बंगाल में लगा पूर्ण लॉकडाउन, UP में बढ़ी 24 मई तक सख्ती, जानें किस राज्य में कब तक क्या-क्या पाबंदियां

Last Updated: रविवार, 16 मई 2021 (01:38 IST)
नई दिल्ली/कोलकाता। पश्चिम बंगाल उन राज्यों में शामिल हो गया जिन्होंने कोरोनावायरस (Coronavirus) कोविड-19 महामारी को काबू में करने के लिए पूर्ण लॉकडाउन लगाया है, जबकि कई राज्यों ने पाबंदियां बढ़ा दी हैं। उत्तरप्रदेश ने सख्त लॉकडाउन जैसी पाबंदियों के साथ कोरोना कर्फ्यू की अवधि 24 मई तक बढ़ा दी है। देशभर में उपचाराधीन मामलों की संख्या में मामूली गिरावट दर्ज की गई है।
ALSO READ:
लॉकडाउन के बेहतर परिणाम सामने आ रहे हैं : सदानंद गौड़ा
पश्चिम बंगाल के मुख्य सचिव अलपन बंद्योपाध्याय ने 16 मई को सुबह 6 बजे से 30 मई को शाम 6 बजे तक लॉकडाउन की घोषणा करते हुए शनिवार को कहा कि वायरस के संक्रमण की चेन तोड़ने और महामारी को काबू में करने के वास्ते लोगों की आवाजाही कम करने एवं सभाओं के जरिए लोगों के एकत्रित होने से उनका एक-दूसरे के संपर्क में आना सीमित करने के लिए अतिरिक्त पाबंदियां आवश्यक हैं।
एक अधिकारी ने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार ने सभी 28 जिलों के अधिकारियों को कोविड​​​​-19 लॉकडाउन का विस्तार 31 मई तक करने के लिए कहा है, वहीं उसने आर्थिक और अन्य गतिविधियों में और छूट भी दी हैं। लॉकडाउन वर्तमान में राज्य के सभी जिलों में लागू है और यह 15 मई की मध्यरात्रि को अधिकांश क्षेत्रों में समाप्त होने वाला था।
बिहार ने भी लॉकडाउन 25 मई तक बढ़ा दिया है जो कि 15 मई को समाप्त होने वाला था। वहीं महाराष्ट्र ने पहले ही लॉकडाउन जैसी पाबंदियां जून तक जारी रखने की घोषणा कर दी है।

नीति आयोग के सदस्य वीके पॉल के अनुसार देश में कोविड-19 की समग्र स्थिति स्थिर हो रही है, हालांकि विभिन्न राज्यों में प्रतिदिन सामने आने वाले नए मामलों के संबंध में देशभर में एक मिश्रित तस्वीर है।
शीर्ष स्वास्थ्य अधिकारियों ने कहा कि 10 राज्यों में देश के कुल कोरोना वायरस मामलों का 85 प्रतिशत है। जबकि 11 राज्यों में कोविड-19 एक लाख से अधिक उपचाराधीन मामले हैं, 17 राज्यों में 50,000 से कम मामले हैं जबकि आठ में 50,000 से एक लाख के बीच उपचाराधीन मामले हैं।
स्वास्थ्य मंत्रालय ने कहा कि महाराष्ट्र, उत्तर प्रदेश, गुजरात और छत्तीसगढ़ जहां कोरोना वायरस के अधिक मामले सामने आ रहे हैं, वहां भी उपचाराधीन मामलों में गिरावट दर्ज की जा रही है।
इसमें कहा गया है कि 24 राज्यों में कोविड​​​​-19 की संक्रमण दर 15 प्रतिशत से अधिक है, जबकि दिल्ली, छत्तीसगढ़, दमन एवं दीव, हरियाणा और मध्य प्रदेश ने संक्रमण दर में कमी दर्ज की गई है।

राष्ट्रीय राजधानी जहां लॉकडाउन लागू हैं, वहां शनिवार को कोविड​​​​-19 के 6,430 नए मामले सामने आये और 337 और मरीजों की मौत हो गई। वहीं दिल्ली में संक्रमण की दर कम होकर 11.32 प्रतिशत हो गई। यह लगातार दूसरा दिन है जब दिल्ली में 10,000 से कम नये मामले सामने आये हैं।
केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय के शनिवार को अद्यतन किये गए आंकड़ों के अनुसार, देश में कोविड​​​​-19 के 3,26,098 नए मामले सामने आये जिससे संक्रमण के कुल मामले बढ़कर 2,43,72,907 हो गई जबकि 3,890 और मरीजों की मौत हो जाने से मृतक संख्या बढ़कर 2,66,207 हो गई।

उपचाराधीन मामले घटकर 36,73,802 हो गए हैं और यह कुल संक्रमण का 15.07 प्रतिशत है, जबकि कोविड-19 से ठीक होने की राष्ट्रीय दर 83.83 प्रतिशत हो गई है। शुक्रवार को उपचाराधीन मामले घटकर 37,04,893 हो गए थे।
पॉल ने कहा कि यह स्पष्ट है कि हम महामारी की दूसरी लहर के स्थिरीकरण की एक निश्चित मात्रा देख सकते हैं। उन्होंने कहा कि कुछ राज्यों में एक स्पष्ट स्वरूप दिखा है, कुछ राज्यों में चिंता है और कुछ अन्य में वृद्धि का रुख है। यह एक मिश्रित तस्वीर है। हालांकि कुल मिलाकर स्थिति स्थिर हो रही है और हम आशा करते हैं और हम इस महामारी के और स्थिरीकरण और तेजी से कमी सुनिश्चित करने की दिशा में काम करेंगे। राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों द्वारा कोरोना वायरस के चलते लगायी गई पाबंदियां इस तरह से हैं-

