विंग कमांडर अभिनंदन के ‘BJP को सपोर्ट’ करने का सच

BJP को सपोर्ट’ करने का सच" width="740" />
Last Updated: मंगलवार, 16 अप्रैल 2019 (11:29 IST)
- टीम
  बीबीसी न्यूज


फेसबुक और ट्विटर समेत अन्य सोशल मीडिया प्लेटफॉर्म्स पर यह तस्वीर इस दावे के साथ शेयर की जा रही है कि पाकिस्तान से भारत लौटे वर्तमान ने खुलेतौर पर बीजेपी का समर्थन किया है और पीएम नरेंद्र मोदी के पक्ष में मतदान किया है।
 
जिन लोगों ने सोशल मीडिया पर इस तस्वीर को शेयर किया है, उन्होंने शब्दश: एक जैसे संदेश पोस्ट किया है।
 
यह संदेश है: “विंग कमांडर अभिनंदन जी ने खुलेआम बीजेपी का समर्थन किया है और वोट भी डाला है मोदी जी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए और इनका कहना है कि वर्तमान में मोदी जी से अच्छा प्रधानमंत्री कोई दूसरा नहीं हो सकता। कांग्रेसियों तुम किसी जवान को जिंदा वापस ना ला सके।”
 
भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन का मिग-21 बाइसन विमान 27 फरवरी 2019 को भारत द्वारा पाकिस्तान पर की गई जवाबी कार्रवाई के दौरान पाकिस्तान प्रशासित कश्मीर में क्रैश हो गया था।
 
इसके बाद अभिनंदन को पाकिस्तानी फौज ने हिरासत में ले लिया था। लेकिन दो दिन बाद यानी 1 मार्च को उन्हें रिहा कर दिया गया।
 


लोकसभा चुनाव-2019 के लिए 11 अप्रैल को हुए पहले चरण के मतदान के बाद फेसबुक और ट्विटर पर ऐसी सैकड़ों पोस्ट हैं जिनमें इस तस्वीर को विंग कमांडर अभिनंदन का बताया गया है।
 
'नमो भक्त' और 'मोदी सेना' जैसे दक्षिणपंथी रुझान वाले कई बड़े फेसबुक ग्रुप्स में इस तस्वीर को शेयर किया गया है।
 
इस तस्वीर की सच्चाई पता करने के लिए बीबीसी के पाठकों ने भी वॉट्सऐप के जरिए हमें यह तस्वीर भेजी है।
 
तस्वीर की पड़ताल में हमने पाया कि सोशल मीडिया पर भारतीय वायु सेना के विंग कमांडर के नाम पर जो दावे किए जा रहे हैं, वो बेबुनियाद हैं और तस्वीर अभिनंदन वर्तमान की नहीं, बल्कि उनकी तरह मूछें रखने वाले किसी अन्य शख्स की है।
 
फर्जी तस्वीर की पड़ताल
 
भारत और पाकिस्तान के बीच बढ़े हालिया तनाव के दौरान वायु सेना के विंग कमांडर अभिनंदन एक नेशनल हीरो बनकर उभरे। उनके शौर्य और आत्मविश्वास की सभी ने तारीफ की।
 
जब वो पाकिस्तान से भारत लौटे थे तो ऐसी कई रिपोर्ट्स आईं थीं जिनमें अभिनंदन की ‘मूछों के स्टाइल’ का जिक्र था और लोग उनके जैसा स्टाइल अपनाने की बात कर रहे थे।
 
सोशल मीडिया पर जो तस्वीर अब अभिनंदन के नाम से वायरल हो रही है उसमें दिख रहे शख्स की मूछों का स्टाइल अभिनंदन से काफी मिलता-जुलता है।
 
लेकिन इस शख्स ने गले में बीजेपी के चुनाव चिह्न वाला मफलर लपेटा हुआ है।
 
हमने इस वायरल तस्वीर की तुलना जब विंग कमांडर अभिनंदन की असली फोटो से की तो पाया कि दोनों के चेहरे में कई असमानताएं हैं।
 
