की हरी झंड़ी के बाद सीरो सर्वे करने की तैयारी में भोपाल एम्स

Author विकास सिंह| Last Updated: सोमवार, 27 जुलाई 2020 (17:05 IST)
मध्यप्रदेश की राजधानी में अब की संक्रमण रफ्तार अब उस स्तर को
पार कर गई है, जहां कोरोना के कम्युनिटी स्प्रेड की आंशका बढ़ गई है। राजधानी में कोरोना के केसों की पॉजिटिविटी रेट अब 15 फीसदी के उपर पहुंच गई है। पिछले पांच दिनों में राजधानी भोपाल में 1000 हजार के करीब नए पॉजिटिव मरीज आए है, इसके साथ हर दिन लिए जाने वाले सैंपल में जो 15 फीसदी से अधिक सैंपल पॉजिटिव आ रहे है। शहर में कोरोना वायरस की चपेट में आने वाले लोगों की संख्या अब 6 हजार के करीब पहुंच गई है।

स्वास्थ्य विभाग की से जारी पिछले 10 दिन के हेल्थ बुलिटेन को देखें तो जिले में पिछले 10 दिनों में 16 सौ से अधिक मरीज सामने आए है। जिले में 17 जुलाई को 128,18 जुलाई को 109,19 जुलाई को 136,20 जुलाई को 142, 21 जुलाई को 149, 22 जुलाई को 215, 23 जुलाई को 190, 24 जुलाई को 144, 25 जुलाई को 221 और 26 जुलाई को 199 नए मरीज सामने आए है। वहीं आज सुबह जो रिपोर्ट आई है उसमें 177 नए मरीज सामने आए है।


भोपाल में कोरोना का पॉजिटिविटी रेट अब 15 फीसदी से उपर पहुंच गया है। कोरोना वायरस की रफ्तार को काबू में करने और संक्रमण की चेन तोड़ने के लिए भोपाल में 10 दिन का टोटल लॉकडाउन लगाया गया है।

सीरो सर्वे करने की तैयारी – भोपाल में कोरोना वायरस की पॉजिटिविटी रेट 15 फीसदी से उपर पहुंच जाने से
कम्युनिटी स्प्रेड की आंशका बढ़ गई है। राजधानी के साथ पूरे प्रदेश में कोरोना का संक्रमण अब तेजी से खतरनाक स्थिति की ओर बढ़ रहा है। मध्यप्रदेश में कोरोना के बढ़ते संक्रमण के बाद केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने एम्स भोपाल को प्रदेश में सीरो सर्वे करने की अनुमति दी है।


सीरो सर्वे के तहत हेल्थ वर्कर बड़े पैमाने पर लोगों का सैंपल लेकर कम्युनिटी स्प्रेड के साथ लोगों में हर्ड इम्युनिटी का भी टेस्ट करेंगे। भोपाल एम्स के निदेशकर डॉक्टर सरमन सिंह कहते हें एम्स सीरो सर्वे करने के लिए तैयार है और प्रदेश सरकार के साथ मिलकर इस दिशा में काम शुरु किया जाएगा।


क्या होता है सीरो सर्वे- सीरो यानि सीरोलॉजिकल सर्वे के माध्यम से पता लगाया जाता है कि क्षेत्र में कोरोना वायरस का संक्रमण कितना फैला है,कितनी बड़ी आबादी वायरस की जद में आई है और कितने लोगों में वायरस से लड़ने की प्रतिरोधक क्षमता विकसित हो चुकी है या फिर उनके शरीद में एंटीबॉडी बन चुके है। दिल्ली में बढ़ते कोरोना संक्रमण के बाद केजरीवाल सरकार सीरो सर्वे करा चुकी है।




और भी पढ़ें :