कोरोना वायरस: स्वाद और गंध महसूस न होना भी है लक्षण?

<a class=corona virus 1" class="imgCont" height="592" src="https://media.webdunia.com/_media/hi/img/article/2020-03/23/full/1584904788-0731.jpg" style="border: 1px solid #DDD; margin-right: 0px; float: none; z-index: 0;" title="corona virus 1" width="740" />
पुनः संशोधित गुरुवार, 2 अप्रैल 2020 (08:00 IST)
मिशेल रॉबर्ट्सहेल्थ एडिटर, बीबीसी न्यूज़ ऑनलाइन
कुछ खाने पर स्वाद महसूस न होना और किसी चीज़ की गंध का महसूस न होना भी का लक्षण हो सकता है। यह दावा ब्रिटेन के शोधकर्ताओं ने किया है।
 
लंदन के किंग्स कॉलेज की एक टीम ने कोरोना वायरस के संदिग्ध लक्षण एक ऐप में रिपोर्ट करने वाले करीब चार लाख लोगों के डेटा का अध्ययन किया है।
 
आम सर्दी के साथ ही सांस लेने में तकलीफ़ जैसे कई लक्षणों के अलावा स्वाद और गंध का महसूस न होना भी कोरोना वायरस का लक्षण हो सकता है।
 
विशेषज्ञों का कहना है कि बुखार और खांसी अब भी वायरस के वो संभावित महत्वपूर्ण लक्षण हैं जिन्हें नज़रअंदाज़ नहीं करना चाहिए।
 
अगर आपके साथ या आसपास रहने वाले किसी भी शख़्स को तेज़ बुखार और खांसी की समस्या है तो उन्हें घर में ही रहना चाहिए ताकि दूसरों को वायरस का संक्रमण न हो।
स्टडी से क्या पता चला?
 
किंग्स कॉलेज के शोधकर्ता कोरोना वायरस के संभावित लक्षणों के बारे में जानकारी जुटाना चाहते थे ताकि वो विशेषज्ञों की इसे समझने और इससे लड़ने में मदद कर सकें।
कोविड सिम्पटम ट्रैकर ऐप पर इसके लक्षणों के बारे में रिपोर्ट करने वालों में से:
• 53% ने थकान की शिक़ायत की
• 29% ने लगातार खांसी आने की बात की
• 28% ने सांस लेने में तकलीफ़ बताई
• 18% ने कोई गंध सूंघने या किसी तरह का स्वाद चखने में असमर्थता जताई
• 10.5% ने बुखार की शिक़ायत की।
 
इन चार लाख लोगों में 1,702 का कोविड-19 का टेस्ट हुआ जिनमें से 579 लोग पॉज़िटिव पाए गए और 1,123 निगेटिव। जिनका कोरोना वायरस का टेस्ट रिज़ल्ट पॉज़िटिव आया था उनमें से 59% लोगों ने सूंघने और स्वाद चखने में असमर्थता की शिकायत की।
 
सूंघने और स्वाद चखने की क्षमता ख़त्म होने को कोरोना का प्रमुख लक्षण माना जा सकता है?
विशेषज्ञों का कहना है कि अभी ये मानने के लिए पर्याप्त सुबूत नहीं हैं। विश्व स्वास्थ्य संगठन और पब्लिक हेल्थ इंग्लैंड ने अभी इन्हें प्रमुख लक्षणों की सूची में शामिल नहीं किया है।
 
ईएनटी यूके (ब्रिटेन में आंख,नाक, गला विशेषज्ञ डॉक्टरों का प्रतिनिध समूह) का मानना है कि अगर कोरोना वायरस से संक्रमति लोग गंध और स्वाद ख़त्म होने की शिक़ायत कर रहे हैं तो इसमें हैरानी वाली कोई बात नहीं है लेकिन ऐसा सिर्फ़ में ही हो, ये ज़रूरी नहीं।
 
किंग्स कॉलेज के शोधकर्ताओं का कहना है कि स्वाद और गंध ख़त्म होने को कोविड-19 के कुछ अतिरिक्त लक्षण माना जा सकता है। लेकिन कोविड-19 की पुष्टि होने के लिए अन्य प्रमुख लक्षणों का होना ज़रूरी है जैसे खांसी, बुखार और सांस लेने में तकलीफ़।
 
टीम के प्रमखु शोधकर्ता प्रोफ़ेसर टिम स्पेक्टर कहते हैं, "अगर कोविड-19 के बाकी लक्षणों के साथ-साथ स्वाद और गंध पहचानने की क्षमता ख़त्म हो जाए तो आपको ख़ुद को आइसोलेट कर लेना चाहिए ताकि संक्रमण को फैलने से रोका जा सके।"

और भी पढ़ें :