Exclusive Interview : सलमान खान और दबंग 3 के बारे में सई मांजरेकर

रूना आशीष| Last Updated: बुधवार, 18 दिसंबर 2019 (14:22 IST)
नए चेहरों को मौका देने में आगे रहते हैं। अपनी फिल्म में उन्होंने को अवसर दिया है जो हिंदी और मराठी के जाने माने अभिनेता-निर्देशक और सलमान के दोस्त महेश मांजरेकर की बेटी हैं। सई से बातचीत के मुख्य अंश:

ऐसे मिली दबंग 3
मैं जब 11वीं में थी तब से थिएटर करना शुरू कर दिया था। ड्रामा भी कर रही थी। एक दिन मुझे फोन आया कि दबंग 3 में खुशी के किरदार के लिए मेरे बारे में सोचा जा रहा है। उन्हें इस किरदार के लिए जिस तरह की लड़की चाहिए थी मैं वैसी ही उन्हें लगी।

शहर की लड़की बनी गांव की लड़की
मैं तो हमेशा से शहर में रही हूं, लेकिन फिल्म दबंग 3' में मुझे गांव की लड़की वाला किरदार मिला है। मैं हमेशा से पापा की फ़िल्मों के लिए उसके सेट पर जाती रही हूं। इसलिए जब इस किरदार की तैयारी की बात आई तो मैंने ज़्यादा समय नहीं लगाया।


पापा ने क्यों नहीं किया लांच
पापा की इच्छा थी कि लांच कोई और करे। उन्हें और मुझे ये नहीं चाहिए था कि कोई कहे कि देखो अपनी ही बेटी को लांच किया है। हां, पापा से टिप्स मिलती रहती हैं। वे कहते हैं कि एक्टिंग, एक्शन-रिएक्शन का खेल है। मेरी मां भी थिएटर का दुनिया से हैं। वह बताती रहती हैं कि कैसे आँखों के ज़रिए हम अपने अभिनय को खूबसूरत बना सकते हैं। हमें आँखों से अपने हर भाव को बताने की कोशिश करना चाहिए। कभी अगर वो मेरे साथ सेट पर भी हों तो बताती हैं कि शॉट को कैसे अच्छे तरीके से कर सकते हैं।

सलमान ने साइकिल चलाना सिखाया
मैं तो सलमान सर से हमेशा से मिलती रही हूं। कई बार सेट पर उन्होंने मुझे साइकिल चलाना सिखाई। वह मुझसे ढेर सारी मस्ती करते थे। एक क़िस्सा मुझे अच्छे से याद है। मुझे खाना बहुत पसंद है। एक बार फिल्म 'बॉडीगॉर्ड' की शूटिंग के लिए हम कहीं जा रहे थे। फ्लाइट में मुझे मीठा खाने की इच्छा हुई। सलमान सर ने मुझे कहीं से तीरा मिस्सू ला कर दिया। मैंने एक साथ तीन तीरा मिस्सू खा लिए थे।
सलमान और देवआनंद
सलमान बचपन से मेरा क्रश हैं। देवआनंद की बात करूं तो एक बार मेरी मम्मा टीवी पर पुराने गाने देख रही थीं। टीवी पर 'अच्छा जी मैं हारी' गाना दिखाया जा रहा था। उसमें मधुबाला को देख मैंने कहा कि ये कितनी खूबसूरत हैं। फिर कैमरा अचानक देवआनंद पर आ गया। मैं तो उन्हें देखती ही रह गई। मैंने पूछा, मां ये कौन हैं? तब माँ ने देवआनंद के बारे में बताया और कहा कि ये मेरे पसंदीदा कलाकार हैं। मैंने भी माँ को कह दिया अब ये मेरे भी फेवरेट हैं।


और भी पढ़ें :