0

जन्माष्टमी के दिन इन मंत्रों से करें पूजन, होगी हर समस्या दूर

मंगलवार,अगस्त 11, 2020
Mantra on Janmashtami
0
1
श्रीकृष्ण के सात अक्षरी, आठ अक्षरी और बारह अक्षरी मंत्र बोलने और जप करने में बड़े सरल और मंगलकारी हैं। मंत्र इस प्रकार हैं...
1
2
जो अपनी ओर सबको आकर्षित करे वह 'कृष्ण' है। समय-समय पर अलग-अलग लीलाओं के आधार पर उनके नाम होते गए। इन्हीं नामों का राशि अनुसार अष्टमी पर जाप करने से मनचाहा वरदान मिलता है।
2
3
जन्माष्टमी पर सौभाग्य, ऐश्वर्य, यश, कीर्ति, पराक्रम और अपार वैभव के लिए भगवान श्रीकृष्ण के नामों का जाप किया जाता है। 108 नाम यहां पाठकों के लिए प्रस्तुत
3
4
भगवान श्रीकृष्ण संबंधी मंत्र तो बहुत हैं, लेकिन कुछ खास मंत्रों का ही प्रचलन और महत्व है। यहां प्रस्तुत हैं जन्माष्टमी पर कृष्ण के सरल एवं पौराणिक मंत्र।
4
4
5
श्री राम जय राम जय जय राम' यह सात शब्दों वाला तारक मंत्र है। साधारण से दिखने वाले इस मंत्र में जो शक्ति छिपी हुई है,
5
6
भगवान श्रीराम के मंत्रों का जाप करने से मनचाही कामना पूरी होती है। आइए, जानें सरल मंत्र...
6
7
श्री राम चंद्र कृपालु भजमन हरण भाव भय दारुणम्। नवकंज लोचन कंज मुखकर, कंज पद कन्जारुणम्।। कंदर्प अगणित अमित छवी नव नील नीरज सुन्दरम्। पट्पीत मानहु तडित रूचि शुचि नौमी जनक सुतावरम्।।
7
8
अस्य श्रीरामरक्षास्तोत्रमन्त्रस्य बुधकौशिक ऋषिः। श्री सीतारामचंद्रो देवता। अनुष्टुप्‌ छंदः। सीता शक्तिः। श्रीमान हनुमान्‌ कीलकम्‌। श्री सीतारामचंद्रप्रीत्यर्थे रामरक्षास्तोत्रजपे विनियोगः।
8
8
9
श्रावण में भगवान शिव अर्थात् भोलेनाथ भगवान की आराधना की जाती है। इसी के साथ ही श्रावण से भाद्रपद शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि तक भगवान श्रीकृष्ण की आराधना कोटि यज्ञ का फल का फल देने वाली होती है।
9
10
अगर प्रतिदिन कोई मंत्र न पढ़ सकें तो कम से कम किसी खास अवसर पर या जैसे एकादशी या गुरुवार के दिन भगवान विष्णु का स्मरण कर 'ॐ नमो भगवते वासुदेवाय' मंत्र का जाप करना फलदायी रहता है।
10
11
रक्षा बंधन के अवसर पर ग्रह दोष निवारण संबंधी उपाय भी आजमाए जाते हैं। आइए जानें कुछ प्रमुख और सरल उपाय...
11
12
अपार धन-संपदा की अभिलाषा हो तो श्रावण मास में भगवान गणेश का इन विशेष मंत्रों से अभिषेक किया जाना चाहिए। प्रस्तुत है भगवान श्री गणेश के 7 चमत्कारिक धन मंत्र -
12
13
श्रावण मास में भगवान भोलेनाथ की अर्चना के कई मंत्र और स्तोत्र हैं लेकिन पवित्र बिल्वाष्टकम् उन सबमें सबसे ज्यादा प्रभावशाली है... महादेव शंकर को बिल्व पत्र अर्पित करते हुए इसका पाठ करना चाहिए...अगर बिल्वपत्र उपलब्ध न हो तो चांदी के छोटे बिल्वपत्र ...
13
14
श्रावण मास में भोलेनाथ शिव की पूजा आराधना की जाती है। सुख, शांति, धन, समृद्धि, सफलता, प्रगति, संतान, प्रमोशन, नौकरी, विवाह, प्रेम और बीमारी सभी के लिए श्रावण में इन मंत्रों को अवश्य जपें।
14
15
प्रतिवर्ष श्रावण मास के शुक्ल पक्ष की पंचमी को नाग पूजा का विधान है। इस दिन को नागपंचमी के नाम से जाना जाता है। इस व्रत के साथ एक बार भोजन करने का नियम है।
15
16
दोष-निवारण के लिए नाग देवता की राशि अनुसार स्तुति कर सकते हैं -
16
17
श्रावण शुक्ल पंचमी यानी नागपंचमी पर्व पर जन्म लग्न अनुसार नाग देवता की आराधना करें।
17
18
यदि जन्मपत्रिका नहीं हो तथा जीवन में निम्नलिखित समस्याओं में से कोई एक भी हो तो वे अपने आपको कालसर्प दोष से पीड़ित समझें तथा नागपंचमी के दिन उपाय करें।
18
19
हरियाली तीज पर ही माता गौरा विरह में तपकर शिव से मिली थी। आज 23 जुलाई 2020 को इसी मिलन की मधुर स्मृति में श्रावणी हरियाली तीज का पर्व मनाया जा रहा है..जानिए इस दिन कौन से मंत्र शिव और गौरा को करेंगे प्रसन्न...
19