- दिल्ली में 19 अप्रैल से 17 मई तक लॉकडाउन है।
- उत्तरप्रदेश ने सख्त लॉकडाउन जैसी पाबंदियों के साथ कोरोना कर्फ्यू की अवधि 24 मई तक बढ़ा दी है।
- हरियाणा, जहां 3 मई से सात दिन का लॉकडाउन था, वहां इसे 17 मई तक बढ़ा दिया गया है।
- बिहार ने 4 मई को 15 मई तक लॉकडाउन लगाया था जिसे अब 25 मई तक बढ़ा दिया गया है।
- ओडिशा में 5 मई से 19 मई तक 14 दिनों का लॉकडाउन है।
- राजस्थान ने राज्य में 10 से 24 मई तक सख्त लॉकडाउन लगाया है।
- झारखंड ने सख्त प्रावधानों के साथ लॉकडाउन जैसी पाबंदियों को 27 मई तक बढ़ा दिया है।
- छत्तीसगढ़ सरकार ने सभी 28 जिलों में अधिकारियों को कोविड-19 लॉकडाउन का विस्तार 31 मई तक करने के लिए कहा है।
- पंजाब ने सप्ताहांत लॉकडाउन और 15 मई तक रात के कर्फ्यू जैसे उपायों के अलावा व्यापक पाबंदियां लगाई हैं।
- चंडीगढ़ प्रशासन ने रात और सप्ताहांत कर्फ्यू पाबंदियां 18 मई तक बढ़ा दी हैं।
- मध्यप्रदेश ने केवल आवश्यक सेवाओं की अनुमति के साथ 17 मई तक 'जनता कर्फ्यू' लगाया है, जबकि जिले इसे बढ़ाने के लिए अधिकृत हैं।
- गुजरात ने 11 मई को 36 शहरों में रात के कर्फ्यू और अन्य दिन के समय की पाबंदियों को 18 मई तक बढ़ा दिया।
- महाराष्ट्र ने लॉकडाउन जैसी पाबंदियां 1 जून तक बढ़ा दी हैं।
- गोवा सरकार ने 9 मई से 24 मई तक कर्फ्यू लगाया है।
- पश्चिम बंगाल सरकार ने 16 मई से 30 मई तक पूर्ण लॉकडाउन की घोषणा की है।
- असम ने 12 मई को राज्य के शहरी और अर्ध-शहरी क्षेत्रों में सभी कार्यालयों, धार्मिक स्थलों और साप्ताहिक बाजारों को 15 दिनों के लिए बंद करने का आदेश दिया था, इसके अलावा अपराह्न 2 बजे से सुबह 5 बजे तक लोगों की आवाजाही पर प्रतिबंध लगाया है।
- नागालैंड ने 14 मई से 21 मई तक सप्ताह भर के लिए पूर्ण लॉकडाउन लागू किया है।
- मिजोरम ने आइजोल और अन्य जिला मुख्यालयों में 10 मई से लागया गया लॉकडाउन को 24 मई तक बढ़ा दिया है।
- अरुणाचल प्रदेश ने शनिवार से पूरे महीने के लिए शाम 6.30 बजे से सुबह 5 बजे तक रात का कर्फ्यू लगाया है।
- मणिपुर सरकार ने 8 मई से 17 मई तक सात जिलों में कर्फ्यू लगा दिया है।
- मेघालय ने सबसे अधिक प्रभावित पूर्वी खासी हिल्स जिले में लॉकडाउन 24 मई तक बढ़ा दिया है।
- सिक्किम सरकार ने 17 मई से 24 मई तक पूरे राज्य में पूर्ण लॉकडाउन करने का फैसला किया।
- जम्मू-कश्मीर प्रशासन ने 17 मई तक लॉकडाउन जैसी पाबंदियां लगा दी हैं।
- उत्तराखंड ने 11 मई से 18 मई तक सख्त कोविड कर्फ्यू लगाया है।
- हिमाचल प्रदेश ने राज्य में कोरोना वायरस के चलते लागू कर्फ्यू 26 मई तक बढ़ा दिया है।
- केरल ने राज्य में 8 मई से लागू पूर्ण लॉकडाउन 23 मई तक बढ़ा दिया है।
- तमिलनाडु में 10 मई से 24 मई तक लॉकडाउन है।
- पुडुचेरी ने लॉकडाउन को 10 मई से 24 मई तक बढ़ा दिया है।
- तेलंगाना ने 12 मई से 10 दिनों का लॉकडाउन लागू किया है।
- आंध्रप्रदेश ने 18 मई तक दोपहर 12 बजे से सुबह 6 बजे तक कर्फ्यू लगाया है।



और भी पढ़ें :