मदनमोहन : आज सोचा तो आँसू भर आए...

समय ताम्रकर| Last Updated: सोमवार, 13 जुलाई 2020 (17:27 IST)
अपने जीवनकाल में सबसे बेहतर संगीत रचना करने और जैसी गायिका से सर्वोत्तम गीत गवाने के बावजूद को जो लोकप्रियता उस दौर में मिलना थी, वह नहीं मिली। उन्हें उनकी मौत के बाद याद किया गया और उनके महत्व को समझा गया।

संगीत के बेताज बादशाह
संगीत में मदनमोहन के बारे में संगीतकार खय्याम का कहना है कि वे संगीत के बेताज बादशाह थे। संगीत की‍ जितनी विविधताएँ होती हैं, उन सबका उन्हें गहरा ज्ञान एवं समझ थी। जबकि उन्होंने शास्त्रीय अथवा सुगम संगीत का बाकायदा कोई प्रशिक्षण नहीं लिया था। मदनमोहन अपनी रचनाओं के जरिये जो श्रोताओं को दे गए, वे अनमोल खजाने के समान है।

सेना छोड़ ग्लैमर वर्ल्ड में
बॉम्बे टॉकीज फिल्म कंपनी के एक निर्दे‍शक रायबहादुर चुन्नीलाल कोहली के वे बेटे थे। चुन्नीलाल ने बाद में फिल्मिस्तान की नींव रखी और नामी फिल्मों के साथ कई सितारे फिल्माकाश को दिए। वे नहीं चाहते थे कि उनका बेटा ग्लैमर की इस दुनिया में कदम रखे, लेकिन फिल्मी दुनिया का आकर्षण मदनमोहन में इतना जबरदस्त था कि उन्होंने सेना की नौकरी छोड़कर ऑल इंडिया रेडियो (लखनऊ) ज्वॉइन कर लिया। यहाँ काम करते हुए उन्हें न केवल संगीत-राग रागिनियों का ज्ञान मिला, बल्कि देश के शास्त्रीय-सुगम गायक-गायिकाओं, वादक और संगीतकारों के सम्पर्क में आकर उन्होंने बहुत कुछ सीखा। गजल गायिका बेगम अख्तर और बरकतअली साहब का उन पर विशेष प्रभाव हुआ। बाद में फिल्मों में मौका मिलने पर मदनमोहन ने जो बंदिशें रची- ‘मैंने रंग दी आज चुनरिया’, ‘जिया ले गयो जी मोरा सांवरिया’, नैनों में बदरा छाए’ इन पर बरकतअली साहब का प्रभाव सीधे-सीधे देखा जा सकता है।

बेगम अख्तर का प्रभाव
बेगम अख्तर की गजल गायन का प्रभाव भी मदनमोहन की बंदिशों में सुनने को मिलता है। कहा तो यहाँ तक जाता है कि मदनमोहन जैसी गजलों की रचना करने में कोई सफल नहीं हुआ है। मदनमोहन की कुछ लाजवाब गजलें हैं- ‘उनको ये शिकायत है कि हम कुछ नहीं कहते’, ‘आज सोचा तो आँसू भर आए’, ‘आपकी नजरों ने समझा प्यार के काबिल मुझे’, ‘इसी में प्यार की आरजू’ और ‘हम प्यार में जलने वालों को चैन कहाँ, आराम कहाँ’।
भीड़ से अलग चेहरा
अपने समकालीन संगीतकारों में मदनमोहन भीड़ में अपनी पहचान बनाने में कामयाब रहे, लेकिन उन्हें अधिक अवसर नहीं मिले। गीत की रचना और शब्दावली पर उनकी पैनी नजर रहती थी। वे पूरी निष्ठा और समर्पण के साथ गीतों को सुरबद्ध करते थे। पार्श्व गायकों के प्रति उनके मन में सम्मान होता था और आत्मीयता के साथ उनसे गवाते थे।

