0

Shani margi : 18 सितंबर 2019, बुधवार को शनि की बदलेगी चाल, 12 राशियों के कैसे होंगे हाल

मंगलवार,सितम्बर 17, 2019
margi shani 18 sep 2019
0
1
सितंबर 2019 में सूर्य, मंगल, बुध और शुक्र अपनी राशि बदल रहे हैं। इन 4 ग्रहों के राशि परिवर्तन से सभी राशियों पर ...
1
2
महालय अर्थात पितृ पक्ष प्रारंभ हो चुका है। हिन्दू परंपरा में पितृ पक्ष आने पर अपने पितृगणों की तृप्ति हेतु श्राद्ध किया ...
2
3
शनि देव 18 सितंबर को अपनी चाल बदल रहे हैं। यानी वक्री शनि अब मार्गी होंगे। मार्गी होने पर शनि की साढ़े साती, ढैया के साथ ...
3
4
हर गृहस्थ को द्रव्य से देवताओं को, कव्य से पितरों को, अन्न से अपने बंधुओं, अतिथियों तथा भिक्षुओं को भिक्षा देकर प्रसन्न ...
4
4
5
भगवान विश्वकर्मा की पूजा और यज्ञ विशेष विधि-विधान से होता है।
5
6
तकनीकी जगत के भगवान विश्वकर्मा की पूजा का त्योहार 17 सितंबर, आज मनाया जा रहा है। इसे विश्वकर्मा जयंती भी कहा जाता है। ...
6
7
भगवान विश्वकर्मा को निर्माण और सृजन का देवता माना जाता है, उन्हें दुनिया का सबसे पहला इंजीनियर भी कहा जाता है। अगर इस ...
7
8
धन-धान्य और सुख-समृद्धि के लिए भगवान विश्वकर्मा की पूजा करना आवश्यक और मंगलदायी है। आइए जानें राशि अनुसार विश्वकर्मा ...
8
8
9
भगवान विश्वकर्मा पूजा का त्योहार 17 सितंबर 2019 मंगलवार को मनाया जाएगा। इस दिन भगवान विश्वकर्मा का जन्म हुआ था।
9
10
गणेशोत्सव की समाप्ति के बाद अंगारकी चतुर्थी 17 सितंबर 2019, मंगलवार को मनाई जा रही है।
10
11
विश्वकर्मा जयंती 17 सितंबर 2019 को मनाई जाएगी। भगवान विश्वकर्मा का जन्म आश्विन कृष्ण पक्ष की प्रतिपदा तिथि को हुआ था। ...
11
12
देवी श्रीलक्ष्मी की कृपा के बगैर धन प्राप्त नहीं किया जा सकता। श्राद्ध पक्ष में अष्टमी का दिन गजलक्ष्मी व्रत को समर्पित ...
12
13
पितर प्रसन्न तो सभी देवता प्रसन्न, श्राद्ध से बढ़कर और कोई कल्याणकारी कार्य नहीं है और वंशवृद्धि के लिए तो पितरों की ...
13
14
श्राद्ध में ब्राह्मण भोजन तथा पंचबलि कर्म किया जाता है। पंचबलि में गाय, कुत्ता और कौवा के साथ 5 स्थानों पर भोजन रखा ...
14
15
ग्रंथों में अश्विन मास के कृष्ण पक्ष को ही श्राद्ध पक्ष माना गया है जो विशेष रूप से पितरों को सम्मानित करने के लिए ...
15
16
यूं तो हर दिन शुभ है अगर हम अपने मन को पवित्र और शुभ कर्मों में प्रवृत्त रखें। लेकिन इसके बावजूद कुछ माह,
16
17
जो पूर्णमासी के दिन श्राद्धादि करता है उसकी बुद्धि, पुष्टि, स्मरणशक्ति, धारणाशक्ति, पुत्र-पौत्रादि एवं ऐश्वर्य की ...
17
18
भाद्रपद शुक्ल पूर्णिमा से 16 दिनों के लिए श्राद्ध पक्ष शुरू हो गया है। पितृ ऋण से मुक्ति के लिए यह समय अतिमहत्वपूर्ण ...
18
19
भविष्यपुराण में मुनि विश्वामृत का हवाला देकर 12 प्रकार के श्राद्धों का वर्णन किया गया है। विष्णु पुराण और गरुड़ पुराण ...
19