क्या सुशांत सिंह राजपूत की हत्या हुई थी? 3 फोन कॉल्स में छिपा है हत्या का राज?

Last Updated: गुरुवार, 20 अगस्त 2020 (14:41 IST)
14 जून को अपने घर पर मृत पाए गए थे। जिस तरह का घटनाक्रम हुआ उसके आधार पर यह माना जा रहा है कि सुशांत ने आत्महत्या की थी, लेकिन यह बात सुशांत के नजदीकी लोग मानने के लिए तैयार नहीं हैं।

उनका कहना है कि सुशांत इतने जिंदादिल और खुशमिजाज इंसान थे कि वे आत्महत्या नहीं कर सकते हैं। उनकी हत्या हुई है। बहरहाल ऐसा कहने वालों के पास कोई खास सबूत नहीं है, लेकिन रोजाना इस घटना को लेकर नए-नए खुलासे हो रहे हैं।


वो इंसान हैं जिनका कहना है कि सुशांत सिंह राजपूत की हत्या हुई है। सबसे पहले तो आपको ये बताते हैं कि आखिर ग‍णेश हिवरकर हैं कौन?

गणेश का दावा है कि वे और सुशांत 12 साल से अच्छे दोस्त रहे। गणेश कोरियोग्राफर हैं और सुशांत से उनकी पहली मुलाकात 2007 में हुई थी।


गणेश ने सुशांत की डांस सीखने में मदद की और 2019 तक वे संपर्क में रहे। गणेश का कहना है कि एक बार उनका एक लड़की से ब्रेक अप हुआ था और वे आत्महत्या करने की सोच रहे थे। ऐसे समय में उनकी मदद सुशांत ने की थी।

एबीपी न्यूज से बात करते हुए गणेश ने कहा कि सुशांत की हत्या हुई है। एक साजिश के तहत ये किया गया है और इसमें सुशांत के करीबी लोग शामिल हैं।

निर्माता सुशांत के करीबी हैं। गणेश के अनुसार संदीप सिंह के साथ काम करने वाले एक एक शख्स ने गणेश को बताया कि सुशांत की एक्स मैनैजर ने उनके (दिशा के) साथ होने वाले गलत बर्ताव की जानकारी सुशांत को बताई।

सुशांत इस बात को लेकर मीडिया में खुलासे करने वाले थे। यह बात उन्होंने संदीप सिंह को भी बता दी थी जिसे संदीप सिंह ने लीक कर दिया। इसके चलते सुशांत की हत्या कर दी गई।

गणेश आगे कहते हैं कि हत्या की एक रात पहले सुशांत के घर पर एक पार्टी भी हुई थी जिसमें 5 से 6 लोग शामिल थे। इनके रहते ही सुशांत की हत्या हुई।

हत्या रात में या सुबह हुई ये पता नहीं है, लेकिन मैं पार्टी में शामिल सभी लोगों के नाम जानता हूं और सीबीआई के सामने इसका खुलासा करना चाहता हूं।

गणेश के अनुसार 5-6 अगस्त की दरमियानी रात को उनके घर का दरवाजा कुछ लोगों ने पीटा था और धमकाया था। गणेश ने ओशिवारा पुलिस स्टेशन पर फोन भी लगाया, लेकिन पुलिस नहीं आई।

गणेश के अनुसार दिशा टू सुशांत, सुशांत टू संदीप, संदीप टू रिया, इन 3 फोन कॉल में पूरा रहस्य है और इसकी जांच होनी चाहिए।

मामला सीबीआई को सौंप दिया गया है और वक्त आने पर पता चलेगा कि सच्चाई क्या है?



और भी पढ़ें :