अभिनंदन के होंठ के नींचे बायीं ओर एक मस्सा है जो कि वायरल तस्वीर में दिख रहे शख्स की दायीं आँख के पास दिखता है।
 
इस बात की काफी संभावना है कि वायरल तस्वीर गुजरात की हो क्योंकि तस्वीर में जिस दुकान का बोर्ड दिखाई देता है, उसपर गुजराती में लिखा है- ‘समोसा सेंटर’।
 
लेकिन गुजरात में लोकसभा चुनाव-2019 के लिए मतदान अभी तक हुआ नहीं है। गुजरात में 23 अप्रैल को मतदान होना है।
 
क्या कहते हैं नियम?
 
पाकिस्तान से रिहा होकर भारत वापस लौटे विंग कमांडर अभिनंदन वर्तमान ने 26 मार्च 2019 को ड्यूटी जॉइन कर ली थी।
 
मीडिया रिपोर्ट्स के अनुसार उन्हें भारत प्रशासित कश्मीर के श्रीनगर स्थित स्क्वाड्रन में तैनात किया गया है।
 
रिपोर्ट्स के अनुसार ‘सेवा जॉइन करने के बाद वो चार सप्ताह की ‘सिक लीव’ पर हैं। सिक लीव के दौरान चेन्नई में अपने घर जाने के बजाय उन्होंने श्रीनगर में ही रहने का फैसला किया। चार सप्ताह की छुट्टियों के बाद डॉक्टरों की एक टीम उनके स्वास्थ्य की जाँच करेगी जिसके बाद ही वो दोबारा विमान उड़ा सकेंगे’।
 
अभिनंदन अपनी ये इच्छा जाहिर कर चुके हैं कि वो दोबारा फाइटर विमान के कॉकपिट में लौटना चाहते हैं।
 
ऐसी स्थिति में अभिनंदन भारतीय वायु सेना के ‘द एयर फोर्स रूल्स 1969’ को मानने के लिए बाध्य हैं।
 
इन नियमों के अनुसार कोई भी अफसर सेवा में रहते हुए किसी राजनीतिक कार्यक्रम में शामिल नहीं हो सकता और ख़ुद को किसी राजनीतिक विचारधारा से नहीं जोड़ सकता है।
 
रक्षा मंत्रालय की आधिकारिक वेबसाइट पर इन नियमों को विस्तार से पढ़ा जा सकता है।
 
‘फर्जी सूचनाएं न फैलाएं’
 
भारतीय वायु सेना के एक वरिष्ठ आधिकारी ने नाम नहीं जाहिर करने की शर्त पर बीबीसी से कहा कि सैनिकों के नाम पर फर्जी खबरें फैलाना बहुत गलत बात है। वायरल तस्वीर में जो शख्स दिखाई दे रहा है, वो निश्चित तौर पर विंग कमांडर अभिनंदन नहीं हैं।
 
यह पहली बार नहीं है जब विंग कमांडर अभिनंदन के नाम पर फर्जी खबर फैलाने की कोशिश की गई है।
 
अभिनंदन के पाकिस्तान से रिहा होने के कुछ ही घंटों बाद उनके नाम से कई राजनीतिक संदेश सोशल मीडिया पर फैलाने की कोशिश की गई थी।
 
उनके नाम से कई फर्जी ट्विटर अकाउंट बना दिये गए थे।
 


इन्हें देखते हुए भारतीय वायु सेना को 6 मार्च 2019 को अपने आधिकारिक बयान में यह कहना पड़ा था कि विंग कमांडर अभिनंदन का कोई सोशल मीडिया (फेसबुक, ट्विटर या इंस्टाग्राम) अकाउंट नहीं है। उनके नाम पर फर्जी सूचनाएं न फैलाई जायें।

और भी पढ़ें :