मदन भैया
लताजी को वे सदैव बहन मानते थे और बदले में लताजी उन्हें सारे जीवन मदन भैया पुकारती रही। लताजी ने कहा था ‘दूसरे संगीतकारों ने मुझे गाने (साँग्स) दिए हैं, जबकि मदन भैया ने गाना (संगीत) दिया है।‘
क्रिकेट का जुनून : खाना बनाने का शौक
अपने निजी जीवन में मदनमोहन शौकीन व्यक्ति थे। समय मिलने पर क्रिकेट खेलना उनका शौक था। वानखेड़े स्टेडियम में बगैर नागा क्रिकेट देखने का जुनून उनमें था। टेनिस भी खेलते थे। घर पर नए-नए पकवान बनाने का शौक था। जितने जोश से बनाते उससे अधिक प्यार से दोस्तों को खिलाते थे। ब्रीचकैंडी स्थित बाम्बेलिस रेस्तरां में वे अक्सर जाते, जहाँ जयकिशन और तलत मेहमूद से घंटों बातचीत चलती थी। तीनों में शर्त लगती थी कि किसके आटोग्राफ लेने ज्यादा लोग आएँगे। अक्सर जीत तलत मेहमूद की होती थी। इन शौक के अलावा उन्हें शराब पीने का इतना शौक था कि कम उम्र में जीवन से हाथ धो बैठे।

लता और मदनमोहन
फिल्म संगीत के विशेषज्ञ कहते हैं कि लता मंगेशकर ने अपनी गायकी जीवन का सर्वोत्तम गायन मदनमोहन के संगीत में स्वरबद्ध किया है। एक सीमा तक यह सही है। यहाँ प्रस्तुत है लता-मदनमोहन की जुगलबंदी के दस सदाबहार नगमें :

* बैरन नींद न आए (चाचा जिंदाबाद)
* तू प्यार करे या ठुकराए (देख कबीरा रोया)
* सपने में सजन से दो बातें (गेटवे ऑफ इंडिया)
* उनको ये शिकायत है कि हम कुछ नहीं कहते (अदालत)
* हम प्यार में जलने वालों को चैन कहाँ, आराम कहाँ (जेलर)
* मेरी आँखों से कोई नींद लिए जाता है (पूजा के फूल)
* आपकी नजरों ने समझा, प्यार के काबिल मुझे (अनपढ़)
* वो भूली दास्तां, लो फिर याद आ गई (संजोग)
* नैना बरसे रिमझिम-रिमझिम (वो कौन थी?)
* जरा-सी आहट होती है दिल सोचता है (हकीकत)

मदनमोहन : व्यक्तिगत
पूरा नाम : मदनमोहन कोहली
पिता : रायबहादुर चुन्नीलाल कोहली
माता : भागवंती
जन्म : 25 जून 1924, बगदाद
निधन : 14 जुलाई 1975
भाई : प्रकाश कोहली
बहन : शांति महेन्द्रू
पुत्री : संगीता गुप्ता
पुत्र : संजीव कोहली, समीर कोहली
कुल फिल्मों में संगीत : 93 हिन्दी फिल्म
लगभग कुल गीत : 612

मदनमोहन के सदाबहार आठ युगल गीत
* प्रीतम दरस दिखाओ (लता-मन्नाडे/ चाचा जिंदाबाद)
* दिल, दिल से मिलाकर देखो (किशोर-आशा/मेम साहेब)
* तेरी चमकती आँखों के आगे (लता-तलत/ छोटे बाबू)
* दो घड़ी वो जो पास आ बैठे (लता-रफी/ गेट वे ऑफ इंडिया)
* हमसफर साथ अपना छोड़ चले (रफी-आशा/ आखरी दाँव)
* ऐ सनम आज ये कसम खाएँ (लता-तलत/ जहाँआरा)
* बाद मुद्दत के ये घड़ी आई (रफी-सुमन/ जहाँआरा)
* तेरी आँखों के सिवा दुनिया में रखा क्या है (लता-रफी/ चिराग)



और भी पढ़ें :