'पुण्यश्लोक अहिल्याबाई' में आएगा 8 साल का लीप, अब यह एक्ट्रेस निभाएंगी द्वारका बाई का किरदार

पुनः संशोधित गुरुवार, 7 जुलाई 2022 (13:01 IST)
हमें फॉलो करें
सोनी एंटरटेनमेंट टेलीविजन की महान रचना 'पुण्यश्लोक अहिल्याबाई' ने रानी की प्रेरणादायक यात्रा से दर्शकों को मंत्रमुग्ध कर दिया है, जिन्होंने अपनी बुद्धि से शांति और समृद्धि लाई और ये साबित किया कि कोई भी इंसान लिंग या जन्म से नहीं, बल्कि कर्मों से महान बनता है।

यह शो रानी अहिल्याबाई होल्कर के उल्लेखनीय जीवन के इर्द-गिर्द घूमता है, जिन्होंने अपने ससुर मल्हार राव होल्कर के अडिग समर्थन के साथ, समाज के पहले से तय किए गए नियमों को चुनौती दी और लोगों के कल्याण के लिए सकारात्मक योगदान दिया। वो एक ऐसा नाम साबित हुईं, जिसने न सिर्फ इतिहास रचा बल्कि कई लोगों को प्रेरित भी किया।

एतशा संझगिरी, राजेश श्रृंगारपुरे और गौरव अमलानी अभिनीत, यह शो अहिल्या के जीवन का एक और प्रेरक अध्याय शुरू करने के लिए 8 साल का लीप ले रहा है, जहां अहिल्याबाई का एक संस्कार देने वाली मां से ज़िंदगी देने वाली मातोश्री बनने का सफर दिखाया जाएगा।
अपने उल्लेखनीय काम से दर्शकों के दिलों में अपनी पहचान बनाने के बाद, एक्ट्रेस रेशम टिपनिस लीप के बाद की भूमिका निभाने के लिए सुखदा खांडकेकर से आगे की कमान संभालेंगी। मल्हार राव होल्कर की दूसरी पत्नी होने के कारण द्वारका बाई हमेशा असुरक्षित रही हैं। वो खंडेराव से प्यार करती हैं, लेकिन वो ये नहीं चाहतीं कि वो राजा का उत्तराधिकारी बने, इसलिए वो उसे गलत काम करने के लिए भटकाती हैं ताकि अंततः उनका दामाद गुनोजी भविष्य का राजा बन सके।

लेकिन, अहिल्या के उनकी ज़िंदगी में आने के बाद, द्वारका की असुरक्षा और बढ़ जाती है और वो अहिल्या के खिलाफ सभी को भड़काती है। इतना ही नहीं, वो बड़ी चालाकी से खंडेराव को पार्वती से विवाह करने के लिए मना लेती है ताकि अहिल्या और खंडेराव के बीच गलतफहमी पैदा हो जाए। लीप के बाद, दर्शक देखेंगे कि कैसे द्वारका बाई अहिल्या की जिंदगी में और भी मुश्किलें खड़ी करती हैं।
शो का हिस्सा बनने के लिए उत्साहित रेशम टिपनिस ने बताया, एक महाराष्ट्रियन होने के नाते, मैं समाज में अहिल्या के महान योगदान की कहानियां सुनकर बड़ी हुई हूं, और वो वाकई मेरे लिए एक प्रेरणा हैं। एक भव्य ड्रामा का हिस्सा होने के नाते यह शो न सिर्फ दर्शकों का दिल जीत रहा है, बल्कि इससे मुझे बेहद खुशी मिलती है। मेरा किरदार द्वारका बाई, अहिल्या बाई की प्रतिभा और परिवर्तनकारी विचारों के खिलाफ खड़ी एक खलनायिका है। वो नकारात्मक किरदार नहीं है, लेकिन अपनी असुरक्षा के कारण उसमें एक ग्रे शेड भी है।

उन्होंने कहा, उसका एक खास व्यक्तित्व भी है, जिसमें कई परते हैं, जो इस किरदार का खास आकर्षण है। यह कुछ ऐसा है, जिसने मेरा ध्यान खींचा और मैं इस किरदार को निभाना चाहती थी क्योंकि यह काफी दिलचस्प और अलग है। लीप के बाद दर्शक देखेंगे कि ये ग्रे टोन और इंटेंस हो रहे हैं और कहानी में बहुत सारे ट्विस्ट्स और टर्न्स ला रहे हैं। मैं वाकई इस सफर के लिए उत्साहित हूं।



और भी पढ़ें :